साहित्य आज तक: मिलें हरदिल अजीज शायर राहत इन्दौरी से

साहित्य आज तक के मुशायरे में सुनें हम सभी के हरदिलअजीज शायर और फनकार राहत इन्दौरी साब को. एकदम मुफ्त. तो मौका न चूकें. 13 नवंबर. शाम चार बजे...

Advertisement
विष्णु नारायणनई दिल्ली, 11 November 2016
साहित्य आज तक: मिलें हरदिल अजीज शायर राहत इन्दौरी से Rahat Indori

मुशायरे को गर सीधी हिन्दी में कहें तो उसे काव्य संगोष्ठी कहा जा सकता है. इसे कुछ लोग महफिल भी कहते हैं. जहां देश-दुनिया के तमाम कवि-शायर अपनी कला का प्रदर्शन करने के लिए एक साथ मंच पर जुटते हैं. मुशायरे को भारत के उत्तरी हिस्से, दक्कन, पाकिस्तान की संस्कृति और मुख्यतौर पर हैदराबाद के मुस्लिमों के बीच की पसंद माना जाता है. आज भी अपनी हाजिरजवाबी और खरी-खरी कहने के लिए मुशायरों को जाना जाता है.

शायरी और मुशायरों को किसी दौर में उर्दू कवित्त की शान माना जाता था और 17वीं सदी में इसे एक खास मकाम तक ले जाने का श्रेय मुगलों को जाता है. वे महफिलों और जलसों के माध्यम से शायरों, कवियों और गजलकारों को सुना करते और इस विधा को भरसक आगे बढ़ाने का प्रयास करते. हालांकि समय बीतने के साथ-साथ इस विधा की भी रौनक जाती रही. मुशायरे भी अलग-अलग राजनीतिक सोच रखने वाली पार्टियों और शख्सियतों का विस्तार माने जाने लगे. वे उनकी सोच को लेकर आगे बढ़ने लगे. पहले जहां इसे स्थापित सत्ता की आलोचना के तौर पर माना जाता था. वहीं यह धीरे-धीरे उनकी प्रशंसा करने का मंच बन कर रह गया.

12-13 को दिल्ली में लगेगा साहित्य के सि‍तारों का महाकुंभ, देखें पूरा शेड्यूल

वैसे तो हम आए दिन सुनते हैं कि फलां जगह पर फलां-फलां शख्सियतें (शायर-कवि-कवयित्री) मुशायरे की रौनक बढ़ाने के लिए आ रहे हैं, लेकिन इस बीच देश का नंबर एक खबरिया चैनल दिल्ली के भीतर एक साहित्यिक महाकुंभ आयोजित कर रहा है. यह महाकुंभ दिनांक 12-13 नवंबर को तय है. यह इंदिरा गांधी नेशनल सेंटर फॉर द आर्ट्स में हो रहा है. इस साहित्यिक समागम में 'मुशायरे की मुश्किल' के नाम से एक कार्यक्रम तय है. इस कार्यक्रम में अवाम के दिलों पर राज करने वाले राहत इन्दौरी साब, डॉ. नवाज देवबंदी साब, राजेश रेड्डी जी, मंसूर उस्मानी, अकील नोमानी और अपने वीर रस की कविताओं से समूचे हिन्दुस्तान को सराबोर करने वाले हरि ओम पवार जी मौजूद होंगे.

हम आप तमाम शायरी पसंद लोगों के लिए राहत इन्दौरी साब की कुछ पंक्तियां पेश करते हैं.
बन के इक हादसा बाजार में आ जाएगा, जो नहीं होगा वो अखबार में आ जाएगा
चोर उचक्कों की करो कद्र, की मालूम नहीं, कौन, कब, कौन सी सरकार में आ जाएगा...

यदि आप भी इस फनकार को आमने-सामने सुनना चाहते हैं तो फिर आपके पास एक सुनहरा मौका है. यह कार्यक्रम 13 नवंबर (रविवार) शाम 4 से 5 के बीच मुख्य लॉन (स्टेज 1) पर तय है. ऐसे में मौंका चूक न जाएं. यहां आने के लिए कोई फीस नहीं है.

साहित्य आज तक: दिल्ली में 12-13 नवंबर को जुटेंगे कलम के दिग्गज, जानें कैसे करें रजिस्ट्रेशन

 मुफ्त रजिस्ट्रेशन के लिए यहां क्लिक करें.


आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay