Sahitya AajTak
Indira Gandhi National Centre for the Arts, New Delhi
Advertisement
Sahitya Aajtak 2018

दुनिया भर के पाठकों की पंसद ये 10 किताबें ना पढ़ीं, तो क्या पढ़ा?

aajtak.in [Edited by: राघव वधवा]
23 May 2018
दुनिया भर के पाठकों की पंसद ये 10 किताबें ना पढ़ीं, तो क्या पढ़ा?
1/10
रूसी उपन्यासकार लेव तॉलस्तोय लिखित विंटेज क्लासिक 'वॉर एंड पीस' एक प्रसिद्ध रचना है. जो आज भी पाठकों के दिलों में घर बनाए हुए है.
दुनिया भर के पाठकों की पंसद ये 10 किताबें ना पढ़ीं, तो क्या पढ़ा?
2/10
रुडयार्ड किपलिंग लिखित 'द जंगल बुक्स' एक शानदार किताब है, जिसे हर वर्ग के लोग पसंद करते हैं.
दुनिया भर के पाठकों की पंसद ये 10 किताबें ना पढ़ीं, तो क्या पढ़ा?
3/10
तॉलस्तोय की एक और किताब 'अन्ना कैरेकिना' भी अपने बेजोड़ कथानक के लिए पाठकों की पसंद बनी हुई है.
दुनिया भर के पाठकों की पंसद ये 10 किताबें ना पढ़ीं, तो क्या पढ़ा?
4/10
नेतृत्व क्षमता, सत्ता का उदय और अधिकार को बनाए रखने की कहानी कहती निकोलो मैकियावेली की किताब 'द प्रिंस' का कोई मुकाबला नहीं. इस किताब का असल शीर्षक 'दे पीआर' है.
दुनिया भर के पाठकों की पंसद ये 10 किताबें ना पढ़ीं, तो क्या पढ़ा?
5/10
रूसी उपन्यासकार फ्योदोर दोस्तोवस्की की 'द ब्रदर्स कारामाजोव' एक शानदार किताब है. इस किताब के चार भाग हैं.
दुनिया भर के पाठकों की पंसद ये 10 किताबें ना पढ़ीं, तो क्या पढ़ा?
6/10
युद्ध की स्ट्रैटजी, नेतृत्व क्षमता और जीवन पर आधारित 'द ऑर्ट ऑफ वॉर' आज भी प्रासंगिक है. साथ ही कॉरपोरेट वर्ल्ड में भी इसकी काफी मांग है. इसे सुन त्यू ने लिखा है.
दुनिया भर के पाठकों की पंसद ये 10 किताबें ना पढ़ीं, तो क्या पढ़ा?
7/10
फ्योदोर दोस्तोवस्की की एक और किताब 'क्राइम एंड पनिशमेंट' एक विंटेज क्लासिक है, जिसे जरूर पढ़ा जाना चाहिए.
दुनिया भर के पाठकों की पंसद ये 10 किताबें ना पढ़ीं, तो क्या पढ़ा?
8/10
चार्लोट ब्रोंटे लिखित जेन आइरे (Jane Eyre) इस सूची में दूसरे नंबर पर आती है.
दुनिया भर के पाठकों की पंसद ये 10 किताबें ना पढ़ीं, तो क्या पढ़ा?
9/10
एंड्रयू लंग लिखित 'वन थाऊजेंड एंड वन अरेबियन नाइट्स' के बिना यह सूची पूरी नहीं हो सकती.
दुनिया भर के पाठकों की पंसद ये 10 किताबें ना पढ़ीं, तो क्या पढ़ा?
10/10
अमर कथाकार विलियम शेक्सपियर की किताब 'द मर्चेंट ऑफ वेनिस' प्रेम और लोभ की कहानी कहती है. अब चूंकि कलम शेक्सपियर की है तो फिर कुछ कहने की गुंजाइश कहां बचती है.
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay