Sahitya AajTak
Sahitya AajTak

ये दिल है इसे तो टूटना था: कृष्ण कुमार तूर के जन्मदिन पर उनकी 3 गज़लें

कृष्ण कुमार तूर हमारे दौर के एक करिश्माई लेखक, कवि और शायर हैं. उनके जन्मदिन पर साहित्य आज तक पर पढ़िए उनकी तीन प्रतिनिधि कविताएं

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 11 October 2019
ये दिल है इसे तो टूटना था: कृष्ण कुमार तूर के जन्मदिन पर उनकी 3 गज़लें प्रतीकात्मक इमेज [सौजन्यः GettyImages] इनसेट में कृष्ण कुमार तूर

कृष्ण कुमार तूर हमारे दौर के एक करिश्माई लेखक, कवि और शायर हैं. जनाब ने लेखन के साथ ही उच्च शिक्षा में भी कमाल किया. इन्होंने उर्दू, अंग्रेज़ी और इतिहास में मास्टर्स की डिग्री हासिल की और पत्रकारिता में भी डिप्लोमा किया. तूर 11 अक्तूबर, 1933 को हिमाचल प्रदेश में पैदा हुए. वहीं पढ़ाई लिखाई की और हिमाचल प्रदेश के टूरिज़्म विभाग में उच्च अधिकारी भी रहे.

इनके द्वारा लिखे क़लाम उर्दू जगत की तमाम मशहूर पत्र-पत्रिकाओं में तो छपते रहे. कभी यह उर्दू मुशायरों की शान रहे. इनकी रचनाओं में आलम ऐन; मुश्क-मुनव्वर; शेर शगुफ़्त; रफ़्ता रम्ज़; सरनामा-ए-गुमाँ नज़री, चश्मा-ए-चश्म, गोरफा-ए-गालिब, दरियाफ्त व तरतीब, एक कविता-संग्रह गुर्फ-ए-ग़ैब आदि शामिल हैं. साहित्य में योगदान के लिए हिमाचल साहित्य अकादमी पुरस्कार सहित उर्दू कविताओं के लिए गालिब पुरस्कार से भी नवाजे गए. साल 2012 में कविता-संग्रह गुर्फ-ए-ग़ैब के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से भी नवाजे गए.

तूर के जन्मदिन पर साहित्य आज तक पर पढ़िए उनकी तीन प्रतिनिधि कविताएं-


1.
अब सामने लाएँ आईना क्या
हम ख़ुद को दिखाएँ आईना क्या

ये दिल है इसे तो टूटना था
दुनिया से बचाएँ आईना क्या

हम अपने आप पर फ़िदा हैं
आँखों से हटाएँ आईना क्या

इस में जो अक्स है ख़बर है
अब देखें दिखाएँ आईना क्या

क्या दहर को इज़ने-आगही दें
पत्थर को दिखाएँ आईना क्या

उस रश्क़े-क़मर से वस्ल रखें
पहलू में सुलाएँ आईना क्या

हम भी तो मिसाले-आईना हैं
अब ‘तूर’ हटाएँ आईना क्या

2.
तेरे ही क़दमों में मरना भी अपना जीना भी
कि तेरा प्यार है दरिया भी और सफ़ीना भी

मेरी नज़र में सभी आदमी बराबर हैं
मेरे लिए जो है काशी वही मदीना भी

तेरी निगाह को इसकी ख़बर नहीं शायद
कि टूट जाता है दिल-सा कोई नगीना भी

बस एक दर्द की मंज़िल है और एक मैं हूँ
कहूँ कि 'तूर'! भला क्या है मेरा जीना भी.

3.
राह-ए-सफ़र से जैसे कोई हमसफ़र गया
साया बदन की क़ैद से निकला तो मर गया

ताबीर जाने कौन से सपने की सच हुई
इक चाँद आज शाम ढले मेरे घर गया

थी गर्मी-ए-लहू की उम्मीद ऐसे शख़्स से
इक बर्फ़ की जो सिल मेरे पहलू में धर गया

है छाप उसके रब्त की हर एक शेर पर
वो तो मेरे ख़याल की तह में उतर गया

इन्सान बस ये कहिए कि इक ज़िन्दा लाश है
हर चीज़ मर गई अगर एहसास मर गया

इस ख़्वाहिश-ए-बदन ने न रक्खा कहीं का 'तूर'!
इक साया मेरे साथ चला मैं जिधर गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay