जयंती विशेषः मुंशी प्रेमचंद की कालजयी कहानी- ठाकुर का कुआँ

प्रेमचंद की कहानियों के रचना-शिल्प की बुनियादी विशेषता यह है कि वह कहीं से भी, किसी भी कोण से, आयासजन्य नहीं है. आज उनकी जयंती पर पढ़ें, उनकी यह कालजयी कहानी, जिसमें अपने समय की जातिगत विडंबना साफ दिखाई देती है

Advertisement
Aajtak.inनई दिल्ली, 31 July 2019
जयंती विशेषः मुंशी प्रेमचंद की कालजयी कहानी- ठाकुर का कुआँ प्रेमचंद की सम्पूर्ण कहानियां पुस्तक का कवर [सौजन्यः राजकमल प्रकाशन]

 हिंदी, उर्दू में शायद ही कोई ऐसा पाठक हो, जिसने मुंशी प्रेमचंद का नाम न सुना हो. वह कथा सम्राट, उपन्यास सम्राट यों ही नहीं कहे जाते. उन्होंने भारतीय समाज, गांव और अपने दौर का जैसा चित्र खींचा वह अप्रतिम है. मुंशी प्रेमचंद का असली नाम धनपत राय था. उनका जन्म 31 जुलाई 1880 को बनारस के पास लमही गाँव में हुआ था. उस जमाने में उनके पिता को बीस रुपए तनख्वाह मिलती थी.

कहते हैं जब धनपत राय सात साल के थे, तभी उनकी माता का स्वर्गवास हो गया. जब वे पन्द्रह साल के हुए, तब उनकी शादी कर दी गई और सोलह साल के होने पर उनके पिता का भी देहान्त हो गया. जैसाकि लोग कहते हैं- लड़कों की यह उम्र खेलने-खाने की होती है लेकिन प्रेमचंद को तभी से घर सँभालने की चिंता करनी पड़ी. जब वह नवें दर्जे में पढ़ते थे, तब उनकी गृहस्थी में दो सौतेले भाई, सौतेली माँ और खुद उनकी पत्नी शामिल हो चुकी थीं.

स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद अनेक प्रकार के संघर्षों से गुजरते हुए उन्होंने 1919 में अंग्रेजी, फारसी और इतिहास लेकर बीए किया; किंतु उससे काफी पहले 1901 से ही उन्होंने उर्दू में कहानी लिखना शुरू कर दिया था. उर्दू में वह नवाब राय नाम से लिखा करते थे. 1910 में उनकी उर्दू में लिखी कहानियों का पहला संकलन सोज़े वतन प्रकाशित हुआ.

इस संकलन के ब्रिटिश सरकार द्वारा जब्त कर लिए जाने पर उन्होंने नवाब राय छोड़कर प्रेमचंद नाम से लिखना शुरू किया. ‘प्रेमचंद’ - यह प्यारा नाम उन्हें एक उर्दू लेखक और संपादक दयानारायन निगम ने दिया था. जालियाँवाला बाग हत्याकांड और असहयोग आंदोलन के छिड़ने पर प्रेमचंद ने अपनी बीस साल की नौकरी पर लात मार दी.

1930 के अवज्ञा-आन्दोलन के शुरू होते-होते उन्होंने ‘हंस’ का प्रकाशन भी आरम्भ कर दिया. प्रेमचंद को कथा-सम्राट बनाने में जहाँ उनकी सैकड़ों कहानियों का योगदान है, वहीं गोदान, सेवासदन, प्रेमाश्रम, गबन, रंगभूमि, निर्मला जैसे उपन्यास उन्हें हिंदी साहित्य में हमेशा अमर बनाए रखेंगे.

प्रेमचंद की संपूर्ण कहानियां संकलन के बारे में शिवकुमार मिश्र ने लिखा है, प्रेमचंद जब कथा के मंच पर आए, वे भारत की अपनी कथा परंपरा से तो परिचित थे ही, उर्दू और अरबी-फ़ारसी के किस्सों और अफसानों की भी उनको पूरी जानकारी थी. पश्चिम के कथा-लेखकों को भी उन्होंने पढ़ा था. बावजूद इसके उनकी रचनाएँ कथा-लेखन के किसी निश्चित रूप में ढलने के बजाय, अभिव्यक्ति के उनके अपने दृष्टिकोण की अनुरूपता में सामने आईं, कि कहानी को पारदर्शी होना चाहिए, वह सारगर्भित हो और अपने संवेदनात्मक उद्देश्य को पाठक तक भलीभाँति संप्रेषित कर पाने में समर्थ हो.

प्रेमचंद की कहानियों के रचना-शिल्प की बुनियादी विशेषता यह है कि वह कहीं से भी, किसी भी कोण से, आयासजन्य नहीं है. नितांत सहज और साधारण है. यह सहजता और साधारणता ही उसकी सबसे बड़ी विशेषता है. प्रेमचंद ने अपनी कहानियों के रचना-शिल्प में घटनाओं के बजाय स्थितियों और संदर्भों को ज्यादा महत्व दिया है. उनकी कहानियाँ इसी नाते घटना-प्रधान कहानियाँ नहीं हैं और न ही घटना-प्रधान कहानियों की तरह वे पाठकों में कौतूहल या जिज्ञासा वृत्ति उपजाती हैं.

प्रेमचंद की कहानियों का पाठक ‘आगे क्या होगा’ की जिज्ञासा के बजाय चित्रित स्थितियों और प्रसंगों के बीच से उभरते हुए प्रेमचंद के संवेदनात्मक उद्देश्य के साथ हो जाता है और उसके विकास में रुचि लेने लगता है. प्रेमचंद अपने पाठक को अपनी संवेदना के वृत्त में इस तरह ले लेते हैं कि वह उनकी बुनी हुई स्थितियों और उनके रचे चरित्रों के साथ-साथ आगे बढ़ता जाता है. वह कहानीकार का हमसफर बन जाता है.

प्रेमचंद की कहानियों के रचना-शिल्प को बारीकी से देखें तो स्पष्ट होगा कि प्रेमचंद एक रचनाकार के रूप में कहानी में अनावश्यक दखल नहीं देते. वे अपने संवेदनात्मक उद्देश्य को कहानी में बुनी गई स्थितियों और प्रसंगों के माध्यम से उजागर करते हैं और चूँकि इन स्थितियों और प्रसंगों का सम्बन्ध उनकी कल्पना से न होकर जीवन के यथार्थ और जीवन की सच्चाइयों से होता है, अतएव पाठक के दिल-दिमाग में उनकी विश्वसनीयता आप से आप अंकित हो जाती है.

आज मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर हम लोक भारती द्वारा प्रकाशित 'प्रेमचंद की संपूर्ण कहानियां' से उनकी कालजयी कहानी ठाकुर का कुआं साहित्य आजतक के पाठकों के लिए प्रस्तुत कर रहे.

कहानीः ठाकुर का कुआँ
 
                - प्रेमचंद

जोखू ने लोटा मुँह से लगाया तो पानी में सख्त बदबू आयी. गंगी से बोला- यह कैसा पानी है? मारे बास के पिया नहीं जाता। गला सूखा जा रहा है और तू सड़ा हुआ पानी पिलाए देती है।
गंगी प्रतिदिन शाम को पानी भर लिया करती थी. कुआँ दूर था; बार-बार जाना मुश्किल था. कल वह पानी लायी, तो उसमें बू बिलकुल न थी; आज पानी में बदबू कैसी? लोटा नाक से लगाया, तो सचमुच बदबू थी. जरूर कोई जानवर कुएँ में गिरकर मर गया होगा, मगर दूसरा पानी आवे कहाँ से?
ठाकुर के कुएँ पर कौन चढ़ने देगा. दूर से लोग डाँट बताएँगे. साहू का कुआँ गाँव के उस सिरे पर है; परन्तु वहाँ भी कौन पानी भरने देगा? चौथा कुआँ गाँव में है नहीं.
जोखू कई दिन से बीमार है. कुछ देर तक तो प्यास रोके चुप पड़ा रहा, फिर बोला- अब तो मारे प्यास के रहा नहीं जाता. ला, थोड़ा पानी नाक बन्द करके पी लूँ.
गंगी ने पानी न दिया. खराब पानी पीने से बीमारी बढ़ जायगी- इतना जानती थी; परन्तु यह न जानती थी कि पानी को उबाल देने से उसकी खराबी जाती रहती है. बोली यह पानी कैसे पियोगे? न जाने कौन जानवर मरा है. कुएँ से मैं दूसरा पानी लाये देती हूँ.
जोखू ने आश्चर्य से उसकी ओर देखा- दूसरा पानी कहाँ से लायेगी?
 ‘ठाकुर और साहू के दो कुएँ तो हैं. क्या एक लोटा पानी न भरने देंगे?’
 ‘हाथ-पाँव तुड़वा आयेगी और कुछ न होगा. बैठ चुपके से. ब्रह्म-देवता आशीर्वाद देंगे, ठाकुर लाठी मारेंगे, साहूजी एक के पाँच लेंगे. गरीबों का दर्द कौन समझता है! हम तो मर भी जाते हैं, तो कोई दुआर पर झाँकने नहीं आता, कंधा देना तो बड़ी बात है. ऐसे लोग कुएँ से पानी भरने देंगे?’
इन शब्दों में कडुवा सत्य था. गंगी क्या जवाब देती; किन्तु उसने वह बदबूदार पानी पीने को न दिया.
 
रात के नौ बजे थे. थके-माँदे मजदूर तो सो चुके थे, ठाकुर के दरवाजे पर दस-पाँच बेफिक्रे जमा थे. मैदानी बहादुरी का तो अब न जमाना रहा है, न मौका. कानूनी बहादुरी की बातें हो रही थीं; कितनी होशियारी से ठाकुर ने थानेदार को एक खास मुकद्दमे में रिश्वत दे दी और साफ निकल गये. कितनी अक्लमन्दी से एक मार्के के मुकद्दमे की नकल ले आये. नाजिर और मोहतमिम, सभी कहते थे, नकल नहीं मिल सकती. कोई पचास माँगता; कोई सौ. यहाँ बेपैसे-कौड़ी नकल उड़ा दी. काम करने का ढंग चाहिए.
इसी समय गंगी कुएँ से पानी लेने पहुँची.
कुप्पी की धुँधली रोशनी कुएँ पर आ रही थी. गंगी जगत की आड़ में बैठी मौके का इन्तजार करने लगी. इस कुएँ का पानी सारा गाँव पीता है. किसी के लिए रोक नहीं; सिर्फ ये बदनसीब नहीं भर सकते.।
गंगी का विद्रोही दिल रिवाजी पाबन्दियों और मजबूरियों पर चोटें करने लगा- हम क्यों नीच हैं और यह लोग क्यों ऊँच हैं? इसलिए कि ये लोग गले में तागा डाल लेते हैं? यहाँ तो जितने हैं, एक-से-एक छँटे हैं? चोरी ये करें, जाल-फरेब ये करें, झूठे मुकद्दमे ये करें. अभी इस ठाकुर ने तो उस दिन बेचारे गड़रिये की एक भेड़ चुरा ली थी और बाद में मारकर खा गया. इन्हीं पण्डितजी के घर में बारहों मासा जुआ होता है. यही साहूजी तो घी में तेल मिलाकर बेचते हैं. काम करा लेते हैं, मजूरी देते नानी मरती है. किस बात में हैं हमसे ऊँचे. हाँ, मुँह में हमसे ऊँचे हैं. हम गली-गली चिल्लाते नहीं कि हम ऊँचे हैं, हम ऊँचे हैं! कभी गाँव में आ जाती हूँ, तो रसभरी आँखों से देखने लगते हैं. जैसे सबकी छाती पर साँप लोटने लगता है, परन्तु घमण्ड यह कि हम ऊँचे हैं.
कुएँ पर किसी के आने की आहट हुई. गंगी की छाती धक-धक करने लगी। कहीं देख ले, तो गजब हो जाय.
एक लात भी तो नीचे न पड़े. उसने घड़ा और रस्सी उठा ली और झुककर चलती हुई एक वृक्ष के अंधेरे साये में जा खड़ी हुई. कब इन लोगों को दया आती है किसी पर. बेचारे महँगू को इतना मारा कि महीनों लहू थूकता रहा. इसलिए कि उसने बेगार न दी थी! उस पर ये लोग ऊँचे बनते हैं.
कुएँ पर दो स्त्रियाँ पानी भरने आयी थीं. इनमें बातें हो रही थीं.
‘खाना खाने चले और हुक्म हुआ कि ताजा पानी भर लाओ. घड़े के लिए पैसे नहीं है.’
‘हम लोगों को आराम से बैठे देखकर जैसे मरदों को जलन होती है.’
‘हाँ, यह तो न हुआ कि कलसिया उठाकर भर लाते. बस, हुकुम चला दिया कि ताजा पानी लाओ, जैसे हम लौंडियाँ ही तो हैं.’
‘लौंडिया नहीं तो और क्या हो तुम? रोटी-कपड़ा नहीं पातीं? दस-पाँच रुपये छीन-झपट कर ले ही लेती हो. और लौंडिया कैसी होती है.’
‘मत लजाओ दीदी! छिन भर आराम करने को जी तरस कर रह जाता है. इतना काम किसी दूसरे के घर कर देती, तो इससे कहीं आराम से रहती. ऊपर से वह एहसान मानता. यहाँ काम करते-करते मर जाओ; पर किसी का मुँह ही नहीं सीधा होता.’
दोनों पानी भरकर चली गयीं, तो गंगी वृक्ष की छाया से निकली और कुएँ के जगत के पास आयी. बेफिक्रे चले गये थे. ठाकुर भी दरवाजा बन्द कर अन्दर आँगन में सोने जा रहे थे. गंगी ने क्षणिक सुख की साँस ली. किसी तरह मैदान तो साफ हुआ. अमृत चुरा लाने के लिए जो राजकुमार किसी जमाने में गया था, वह भी शायद इतनी सावधानी के साथ और समझ-बूझकर न गया होगा. गंगी दबे पाँव कुएँ के जगत पर चढ़ी. विजय का ऐसा अनुभव उसे पहले कभी न हुआ था.
उसने रस्सी का फंदा घड़े में ढाला. दायें-बायें चौकन्नी दृष्टि से देखा, जैसे कोई सिपाही रात को शत्रु के किले में सुराख कर रहा हो. अगर इस समय वह पकड़ ली गयी, तो फिर उसके लिए माफी या रिआयत की रत्ती-भर उम्मीद नहीं. अन्त में देवताओं को याद करके उसने कलेजा मजबूत किया और घड़ा कुएँ में डाल दिया.
घड़े ने पानी में गोता लगाया, बहुत ही आहिस्ता. जरा भी आवाज न हुई. गंगी ने दो चार हाथ जल्दी-जल्दी मारे. घड़ा कुएँ से मुँह तक आ पहुँचा. कोई बड़ा शहज़ोर पहलवान भी इतनी तेजी से उसे न खींच सकता था.
गंगी झुकी कि घड़े को पकड़कर जगत पर रखे, कि एकाएक ठाकुर साहब का दरवाजा खुल गया. शेर का मुँह इससे अधिक भयानक न होगा.
गंगी के हाथ से रस्सी छूट गयी. रस्सी के साथ घड़ा धड़ाम से पानी में गिरा और कई क्षण तक पानी में हलकोरे की आवाजें सुनाई देती रहीं.
ठाकुर, ‘कौन है, कौन है?’ पुकारते हुए कुएँ की तरफ आ रहे थे और गंगी जगत से कूदकर भागी जा रही थी
घर पहुँचकर देखा कि जोखू लोटा मुँह से लगाये वही मैला-गंदा पानी पी रहा है.
 
***
पुस्तकः सम्पूर्ण कहानियां
लेखकः
प्रेमचंद
विधा:
कहानी
प्रकाशकः
लोक भारती प्रकाशन
मूल्यः
300 रुपये
पृष्ठ संख्याः
750

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay