Sahitya AajTak
Indira Gandhi National Centre for the Arts, New Delhi

रवींद्रनाथ टैगोर: जिनकी कविताएं बनीं दो देश का राष्ट्रगीत

आज रवींद्रनाथ टैगोर की जयंती है. उनकी ये कविताएं दो देश का राष्ट्रगीत है.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
aajtak.in [Edited by: प्रियंका शर्मा]नई दिल्ली, 12 November 2018
रवींद्रनाथ टैगोर: जिनकी कविताएं बनीं दो देश का राष्ट्रगीत रवींद्रनाथ टैगोर

आज नोबेल पुरस्कार से सम्मानित कवि, उपन्‍यासकार, नाटककार, चित्रकार, और दार्शनिक रवींद्रनाथ टैगोर की जयंती है. उनका जन्म का जन्‍म 7 मई सन 1861 को कोलकाता में हुआ था. वे ऐसे मानवतावादी विचारक थे, जिन्‍होंने साहित्य, संगीत, कला और शिक्षा जैसे क्षेत्रों में अपनी अनूठी प्रतिभा का परिचय दिया. आइए जानते हैं उनके जीवन से जुड़ी कई अहम बातें...

- रवींद्रनाथ अपने माता-पिता की तेरहवीं संतान थे. बचपन में उन्‍हें प्‍यार से 'रबी' बुलाया जाता था. आठ वर्ष की उम्र में उन्‍होंने अपनी पहली कविता लिखी, सोलह साल की उम्र में उन्‍होंने कहानियां और नाटक लिखना प्रारंभ कर दिया था.

80 साल से खामोशी में टंगी जिन्ना की एक तस्वीर पर खदबदाती सियासत

- रवींद्रनाथ टैगोर एशिया के प्रथम व्‍यक्ति थे, जिन्‍हें नोबल पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया था. रवींद्रनाथ टैगोर दुनिया के संभवत: एकमात्र ऐसे कवि हैं, जिनकी रचनाओं को दो देशों ने अपना राष्ट्रगान बनाया.

- रवींद्रनाथ टैगोर को प्रकृति का सानिध्य काफी पसंद था. उनका मानना था कि छात्रों को प्रकृति के सानिध्य में शिक्षा हासिल करनी चाहिए. अपने इसी सोच को ध्यान में रख कर उन्होंने शांति निकेतन की स्थापना की थी.

जानें- जन गण मन कैसे बना भारत का राष्ट्रगान

- बचपन से कुशाग्र बुद्धि के रवींद्रनाथ ने देश और विदेशी साहित्य, दर्शन, संस्कृति आदि को अपने अंदर समाहित कर लिया था. उन्होंने साहित्य के क्षेत्र में अपूर्व योगदान दिया और उनकी रचना गीतांजलि के लिए उन्हें साहित्य के नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.

- जीवन के 51 वर्षों तक उनकी सारी उप‍लब्धियां कलकत्‍ता और उसके आसपास के क्षेत्र तक ही सीमित रही. 51 वर्ष की उम्र में वे अपने बेटे के साथ इंग्‍लैंड जा रहे थे. समुद्री मार्ग से भारत से इंग्‍लैंड जाते समय उन्‍होंने अपने कविता संग्रह गीतांजलि का अंग्रेजी अनुवाद करना प्रारंभ किया.

- रवींद्र संगीत बांग्ला संस्कृति का अभिन्न अंग बन गया है. हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत से प्रभावित उनके गीत मानवीय भावनाओं के विभिन्न रंग पेश करते हैं. गुरुदेव बाद के दिनों में चित्र भी बनाने लगे थे. रवींद्रनाथ ने अमेरिका, ब्रिटेन, जापान, चीन सहित दर्जनों देशों की यात्राएं की थी.

- 7 अगस्त 1941 को गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर का निधन हो गया.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay