साहित्य आजतक 2019 के लिए फ्री रजिस्ट्रेशन शुरू, जल्दी करें...

साहित्य के सबसे बड़े महाकुंभ 'साहित्य आजतक 2019' की घोषणा हो चुकी है. यह मेला इस साल 1 नवंबर से 3 नवंबर को लगेगा. इसके लिए फ्री रजिस्ट्रेशन की शुरुआत हो चुकी है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 20 August 2019
साहित्य आजतक 2019 के लिए फ्री रजिस्ट्रेशन शुरू, जल्दी करें... #SahityaAajTak19

नई दिल्लीः साहित्य के सबसे बड़े महाकुंभ 'साहित्य आजतक 2019 ' की घोषणा हो चुकी है. यह मेला इस साल 1 नवंबर से 3 नवंबर को लगेगा. राजधानी के इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र में सजने वाले इस मेले में एक बार फिर कला, साहित्य, संगीत, संस्कृति और किताबों से जुड़े महारथी जुटने के लिए तैयार हैं.

खास बात यह है कि इस बार 'साहित्य आजतक 2019 ' और भी बड़ा, और भी भव्य, और भी आकर्षक होगा. इस साल इस आयोजन में कई और भारतीय भाषाएं और उनके दिग्गज लेखक जुड़ रहे हैं. हिंदी, उर्दू, भोजपुरी, मैथिली, अंग्रेजी के अलावा, राजस्थानी, पंजाबी, ओड़िया, बंगाली, गुजराती, मराठी, छत्तीसगढ़ी जैसी कई भाषाओं और बोलियों के साहित्यकारों ने भारतीय भाषाओं के दुनिया के इस सबसे बड़े साहित्यिक मेले में शिरकत होने की स्वीकृति दी है.

इस साल 'साहित्य आजतक 2019 ' की व्यापकता का अंदाज इसी से लगाया जा सकता है कि कई माह पहले से इसकी तैयारियां शुरू हो चुकी हैं. साल दर साल दर्शकों की बढ़ती संख्या के चलते दर्शकों की सुविधा के मद्देनजर इस साल रजिस्ट्रेशन लाइंस भी काफी पहले से खोल दी गई हैं. पर इस आयोजन में इस साल कौन-कौन सी साहित्यिक, सांस्कृतिक हस्तियां शिरकत कर रही हैं, इसे जानने के लिए आपको थोड़ा सा इंतजार करना होगा.

फिलहाल हम आपको यह बता दें कि 'साहित्य आज तक ' दूसरे साहित्यिक आयोजनों से पूरी तरह से अलग है और अपनी एक विशिष्ट पहचान रखता है. देश के सबसे तेज और सर्वाधिक लोगों द्वारा देखे जाने वाले हिंदी समाचार चैनल 'आजतक' की ओर से हर साल साहित्य के इस महाकुंभ का आयोजन किया जाता है. इस बार 'साहित्य आज तक ' का यह चौथा साल है.

साल 2016 में पहली बार 'साहित्य आजतक' की शुरुआत हुई थी. उस साल यह मेला दो दिवसीय था और इंदिरा गांधी नेशनल सेंटर ऑफ आर्ट्स में ही 12 और 13 नवंबर को हुआ था. तब 'साहित्य आजतक ' के मंच पर पहली बार भारतीय साहित्य के दिग्गज विद्वान, कवि, लेखक, संगीतकार, अभिनेता, और अन्य कलाकार एक साथ पर नजर आए थे.

sahitya-aajtak-2019_082019122747.jpg



पहले साल 'साहित्य आजतक ' के कार्यक्रम में जावेद अख्तर, अनुपम खेर, कुमार विश्वास, प्रसून जोशी, पीयूष मिश्रा, अनुराग कश्यप, चेतन भगत, आशुतोष राणा, कपिल सिब्बल, नजीब जंग, हंस राज हंस, मनोज तिवारी, अनुजा चौहान, रविंदर सिंह, चित्रा मुदगल, अशोक वाजपेयी, केदार नाथ सिंह, उदय प्रकाश, मालिनी अवस्थी, दारेन शाहिदी, उदय माहुरकर, हरिओम पंवार, अशोक चक्रधर, पॉपुलर मेरठी, गोविंद व्यास, राहत इंदौरी, नवाज देवबंदी, राजेश रेड्डी, स्वानंद किरकिरे, नासिरा शर्मा, मैत्रेयी पुष्पा, शाज़ी ज़मां और देवदत्त पटनायक जैसी हस्तियां शामिल हुई थीं.

'साहित्य आज तक ' के दूसरे संस्करण में साल 2017 में शामिल होने वाले दिग्गज थे- जावेद अख्तर, करन जौहर, कुमार विश्वास, प्रसून जोशी, पीयूष मिश्रा, चेतन भगत, चंद्र प्रकाश द्विवेदी, हंस राज हंस, जयदीप साहनी, रचना बिष्ट, रावत, दीक्षा द्विवेदी, मंजूर भोपाली, आलोक श्रीवास्तव, शीन काफ निजाम, अशोक वाजपेयी, मामे खान, अनुजा चैहान, देवदत्त पटनायक, अश्विन सांघी, सुदीप नागरकर और यतीन्द्र मिश्रा.

पिछले साल 'साहित्य आजतक 2018 ' में इस कार्यक्रम में 200 से भी अधिक विद्वानों, कवियों, लेखकों, संगीतकारों, अभिनेताओं, प्रकाशकों, कलाकारों, व्यंग्यकारों और समीक्षकों ने हिस्सा लिया था. इन अनगिन दिग्गजों में जावेद अख्तर, अशोक वाजपेयी, नरेंद्र कोहली, उषाकिरण खान, लीलाधर जगुड़ी, लीलाधर मंडलोई, अब्दुल बिस्मिल्लाह, सुरेंद्र मोहन पाठक आदि के अलावा प्रसून जोशी, पंकज कपूर, आशुतोष राणा, चेतन भगत, अमीश त्रिपाठी, जयराम रमेश, पवन के वर्मा, दिव्या दत्ता जैसे सेलिब्रिटी लेखक भी शामिल थे.

इस साल साहित्य आजतक में देश भर के नामीगिरामी साहित्यकारों, कथाकारों, कवियों और दिग्गजों के अलावा सांस्कृतिक कार्यक्रम के तहत ‘गालिब इन दिल्ली’ नाटक, दीप्ति नवल और शेखर सुमन अभिनीत 'प्ले एक मुलाकात', उस्ताद पुरन चंद वडाली और लखविंदर वडाली की कव्वाली, नूरां सिस्टर्स की सुरीली आवाज में सूफी संगीत, मनोज तिवारी की भोजपुरी तान, शारदा सिन्हा की कजरी, मालिनी अवस्थी, मैथिली ठाकुर, गिन्नी माही, चिन्मयी त्रिपाठी और सूफी गायिका हरप्रीत का गायन भी हुआ था.

sahitya-aajtak-2019_082019044406.jpg


साहित्य आजतक के दौरान आयोजित मुशायरा कार्यक्रम में वसीम बरेलवी, मंजर भोपाली, आलोक श्रीवास्तव, शीन काफ निजाम, डॉ नवाज देवबंदी, डॉ लियाकत जाफरी, डॉ राहत इंदौरी की शायरी सुनी गई, तो कवि सम्मेलन में में वेद प्रकाश वेद, डॉ सर्वेश अस्थाना, अरुण जैमिनी, डॉ प्रवीण शुक्ला, संजय झाला, दीपक गुप्ता, हुसैन हैदरी, रमणीक सिंह, पंकज शर्मा जैसे कवियों ने शमां बांधा था. उस्ताद राशिद खान के संगीत से समापन हुआ था और तभी से दर्शक इस साल के आयोजन का इंतजार करने लगे थे.

इस साल 'साहित्य आजतक 2019 ' के कार्यक्रम में कौन-कौन शामिल हो रहा है, इसके लिए आपको आजतक चैनल देखने के साथ ही, आज तक और उससे जुड़ी वेबसाइट्स को देखते रहना होगा. पर साहित्य के इस महाकुंभ में शामिल होने की तैयारियां आप अभी से कर लीजिए. यहां हम आपको बता दें कि इतनी भव्यता के बावजूद यह कार्यक्रम दर्शकों के लिए पूरी तरह मुफ्त है. बस आपको इसके लिए हमारे साथ रजिस्ट्रेशन कराना आवश्यक है.

साहित्य आजतक में रजिस्ट्रेशन के लिए आप यहां 'साहित्य आजतक ' के लिंक या ऊपर दिए गए लिंक पर जाएं. यह अवसर आजतक की हमारी दूसरी सहयोगी वेबसाइटों पर भी उपलब्ध है. तो देर न करें, लिंक पर जाएं, डिटेल्स भरें और तुरंत पंजीकरण कराएं. यह बिल्कुल मुफ्त है....तो आइए साहित्य का सबसे बड़ा महाकुंभ आपका इंतजार कर रहा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay