Sahitya AajTak
Sahitya AajTak

फेमिनिज्म की कोई तारीफ नहीं करता, इसे अपमानजनक शब्द मानते हैं: अनीता नायर

प्रख्यात लेखिका अनीता नायर ने कहा है कि भारत में फेमिनिज्म की कोई तारीफ नहीं करता और इसे अपमानजनक शब्द समझते हैं. साहित्य आजतक 2019 में आयोजित एक चर्चा में अनीता नायर ने यह बात कही.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 06 November 2019
फेमिनिज्म की कोई तारीफ नहीं करता, इसे अपमानजनक शब्द मानते हैं: अनीता नायर साहित्य अकादमी के मंच पर राइटर अनीता नायर

  • साहित्य आजतक 2019 के मंच पर जुटीं प्रख्यात लेख‍ि‍काएं
  • फेमिनिज्म के विषय में आयोजित सत्र में हुई अच्छी चर्चा
  • लेख‍िका अनीता नायर ने कहा- फेमिनिज्म की कोई तारीफ नहीं करता

प्रख्यात लेखिका अनीता नायर ने कहा है कि भारत में फेमिनिज्म की कोई तारीफ नहीं करता और इसे अपमानजनक शब्द समझते हैं. साहित्य आजतक 2019 के सत्र 'वी शुड ऑल बी फेमिनिस्ट' में अनीता नायर के साथ ही मेघना पंत और केआर मीरा ने फेमिनिज्म यानी नारीवाद पर चर्चा की.

साहित्य आजतक में रजिस्ट्रेशन के लिए यहां क्लिक करें

क्या है फेमिनिज्म की परिभाषा

अनीता नायर ने कहा, 'जब मैंने लेडीज कूप नॉवेल लिखा तो इसे फेमिनिस्ट कहा गया. इससे मुझे परेशानी ही हुई. नारीवाद की यहां कभी तारीफ नहीं की जाती. इसे एक अपमानजनक शब्द समझा जाता है. मैं पेरशान हो गई. मेरे हिसाब से फेमिनिज्म यह है कि हर औरत को एक औरत होने का हक मिले और कहीं से भी कमतर होने का एहसास न हो. ज्यादातर समय तो औरतों से यही कहा जाता है कि आप एक खास तरह की व्यक्ति हैं तो ही आपको अच्छी औरत कहा जाएगा.'

उन्होंने कहा, 'सबसे पहल हमें यह पहचानना चाहिए हम क्या हैं. हमारा जेंडर हमसे क्या चाहता है? जैविक रूप से कुछ अंतर है. दुर्भाग्य से हम इसे नहीं समझते. यह सिर्फ मर्दों की सोच का मसला नहीं है. फेमिनिज्म का मतलब यह है कि औरत किसी औरत के बारे में सहज हो.'

साहित्य आजतक की पूरी कवरेज यहां देखें

नारीवादी को लेस्बि‍यन तक समझ लेते हैं

लेखिका एवं पत्रकार मेघना पंत ने कहा, 'मुझे 2013 में यह लगा कि मैं फेमिनिस्ट हूं और लोगों ने मुझसे कहा कि मुझे फेमिनिस्ट के जैसा नहीं दिखना चाहिए. मैं लेस्ब‍ियन नहीं हूं. मैं गुस्से में नहीं रहती. मैं लिपस्ट‍िक लगाती हूं. मुझे यह समझने में काफी समय लग गया कि फेमिनिज्म क्या है. हमने साल 2018 में किताब लिखा 'फेमिनिस्ट रानी'. दुर्भाग्य से लोग फेमिनिज्म को एक गलत शब्द समझते हैं. लोग इसे मर्दों के खिलाफ समझते हैं. 

सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की वाणी वंदना के साथ शुरू हुआ साहित्य आजतक 2019

sahitya-feminism-2-750_110119074927.jpg

केरल जैसी जगहों पर भी लोग नहीं समझते

मलयालम लेखिका के आर मीरा ने इस बारे में एक जबरदस्त वाकया सुनाया. उन्होंने कहा, 'एक बार केरल में एक कार्यक्रम के बाद एक बुजुर्ग व्यक्ति उनके पास आए और उसने कहा कि आप हमेशा फेमिनिज्म की बात क्यों करती हैं? क्या आपका पति अच्छा आदमी नहीं है.' उन्होंने कहा कि सोचिए केरल जैसी जगह में भी फेमिनिज्म के बारे में लोगों की ऐसी सोच है. उन्होंने कहा कि 21वीं सदी में भी हमें अभी यह चर्चा करनी पड़ रही है कि हमें फेमिनिस्ट क्यों होना चाहिए. लोगों को न्याय और समानता जैसे शब्दों के बारे में भी नहीं पता है. 

साहित्य आजतक के अगले दिनों के कार्यक्रम

2 नवंबर- दूसरे दिन का कार्यक्रम

11.00-11.45

भोजपुरी स्टार रवि किशन और मनोज तिवारी के भोजपुरियां संगीत से होगी शुरुआत.

11.45-12.30

एक्टर और अभिनेता आशुतोष राणा अपनी कविताओं से युवाओं में जोश भरेंगे.

12.30-13.15

सब बढ़िया है सत्र में गीतकार वरुण ग्रोवर बांधेंगे समा.

13.15-02.00

अभिनेता और कवि शैलेश लोढ़ा अपनी राय साझा करेंगे.

02.00-02.45

हमको सिर्फ तुमसे प्यार है सत्र में गीतकार समीर अपने गीतों से युवाओं को क्रेजी करेंगे.

02.45-03.30

गीतकार मालिनी अवस्थी की लोक गायिकी.

03.30-04.15

लेखर और गीतकार प्रसून जोशी मंच पर होंगे.

04.15-05.00

साहित्य के यंगिस्तान सत्र में लेखक सत्य व्यास और दिव्य प्रकाश दुबे शिरकत करेंगे.

05.00-06.00

इरशाद कामिल की बैंड परफॉर्मेंस.

06.00-08.00

सौरभ शुक्ला का चर्चित नाटक 'बर्फ' और नाटक 'अकबर द ग्रेट नहीं रहे' रंग मंच की खास प्रस्तुति.

08.00-09.00

रुहानी सिस्टर्स की कव्वाली.

3 नवंबर- तीसरे दिन का कार्यक्रम

11.00-12.00

ऐसी लागी लगन फेम अनूप जलोटा अपनी धुन छेड़ेंगे.

12.00-12.45

कवि अशोक वाजपेयी, लेखक और पत्रकार राहुल देव, लेखर पुष्पेश पंत मंच पर होंगे.

12.45-01.30

कवि और गीतकार मनोज मुंतशिर अपना गायन पेश करेंगे.

01.30-02.30

सिंगर पंकज उधास अपने गानों से समा बांधेंगे.

02.30-03.30

यह देश है वीर जवानों का सत्र में कवि हरिओम पवार, राहुल अवस्थी, विनीत चौहान अपने देशभक्ति कविताएं प्रस्तुत करेंगे.

03.30-04.15

लेखक और फिल्मकार इम्तियाज अली अपने अनुभव साझा करेंगे.

04.15-05.00

गीतकार हंस राज हंस अपना सूफियाना कलाम पेश करेंगे.

05.00-05.30

गीतकार स्वानंद किरकिरे महफिल जमाएंगे.

05.30-06.00

गीतकार और संगीतकार विद्या शाह और लेखर यतींद्र मिश्र मंच पर अपने अनुभव साझा करेंगे.

06.00-08.00

मुशायरा में शायर वसीम बरेलवी, राहत इंदौरी, नवाज देवबंदी, अभिषेक शुक्ला, एस आर जीशान नियाजी, कुंवर रंजीत चौहान शिरकत करेंगे.

08.00-09.00

सिंगर शुभा मुद्गल का गायन

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay