Sahitya AajTak
Advertisement

प्रसून जोशी का कविता पाठः तुझमें कोई और रहता है

aajtak.in [Edited By: जय प्रकाश पाण्डेय]नई दिल्ली, 05 March 2019

तुझमें कोई और रहता है, गौर से सुनना बीचबीच में जाने वो क्या-क्या कहता है. तेरी हरियाली के अंदर एक टीला है रेगिस्तानी.... तुम्हीं चांद के शीतल प्रेमी, तुम्हीं अग्नि को हो उकसाते, तुम्हीं शांति का दूत बने हो और तुम्हीं रक्त को हो दहकाते, फिर भी रंग कौन भरता है, तुझमें कोई और रहता है.. .सुनें साहित्य आजतक के मंच पर प्रसून जोशी द्वारा पढ़ी गई यह कविता.

Prasoon Joshi reading his hindi poem at Sahitya Aajtak- Tujhme koi aur rahta hai, gaur se sunana beech-beech men jane wo kya kya kahta hai...

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay