Sahitya AajTak
Indira Gandhi National Centre for the Arts, New Delhi
Advertisement
Sahitya Aajtak 2018

वो 8 बड़ी किताबें जिन पर भारत में लगा दिया गया बैन

aajtak.in [Edited by: राघव वधवा]
23 May 2018
वो 8 बड़ी किताबें जिन पर भारत में लगा दिया गया बैन
1/8
द हिंदूजः एन अल्टरनेटिव हिस्ट्री:
धार्मिक संगठनों के विरोध के बाद पेंगुइन इंडिया ने वेंडी डोंनिगर की किताब 'द हिंदूजः एन अल्टरनेटिव हिस्ट्री' को वापस ले लिया. डोनिंगर की किताब को प्रतिबंधित करने के लिए दीनानाथ बत्रा ने अभियान छेड़ रखा था. भारत में किताबों के प्रतिबंधित होने का लंबा इतिहास रहा है. 'द हिंदूजः एन अल्टरनेटिव' के पहले भी कई किताबें प्रतिबंधित हुईं.
वो 8 बड़ी किताबें जिन पर भारत में लगा दिया गया बैन
2/8
द सैटनिक वर्सेज:
बीसवीं सदी की सबसे विवादित किताबों में से एक सलमान रुश्दी की 'द सैटनिक वर्सेज' ने ग्लोबल लेवल पर विवाद को जन्म दिया. 1988 में प्रकाशित इस किताब के बाद अयातुल्लाह खोमैनी ने रुश्दी के खिलाफ फतवा जारी कर दिया. हालांकि इस फतवे से पहले किताब को प्रतिबंधित करने वाला पहला देश भारत था. इस किताब को प्रतिबंधित करने के पीछे जो दलील दी गई उसमें कहा गया कि इस किताब ने इस्लाम का अपमान किया.
वो 8 बड़ी किताबें जिन पर भारत में लगा दिया गया बैन
3/8
एन एरिया ऑफ डार्कनेस:
 वी.एस. नॉयपॉल की किताब 'एन एरिया ऑफ डॉर्कनेस' को 1964 में भारत सरकार ने प्रतिबंधित कर दिया. नॉयपॉल ने अपनी इस किताब में भारत की सामाजिक और आर्थिक प्रगति पर सवाल उठाए थे.
वो 8 बड़ी किताबें जिन पर भारत में लगा दिया गया बैन
4/8
नेहरूः अ पॉलिटिकल बॉयोग्राफी:
देश के पहले प्रधानमंत्री पर लिखी गई माइकल ब्रीचर की इस किताब को 1975 में बैन कर दिया गया.
वो 8 बड़ी किताबें जिन पर भारत में लगा दिया गया बैन
5/8
नाइन ऑवर्स टू रामा:
अमेरिकी लेखक स्टैनले वोलपर्ट की फिक्शन रचना 'नाइन ऑवर्स टू रामा' को 1962 में प्रतिबंधित कर दिया गया. इस किताब में स्टैनले ने गोडसे के हाथों गांधी की हत्या के आखिरी नौ घंटों का विवरण रचा था. इसी किताब पर बनी फिल्म भी प्रतिबंधित कर दी गई. स्टैनले ने अपनी किताब में गांधी की हत्या के लिए सुरक्षा कारणों के साथ साजिश को रेखांकित किया था. दिलचस्प है कि वोलपर्ट ने जिन्ना पर भी किताब लिखी और उसे भी पाकिस्तान में प्रतिबंधित कर दिया गया.
वो 8 बड़ी किताबें जिन पर भारत में लगा दिया गया बैन
6/8
द फेस ऑफ मदर इंडिया:
अमेरिकी इतिहासकार कैथरीन मायो 1927 में अपनी किताब 'द फेस ऑफ मदर इंडिया' के प्रकाशित होने के बाद राजनीतिक विवादों के घेरे में आ गई. इस किताब में कैथरीन ने कहा था कि भारत स्वराज के काबिल नहीं है. महात्मा गांधी ने इस किताब को ‘रिपोर्ट ऑफ अ ड्रेन इंस्पेक्टर’ कहा था.
वो 8 बड़ी किताबें जिन पर भारत में लगा दिया गया बैन
7/8
द लोटस एंड द रोबोट: 
आर्थर कोस्टलर की किताब 'द लोटस एंड द रोबोट' को 1960 में प्रकाशित होते ही बैन कर दिया गया. कोस्टलर ने अपनी किताब में भारत और जापान की यात्रा के बाद बने विचारों को उकेरा था. दोनों देशों को कोस्टलर ने पश्चिम के मुकाबले धार्मिक रूप से बीमार देश बताया था.
वो 8 बड़ी किताबें जिन पर भारत में लगा दिया गया बैन
8/8
द ट्रू फुरकान:
1999 में दो लेखक छद्म नाम अल सफी और अल महदी नाम से लिखी किताब 'द ट्रू फुरकान' लेकर आए. पूरे विश्व में इस किताब पर विवाद खड़ा हो गया. मुस्लिमों ने इसे ईसाइयों का दुष्प्रचार करार दिया. 2005 से यह किताब भारत में प्रतिबंधित है.
NEXT PHOTO GALLERY
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay