एडवांस्ड सर्च

Advertisement

किताबों की बातें: उन दिनों के रूस का असली चेहरा बताती है ये किताब

महेन्द्र गुप्तानई दिल्ली, 25 May 2018

दो फ्रांसिसी पत्रकारों ने 1950 के दशक में रूस की यादगार यात्रा की. उस समय जब रूसी सड़कें प्रतिबंधित थीं. अपने इस खास अनुभव को डोमिनीक लापिएर ने एक यात्रा वृतांत की शक्ल दी, जिसे उन्होंने 'वन्स अपॉन अ टाइम इन सोवियत यूनियन' नाम दिया. इसका हिन्दी अनुवाद है,'एक रोमांचक सोवियत रूस यात्रा'. पत्रकार डोमिनीक और जीन पियरे ने अपनी यात्रा के दौरान जो कुछ रूस में देखा, उसे हू-ब-हू इस किताब में लिखने की कोशिश की है. ये किताब पाठक को भी शब्दों के जरिए रूस की यात्रा कराती है. 

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay