एडवांस्ड सर्च

Advertisement

साहित्य आजतक 2019 तीसरा दिन: हंस राज हंस,अनूप जलोटा ने जमाई महफिल

aajtak.in
03 November 2019
साहित्य आजतक 2019 तीसरा दिन: हंस राज हंस,अनूप जलोटा ने जमाई महफिल
1/7
साहित्य आजतक 2019 के तीसरे दिन की शुरुआत गजल सम्राट अनूप जलोटा से हुई. इसके बाद साहित्य और संगीत का वो जमावड़ा लगा जो देखने योग्य था. एक के बाद एक बॉलीवुड और गैर बॉलीवुड के सितारों ने शिरकत की और लोगों का खूब मनोरंजन किया.
साहित्य आजतक 2019 तीसरा दिन: हंस राज हंस,अनूप जलोटा ने जमाई महफिल
2/7
स्वानंद किरकिरे- साहित्य आज तक 2019 में मशहूर गीतकार, संगीतकार और एक्टर स्वानंद किरकिरे ने शिरकत की. उन्होंने इस दौरान अपनी प्रोफेशनल फ्रंट के बारे में बातें कीं.
साहित्य आजतक 2019 तीसरा दिन: हंस राज हंस,अनूप जलोटा ने जमाई महफिल
3/7
पंकज उधास- गजल गायक पंकज उधास ने साहित्य आज तक के मंच पर शिरकत की. उन्होंने एक पुराना किस्सा शेयर करते हुए बताया कि 'मैं म्युनिसिपल स्कूल में पढ़ता था जहां बच्चे सुबह प्रार्थना गाते थे. टीचर को पता चला कि मैं अच्छा गाता हूं. वहां से फिर मुझे प्रार्थना लीड करने की जिम्मेदारी दी गई. बस वहां से मेरा गायन शुरू हुआ.'
साहित्य आजतक 2019 तीसरा दिन: हंस राज हंस,अनूप जलोटा ने जमाई महफिल
4/7
इम्तियाज अली- रोमांटिक फिल्मों के रॉकस्टार इम्तियाज अली ने साहित्य आजतक 2019 के मंच पर गीत-संगीत के साथ देश के हालातों पर चर्चा की. इम्तियाज ने कहा कि राष्ट्रवाद को लेकर कोई विवाद नहीं हो सकता. पार्टियों को लेकर विवाद हो सकते हैं. मुझे देश में कोई खतरा महसूस नहीं होता.
साहित्य आजतक 2019 तीसरा दिन: हंस राज हंस,अनूप जलोटा ने जमाई महफिल
5/7
हंस राज हंस- दस्तक दरबार में सूफियाना शाम ने हंसराज हंस के गीतों ने लोगों को सूफी रंगत से रंग दिया. उन्होंने मजा ए इश्क और जिन्हें देखने के लिए जा रहे हैं, वो पर्दे पर पर्दा किए जा रहे हैं, कव्वाली सुनाई तो पूरा माहौल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज गया.
साहित्य आजतक 2019 तीसरा दिन: हंस राज हंस,अनूप जलोटा ने जमाई महफिल
6/7
अनूप जलोटा- भजन सम्राट अनूप जलोटा ने साहित्य आजतक 2019 में शिरकत की. इसमें कोई दोराय नहीं है कि अनूप जलोटा की आवाज में वो कशिश है जो लोगों को मदहोश कर देती है. इस बार अनूप जलोटा ने भजन गाने के साथ ही किशोर दा के गाने भी गाए.
साहित्य आजतक 2019 तीसरा दिन: हंस राज हंस,अनूप जलोटा ने जमाई महफिल
7/7
मनोज मुंतशिर- गीतकार मनोज मुंतशिर ने अपनी पहली कविता सुनाई, उन्होंने बताया कि जब मेरा दिल पहली बार दिल टूटा था. लोग कहते थे कि मेरी उस कविता में भी रदीफ और काफिया दुरुस्त था. वो कविता थी कि मैं तेरे खत वापस लौटा दूंगा, ला मेरी जवानी वापस कर.
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay