Sahitya AajTak
Sahitya AajTak

साक्षात्कारः भालचंद्र जोशी; हर कालखंड में साहित्य की चुनौतियां भिन्न-भिन्न होती हैं

भालचंद्र जोशी समकालीन भारतीय साहित्य के एक यशस्वी हस्ताक्षर हैं. साहित्य आजतक ने उनके जन्मदिन पर उनकी लेखकीय यात्रा, साहित्य की सियासत, पुरस्कारों की राजनीति और पाठकों की रूचि के अलावा उनके भविष्य के लेखन योजना पर बातचीत की.

Advertisement
aajtak.in
जय प्रकाश पाण्डेय नई दिल्ली, 12 September 2019
साक्षात्कारः भालचंद्र जोशी; हर कालखंड में साहित्य की चुनौतियां भिन्न-भिन्न होती हैं कथाकार भालचंद्र जोशी

आठवें दशक के उत्तरार्ध में लेखन की शुरुआत करने वाले चर्चित कथाकार भालचंद्र जोशी का जन्म मध्य प्रदेश के खरगोन में 17 अप्रैल, 1956 को हुआ . पेशे से इंजीनियर जोशी ने अंग्रेजी साहित्य में एमए भी किया और आठवें दशक के उत्तरार्द्ध में कथा लेखन की शुरुआत की. आदिवासी जीवन पद्धति तथा कला का विशेष अध्ययन करने के साथ ही वह कहानी, उपन्यास, आलोचना, लेख और संपादन विधा में न केवल प्रचुर लेखन किया, बल्कि अपने कहानी संग्रह 'नींद से बाहर', 'पहाड़ों पर रात', 'चरसा', 'पालवा', 'जल में धूप', 'हत्या की पावन इच्छाएं' और उपन्यास 'प्रार्थना में पहाड़' और 'जस का फूल' से साहित्य जगत पर अपनी सबल छाप छोड़ी है. उनकी एक आलोचना पुस्तक 'यथार्थ की यात्रा' नाम से प्रकाशित है. इसके अतिरिक्त उन्होंने साहित्य की मासिक पत्रिका 'कथादेश' के जुलाई 2002 के नवलेखन अंक और कुछ समय तक लघु पत्रिका 'यथार्थ' का संपादन भी किया है.

अपनी साहित्य सेवाओं के लिए वह अब तक वागीश्वरी पुरस्कार, अंबिका प्रसाद दिव्य स्मृति पुरस्कार, शब्द साधक जनप्रिय लेखक सम्मान, अभिनव शब्द शिल्पी सम्मान, स्पंदन कृति सम्मान और शैलेश मटियानी कथा पुरस्कार से नवाजे जा चुके हैं. उनके लेखन की विशेषता यह है कि यथार्थ चाहे वह जितना भी कड़वा हो, संकेत व संवेदना के सम्मिश्रण से अपना सा लगता है. वह शब्दों से चलचित्र खींचते हैं, और पाठक कथानक के प्रभाव में आए बिना नहीं रह सकता. साहित्य आजतक ने यशस्वी कथाकार भालचंद्र जोशी से उनके जन्मदिन पर बातचीत की.

1.   अपने लेखक होने की प्रक्रिया के बारे में हमारे पाठकों को कुछ बताएं?

- मुझे तो आज तक खुद समझ में नहीं आया. कभी कभी कोई एक कहानी की तस्वीर मन में होती है, कभी कोई एक वाक्य ही होता है जो पूरी कहानी में तब्दील हो जाता है. कभी कोई कहानी का एक छोटा सा धुंधला सा हिस्सा मन के किसी अंधेरे कोने में बैठा रहता है फिर एकाएक किसी एक अनजान दबाव में वो ऊपर आता है कहानी बनकर. बरसों बरस आदिवासियों के बीच जंगलों में रहा. जंगल में रहने के अनुभव बाद में लेखन के काम आए यानी यह यात्रा निरंतर देखने, समझने और सीखते रहने और लिखते रहने की यात्रा रही. तो मुझे लगता है कि ज्यादा बेहतर रहा. लगभग 19- 20 बरस की उम्र में कहानियां लिखना शुरू कर दी थी और कहानियां बड़ी पत्रिकाओं में छपने लगीं. शुरुआत में कम लिखा लेकिन यह जल्दी ही महसूस हो गया कि लेखन के बगैर अब छुटकारा नहीं, लिखना एक तरह की कि विवशता हो गया.

2.   एक इंजीनियर को उसकी व्यावसायिक जिम्मेदारियां ज्यादा लुभाती हैं या शब्दों की दुनिया?

- इंजीनियर होना रोटी की मजबूरी है. रोजगार की विवशता. वरना मैं तो एक स्कूल में अध्यापक होना चाहता था. लेकिन शुरुआत में लिखते हुए अनजाने ही एक दिन पता चला कि मैं कहानियां लिखने लगा हूं और शब्दों की दुनिया के भीतर ही मेरी अपनी दुनिया है. शब्दों की दुनिया से बाहर मेरे लिए बाहर की दुनिया ज्यादा कठिन है. इस कठिनाई और जटिलता से बाहर निकलने के लिए या कहें प्रतिकार के लिए मुझे लिखते रहना ज्यादा भाता है. बहुत जल्दी मुझे लगने लगा था कि इंजीनियर बहुत सारे हो सकते हैं. लेकिन लेखक तो कोई कोई ही होता है.  इंजीनियर होने की जिम्मेदारी से ज्यादा बड़ी जिम्मेदारी लेखक होने की है. जहां लिखते हुए मनुष्यता के बड़े संदर्भ सामने होते हैं. एक आदमी की तकलीफ लिखते हुए तमाम मनुष्यों की तकलीफ लिखना कठिन है लेकिन जरूरी भी. यही एक कहानीकार का पहला दायित्व है.

3.   अपने अब तक के लिखे में से किस कृति को आप अपनी श्रेष्ठ रचना मानते हैं? और क्यों?

- किसी एक कहानी का नाम बताना बहुत कठिन काम है. एक लेखक को अपनी हर रचना से प्रेम होता है. हर कहानी एक चुनौती की भांति हर बार खड़ी होती है. किसी एक का नाम बताना दूसरे के साथ ज्यादती है. हर कहानी ने उतनी ही कठिन परीक्षा ली है जितनी पहली कहानी ने... इसलिए किसी एक कहानी का नाम बताना थोड़ा कठिन लगता है. हर कहानी की भाषा, शिल्प और कंटेंट  भिन्न-भिन्न है, इसलिए किसी एक कहानी को किसी एक आधार पर अरुचि के खाते में नहीं डाला जा सकता है.

4.   आज हिंदी साहित्य में जो कुछ लिखा जा रहा है, उस पर आपकी प्रतिक्रिया?

- आज स्थिति ज्यादा बेहतर भी है और आंशिक रूप से बुरी भी.  बेहतर इसलिए की नवलेखन में कहानी को लेकर कहे तो शिल्प के स्तर पर बड़ा काम हुआ है, लेकिन बुरा यह हुआ कि अब सब कुछ बाजार के हवाले होता जा रहा है. अधिकांश युवा लेखकों के आदर्श प्रेमचंद, रेणु नहीं हैं बल्कि चेतन भगत हैं. सस्ती लोकप्रियता ज्यादा आकर्षित करती है. जैसे समाज और जीवन में मूल्य खत्म हो रहे हैं उसका असर रचनात्मकता पर भी पड़ रहा है. यह एक दुखद स्थिति है. सब कुछ बाजार के हवाले हैं. लेकिन अधिकांश लेखक खुश हैं और गर्व से कहते हैं कि यह विकास है वरना क्या अभी भी बैलगाड़ी युग में रहा जाए ? बाजार जो विकास दे रहा है, उसका मूल्य हमारी सामाजिक और सांस्कृतिक अस्मिता को केंद्र में रखकर चुकाना पड़ रहा है. भाषा, समाज और संस्कृति की चिंता किसी को नहीं है, यह दुखद स्थिति है. दरअसल हर कालखंड में साहित्य के सामने चुनौतियां भिन्न-भिन्न होती हैं. आज पूर्व साहित्यकारों के कृतित्व से गहन अंतर्दृष्टि और सरोकारों के साथ संबंध नहीं बन पा रहे हैं. प्रत्येक के अपने निजी आग्रह वैशिष्ट्य प्रकट होने लगे हैं. लिखे हुए की सार्थकता इसी में है कि बाद के लेखक उससे एक रचनात्मक चुनौती हासिल कर सकें. दरअसल लेखन सामाजिकता में शामिल होकर खुद की तलाश का आध्यात्मिक और मौलिक तरीका है. लेखन निज के आधार पर सामाजिक सरोकारों की संवेदनशील खोज और पड़ताल है और अभिव्यक्ति के स्तर पर उसका हासिल है.

5.   साहित्य जगत में खेमेबंदी लेखक को कितना और किस स्तर पर प्रभावित करती है?  

- खेमेबंदी का मुख्य कारण पद, पुरस्कार, पावर और सत्ता से नजदीकी की इच्छा और दूसरे कारण हैं. जो लेखक पुरस्कार पाना चाहता है और उसे नहीं मिल पाता, तो इस खेमे बंदी को कोसने लग जाता है और जरा सा अवसर मिलते ही इसी गंदगी का हिस्सा हो जाता है. लेकिन जो पुरस्कार मोह से मुक्त हो जाता है, उस पर खेमेबंदी का कोई असर नहीं होता. वह अपने एकांत में निरंतर लिखता रहता है. खेमेबंदी ने अनेक लेखकों को, अनेक प्रतिभाओं का नुकसान किया है, लेकिन आज के इस बाजार समय में यह एक तरह की स्वीकृत गिरोह बाजी है. इसी खेमेबाजी के कारण अनेक लेखक अवसाद का शिकार हुए क्योंकि खेमों ने अपने चहेतों को चाहे वह तीसरे दर्जे की प्रतिभा हो, प्रमोट किया. इस गिरोहबाजी ने चाटुकारिता को प्राथमिकता में रखा और प्रतिभा की उपेक्षा की. भूनेश्वर और मुक्तिबोध जैसे लेखकों को मरघट के रास्ते साहित्यिक स्वीकृति और प्रसिद्धि मिली, यानी मरने के बाद. खेमेबाजी ने अनेक प्रतिभाहीन लेखिकाओं को भी खेमेबाजी के चोर दरवाजे से प्रवेश और प्रसिद्धि दिलाई.

6.   आपका उपन्यास ‘जस का फूल’ काफी चर्चित रहा? इसके पात्र कितने असली और कितने काल्पनिक हैं? इसके बारे में बताने के साथ ही यह भी बताएं कि इन दिनों आप क्या लिख रहे हैं?

- जस का फूल के पात्र जीवन से उठाए गए पात्र हैं. बस मैंने इतना भर किया है कि जीवन यथार्थ को कथा यथार्थ में बदल दिया और यह पात्र मेरे ही जीवन में क्यों हर किसी के जीवन में हर किसी के आसपास नजर आ जाएंगे. यह बहुत ही सामान्य और कॉमन लोग हैं. इनकी विशिष्टता इनकी सामान्यता में छिपी है. महत्त्वपूर्ण तो यह है कि यह पात्र जीवन और यथार्थ के करीब लगते हैं. जीवन से कथा में और कथा से जीवन में इनकी आवाजाही सहज बनी हुई है. यही उपन्यास की भी सहजता है. जब लोग कहते हैं कि इस उपन्यास के पात्र हमें अपने आसपास के और सहज लगते हैं तो मुझे लगता है कि लिखना सार्थक हुआ.

इनदिनों आदिवासियों के जीवन-संघर्ष को लेकर एक उपन्यास पर काम कर रहा हूं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay