एडवांस्ड सर्च

Advertisement

हिंदी साहित्यकार कृष्णा सोबती का निधन

aajtak.in [Edited By: सना जैदी]नई दिल्ली, 28 January 2019

नारी आजादी की मुखर पक्षधर रहीं मशहूर साहित्यकार कृष्णा सोबती नहीं रहीं. 1925 में पाकिस्तान में पैदा हुईं कृष्णा सोबती महिला स्वतंत्रता का जमकर शंखनाद करती रहीं हैं. आज दिल्ली में उनका निधन हो गया. कालजयी उपन्यास की लेखिका कृष्णा सोबती लंबे अरसे से बीमार थीं. उनके उपन्यास जिंदगीनामा को 1966 में साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला था. 2015 में असहिष्णुता के खिलाफ मुहिम में कृष्णा सोबती भी बढ-चढ़कर शामिल हुईं. उन्होंने विरोध में अपना अकादमी पुरस्कार वापस कर दिया था.


Eminent Hindi author and essayist Krishna Sobti died on Friday in Delhi. She breathed her last in a Delhi hospital this morning, where she was admitted for the last two months. She was one of the most sensitive and alert writer. She created her own identity and dignity in the field of literature.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay