एडवांस्ड सर्च

Advertisement

सोचो, आखिर कब सोचेंगेः देश के वर्तमान हालात पर नवाज़ देवबंदी की शायरी

aajtak.in [Edited By: जय प्रकाश पाण्डेय]नई दिल्ली, 20 April 2019

सोचो! आखिर कब सोचेंगे? दरहम बरहम दोनों सोचें, मिल जुलकर हम दोनों सोचें, जख्म का मरहम दोनों सोचें, सोचें पर हम दोनों सोचें. घर जलकर राख हो जाएगा, जब सब कुछ खाक हो जाएगा, तब सोचेंगे?..टीपू के अरमान जले हैं, बापू के अहसान जले हैं, गीता और कुरआन जले हैं, हद ये है इन्सान जले हैं, हर तीर्थ स्थान जलेगा, सारा हिंदुस्तान जलेगा, तब सोचेंगे? सोचो! आखिर कब सोचेंगे?... देश के वर्तमान हालात पर साहित्य आजतक के मंच पर नवाज़ देवबंदी की शायरी

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay