Sahitya AajTak

जन्मदिन विशेषः निर्मला गर्ग, 'पृथ्वी खोलती है पुराना एल्बम' और चुनिंदा 5 कविताएं

निर्मला गर्ग एक उम्दा कवयित्री हैं. साहित्य आजतक पर उनके जन्मदिन पर पढ़िए उनकी चुनी हुई पांच कविताएं- पृथ्वी खोलती है पुराना एल्बम, अश्वमेध का घोड़ा, शांति और युद्ध, अयोध्या, मुक्ति का पहला पाठ

Advertisement
aajtak.in [Posted By: जय प्रकाश पाण्डेय]नई दिल्ली, 31 May 2019
जन्मदिन विशेषः निर्मला गर्ग, 'पृथ्वी खोलती है पुराना एल्बम' और चुनिंदा 5 कविताएं निर्मला गर्ग [ फाइल इमेज ]

निर्मला गर्ग एक उम्दा कवयित्री हैं. उनके चार कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं. उन्होंने 'दूसरी हिंदी' नामक कविता संकलन का संपादन भी किया है. निर्मला गर्ग का जन्म 31 मई, 1955 को बिहार के दरभंगा में हुआ था. कथानक, परिवेश, प्रकृति, समाज व स्त्री के मर्म पर गहरी पकड़ के साथ उन्होंने हिंदी साहित्य में अपनी एक खास पहचान बनाई है. कविता लिखना इनके लिए जुलूस में नारे लगाने, मज़दूरों की सभा में शामिल होने, पास-पड़ोस से बातचीत, पौधों में पानी देने, घर की साफ़-सफाई करने आदि अन्यान्य कामों की तरह ही एक काम है. यह अन्याय, शोषण, विषमता का प्रतिकार तो है ही; अपनी मुक्ति, अपना आत्म-विस्तार भी है.

आज निर्मला गर्ग के जन्मदिन पर साहित्य आजतक की ओर से उनकी चुनी हुई पांच कविताएं-

1.
पृथ्वी खोलती है पुराना एल्बम


जब कही कुछ नहीं होता
एक शांत नीली झील मे सुस्ताती है
सारी हलचलें
वक़्त झिरता है धीमे झरने-सा

पृथ्वी खोलती है पुराना एल्बम

जगह-जगह आँसुओं के और ख़ून के धब्बे है उस पर
अनगिनत वारदातें घोड़ों की टापें
धूल और बवंडर के बीच
याद करती है पृथ्वी
वे तारीख़ें
साफ़ किया है जिन्होंने उसकी देह पर का कीचड़
धोया है मुँह बहते पसीने से

याद करेगी पृथ्वी अभी कई चीजें और
और कई चेहरे

- रचनाकाल : 1991

2.
अश्वमेध का घोड़ा


मंच वायदे झंडे नारे
हलचलें सारी ख़ामोश हैं

खामोश हैं राजनीति के आगे मशाल लेकर चलनेवाले

अश्वमेध का घोड़ा
अब सरपट दौड़ेगा
कौन है जो रास इसकी खींचेगा

छत्रप सब मद में चूर हैं अभी भी
किनारे लगा वाम भी
उम्मीदें लगती हैं धराशाई हुई
सिंघनाद है गूँज रहा
पश्चिम ख़ुश हो रहा
पढ़े जा रहे मंत्र निजीकरण निजीकरण निजीकरण

आवारा पूँजी आओ
आसन पर विराजो
हवि देंगे हम किसानों की श्रमिकों की मामूली सब लोगों की
                                                    
- रचनाकाल : 2009

3.
शांति और युद्ध


मै शांति चाहती थी
मैंने ईश्वर की कल्पना की

ईश्वर की ख़ातिर लड़े मैंने
बेहिसाब युद्ध
                 
- रचनाकाल : 2002

4.
अयोध्या


अयोध्या अयोध्या थी
वह थी क्योंकि वहाँ एक नदी बहती थी
वह थी क्योंकि वहाँ लोग रहते थे
वह थी क्योंकि वहाँ सड़कें और गलियाँ थीं
वह थी क्योंकि वहाँ मंदिर में बजती घंटियाँ थीं
और मस्जिद से उठती अजान थी

अयोध्या अयोध्या थी
रामचन्द्र जी के जन्म से पहले भी वह थी
रामचन्द्र जी हमीद मियाँ की बनाई खड़ाऊँ पहने
करते थे परिक्रमा अयोध्या की
सो जाती थी जब अयोध्या रात में
सोई हुई अयोध्या को चुपचाप देखते थे रामचन्द्रजी
बचपन की स्मृतियाँ ढूँढ़ते कभी ख़ुश कभी उदास
हो जाया करते थे रामचन्द्र जी

अयोध्या अब भी अयोध्या है
अपनी क्षत-विक्षत देह के साथ
अयोध्या अब भी अयोध्या है
पूर्वजों के सामूहिक विलाप के साथ

हमीद मियाँ चले गए हैं देखते मुड़-मुड़कर
जला घर
चले गए हैं रामचन्द्र जी भी मलबे की मिट्टी
खूँट में उड़स

- रचनाकाल : 1993

5.
मुक्ति का पहला पाठ


करवाचौथ है आज
मीनू साधना भारती विनीता पूनम राधा
सज-धजकर सब
जा रही हैं कहानी सुनने मिसेज कपूर के घर
आधा घंटा हो गया देसना नहीं आई
405 वालों की बहू है कुछ ही महीने पहले
आए हैं वे लोग यहाँ
भारती उसे बुलाने गई है
ड्राइंगरूम से ही तकरार की आवाज़ें आ रही हैं

देसना की नोंक-झोंक चलती रहती है
कभी पति से कभी सास से
कभी ननद-देवर से
आज महाभारत है व्रत उपवास को लेकर
देसना कह रही है -
'मुझे नहीं सुनी कहानी-वहानी नहीं रखना कोई व्रत
आप कहती हैं सभी सुहागिनें इसे रखती हैं
शास्त्रों में भी यही लिखा है
इससे पति की उम्र लंबी होती है

यह कैसा विधान है !
मैं भूखी रहूँगी तो निरंजन ज़्यादा दिनों तक जिएँगे !
यदि ऐसा है तो निरंजन क्यों नहीं रहते मेरे लिए निराहार
क्या मुझे ज़्यादा वर्षों तक नहीं जीना चाहिए ?
शास्त्रों को स्त्रियों की कोई फ़िक्र नहीं

उन्हें लिखा किसने ?
किसने जोड़ा धर्म से - मैं जानना चाहती हूँ
चाहती हूँ जानें सब स्त्रियाँ
पूछें सवाल
मुक्ति का पहला पाठ है पूछना सवाल .'

साधना मीनू पूनम विनीता राधा
सब सुन रही हैं भारती से देसना की बतकही
मिसेज़ कपूर कहानी सुना रही हैं -
'सात भाइयों की एक बहन थी....'
पर आज कहीं से हुंकारा नहीं आ रहा
                 
-रचनाकाल : 2005

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay