Sahitya AajTak
Advertisement

सियाराम लखन खेलैं होरी, सरजू तट राम खेलैं होरी

aajtak.in [Edited By: जय प्रकाश पाण्डेय]नई दिल्ली, 25 March 2019

सियाराम लखन खेलैं होरी, सरजू तट राम खेलैं होरी, राम जी मारैं भरी पिचकारी, भरी पिचकारी- हो री पिचकारी लाज भरी सीता गोरी...अबीर गुलाल उड़ावन लागैं, उड़ावन लागै- हो उड़ावन लागैं, सब लायें भरी-भरी झोरी, सरजू तट राम खेलैं होरी...मालिनी अवस्थी की आवाज में होली गीत, साहित्य आजतक के पाठकों के लिए खास....

Siyaram Lakhan khele Holi Sarayu tat Ram khele Holi, Awadh Holi Lok Sangit by Malini Awasthi

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay