Sahitya AajTak
Sahitya AajTak

साहित्य आजतक: अनंत विजय बोले- मार्क्सवादियों ने साहित्यिक भ्रष्टाचार किया

लेखक एवं आलोचक अनंत विजय ने कहा कि खूंटा बहुत छोटा शब्द है दरअसल मार्क्सवाद का खंभा गड़ा हुआ है. उस खंभे को ऐसे लोगों ने पकड़ रखा है जिनको लगता है कि खंभे से दूर जाते ही सब खत्म हो जाएगा. मार्क्सवाद के लोग ऐसे हैं जिनके रचनाओं में कुछ और होता है, ये कहते कुछ और हैं और करते कुछ और हैं.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 06 November 2019
साहित्य आजतक: अनंत विजय बोले- मार्क्सवादियों ने साहित्यिक भ्रष्टाचार किया साहित्य आजतक के मंच पर अनंत विजय (फोटो: के. आसिफ)

  • साहित्य आजतक के दूसरे दिन की शुरुआत छठ गीत से हुई
  • बीजेपी नेता मनोज तिवारी ने मंच से गाए कई भोजपुरी गीत

साहित्य का सबसे बड़ा महाकुंभ 'साहित्य आजतक 2019' शुक्रवार (1 नवंबर) से शुरू हो गया है. कार्यक्रम का आज दूसरा दिन है. दूसरे दिन 'साहित्य आजतक' के 'हल्ला बोल' मंच पर 'विचारधारा का साहित्य' सेशन में सुधीश पचौरी (लेखक), सच्चिदानंद जोशी (सदस्य सचिव, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र) और अनंत विजय (लेखक, आलोचक) ने अपनी राय रखी. इस सेशन का संचालन आजतक के एग्जिक्यूटिव एडिटर रोहित सरदाना ने किया. इस चर्चा के दौरान तीनों अतिथियों ने अपनी बातें बेबाकी से रखीं. चर्चा की शुरुआत करते हुए रोहित ने कहा विचारधारा साहित्य को बनाती है या साहित्य विचारधारा को बनाती है. दोनों एक-दूसरे को मजबूत करते हैं या कमजोर करते हैं, दोनों में से किस पर किसकी छाया रहती है और दोनों में से कौन किसको आगे बढ़ाता है या पीछे खींचता है, इन सारे सवालों पर बात करेंगे.

मार्क्सवादियों ने इस देश में साहित्य का कबाड़ा कर दिया
चर्चा के दौरान लेखक एवं आलोचक अनंत विजय ने कहा कि खूंटा बहुत छोटा शब्द है दरअसल मार्क्सवाद का खंभा गड़ा हुआ है. उस खंभे को ऐसे लोगों ने पकड़ रखा है जिनको लगता है कि खंभे से दूर जाते ही सब खत्म हो जाएगा. मार्क्सवाद के लोग ऐसे हैं जिनके रचनाओं में कुछ और होता है, ये कहते कुछ और हैं और करते कुछ और हैं. ये प्रति तर्क दिया जा सकता है कि व्यक्ति किसी विचारधारा को हो सकता है उससे उसकी रचना का क्या, जैसे वह चरित्रहीन हो सकता है लेकिन अपनी रचनाओं में बहुत ही उत्तम चरित्र वाले नायक का चित्रण करता है. लेकिन जब आप ऐसी बातें करते हो तो समाज में आपको मान्यता नहीं मिलती. जो झूठे भ्रम फैलाकर आप मान्यता लेते भी हो वो बहुत देर तक टिकता नहीं है. दरअसल विचारधारा की दिक्कत यह हुई, विचारधारा के बारे में जब हम भारतीय संदर्भ में बात करते हैं मैं थोड़ा खुलकर बोलता हूं इसलिए बहुत सारे आक्रमण भी झेलता हूं, मार्क्सवादियों ने इस देश में साहित्य का कबाड़ा कर दिया. ना सिर्फ साहित्य बल्कि सामाजिक, आर्थिक में जो मौलिक लेखन होता था उसको बंद कर दिया. प्रगति प्रकाशन की किताबें यहां खूब बिकने लगीं. इतनी बिकने लगीं कि भारतीय वैचारिकी को बाधित कर दिया उन्होंने. इसके पीछे भारत सरकार और रूस की सरकार का संयुक्त प्रयास था. इसके तो अब प्रमाण भी मिलने लगे हैं. सारे दस्तावेज अगर आप देखें तो कई प्रमाण हैं कि मार्क्सवाद को यहां फैलाने और मार्क्सवाद को नीचे तक ले जाने के लिए उन लोगों ने बहुत ही संगठित प्रयास किया. उस प्रयास का प्रतिफल यह था कि भारत के विश्वविद्यालयों में खास कर हिंदी विभाग में जो लिटरेचर से जुड़े हैं उनमें आप जाकर देख लीजिए उनमें बस लोगों ने वामपंथ का बिल्ला नहीं लगाया हुआ है.

साहित्य आजतक की पूरी कवरेज देखने के लिए यहां क्लिक करें...

मार्क्सवादी आजकल बाल स्वयंसेवक होने की जुगत में लगे हैं
एक किस्सा बताते हुए उन्होंने आगे कहा पचौरी जी ने नरेन्द्र कोहली जी को जनवादी लेखक संघ का सदस्य बना दिया और कहीं का संयोजक नियुक्त कर दिया. अब कहां कोहली जी और कहां जनवाद लेकिन कोहली जी से जब इन्होंने कहा तो उन्होंने तर्क दिया कि राम से बड़ा जनवादी कौन था ये बता दो वो तो जंगल में 14 साल रहे. आदिवासियों के बीच रहे. उसके बाद इन पर दबाव आए इनके तमाम मित्रों ने इन पर दबाव डाला कि कोहली जी को हटा दो. अंत क्या हुआ कि कोहली जी जैसे लेखक को पचौरी जी को जनवादी लेखक संघ से बाहर करना पड़ा. स्थिति यह है कि एक लेखक को इसलिए निकाला गया क्योंकि वह मार्क्स की जगह राम की बात करता है, वह भारतीयता की माला जपता है, वह रूस की तरफ नहीं देखता है. अपनी रचनाओं में यथार्थ की मिट्टी उतनी नहीं तोड़ता. ये जो अस्पृश्यता का भाव फैलाया मार्क्सवादियों ने उसने भारतीय साहित्य का बहुत नुकसान किया. खासकर हिंदी में अगर देखें तो वो विचारधारा को लेकर जबतक चलते थे तबतक ठीक था लेकिन मैं ये बात बार-बार कहता हूं कि विचारधारा को धारा बनाना और धारा में बाकी सारे लेखकों को चलने के लिए दुराग्रह करना यह मार्क्सवादियों की सबसे बड़ी भूल थी और आज हालात यह है कि तमाम मार्क्सवादी आजकल बाल स्वयंसेवक होने की जुगत में लगे हैं. गोपाल कांडा की तरह ही तमाम मार्क्सवादी लेखक बाल स्वयंसेवक और शिशु स्वयंसेवक बनने में लगे हैं. ये विचारधारा का विचलन है. आप इससे समझ सकते हैं कि यह विचारधारा स्वार्थ पर आधारित है और इसका विचारों से कोई लेना-देना नहीं है.

मार्क्सवादियों ने किए साहित्यिक भ्रष्टाचार

अनंत विजय ने कहा कि मार्क्सवादियों ने अन्य लेखकों को छपने से तो रोका ही इसके साथ-साथ उन्होंने सिर्फ वैचारिक आतंकवाद ही नहीं फैलाया बल्कि तमाम साहित्यिक भ्रष्टाचार भी किए. जो प्रगतिशील शब्द है, घोटाला वहीं है. बिना पूंजी के आप मार्क्सवादी लेखक नहीं हो सकते. दारू और मुर्गा का जोड़ मार्क्सवादी लेखक बनाता है. परंपरावादी मतलब दकियानूसी हो गया है. जो परंपरावादी होते हैं दरअसल वो प्रगतिशील होते हैं जबकि जो खुद को प्रगतिशील बताते हैं वो परंपरावादी होते हैं, वो बदलना ही नहीं चाहते, वो खूंटे से अलग होना ही नहीं चाहते. वो लोग टमटम के घोड़े की तरह सीधे ही देखना चाहते हैं. विचारधारा कोई बुरी नहीं होती. विचारधारा वाले लोग भ्रष्ट होते हैं.

साहित्य आजतक में रजिस्ट्रेशन के लिए यहां क्लिक करें...

मिलिए सेशन के अतिथियों से...
आपको बता दें कि इस सेशन के अतिथि रहे सुधीश पचौरी किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं, एक लेखक के अलावा आलोचक एवं मीडिया विश्लेषक के तौर पर भी उनकी बड़ी पहचान है. पत्रकारिता एवं जनसंचार अध्ययन के बड़े हस्ताक्षर सच्चिदानंद जोशी को भी किसी परिचय की जरूरत नहीं है. कई किताबें लिख चुके सच्चिदानंद विश्वविद्यालय के कुलपति भी रह चुके हैं और फिलहाल इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र के सदस्य सचिव हैं. वहीं दूसरी ओर अनंत विजय को अपने स्तंभों, समकालीन साहित्यिक, सांस्कृतिक और सामाजिक सरोकारों पर अपनी मारक टिप्पणियों के लिए इस वर्ष सर्वश्रेष्ठ फिल्म क्रिटिक का पुरस्कार मिला है.

शुक्रवार को यूं हुई कार्यक्रम की शुरुआत
सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की सरस्वती वंदना और इंडिया टुडे ग्रुप की वाइस चेयरपर्सन कली पुरी ने कार्यक्रम के उद्घाटन संबोधन के साथ कार्यक्रम की शुरुआत हुई . इस बार 'साहित्य आजतक' में सात मंच हैं जहां से लगातार तीन दिन 200 हस्तियां आपसे रू-ब-रू होंगी. साहित्य, कला, संगीत, संस्कृति का यह जलसा 3 नवंबर तक चलेगा.

इस साल शुरू हुआ था 'साहित्य आजतक' का सफर
साहित्य आजतक कार्यक्रम का आयोजन इस बार भी दिल्ली के  इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र में किया गया है. तीन दिन तक चलने वाले साहित्य के महाकुंभ साहित्य आजतक में कला, साहित्य, संगीत, संस्कृति और सिनेमा जगत की मशहूर हस्तियां शामिल होंगी. बता दें कि साल 2016 में पहली बार 'साहित्य आजतक' की शुरुआत हुई थी. साहित्य आजतक कार्यक्रम के आयोजन का यह चौथा साल है.

साहित्य आजतक 2019 में शामिल ले रहे अतिथियों की लिस्ट देखने के लिए यहां क्लिक करें....

इस बार कई भारतीय भाषाओं को किया गया है शामिल

इस बार साहित्य आजतक में कई और भारतीय भाषाओं के दिग्गज लेखक भी आ रहे हैं. जिनमें हिंदी, उर्दू, भोजपुरी, मैथिली, अंग्रेजी के अलावा, राजस्थानी, पंजाबी, ओड़िया, गुजराती, मराठी, छत्तीसगढ़ी जैसी भाषाएं और कई बोलियां शामिल हैं.


आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay