एडवांस्ड सर्च

Advertisement

अरुंधति-मेनका ने लड़ी थी LGBT समुदाय की लड़ाई, अब कबूली कपल होने की बात

aajtak.in
21 July 2019
अरुंधति-मेनका ने लड़ी थी LGBT समुदाय की लड़ाई, अब कबूली कपल होने की बात
1/5
एलजीबीटी समुदाय की लंबी लड़ाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल समलैंगिक रिश्तों को अपराध श्रेणी से बाहर रखने का फैसला किया था. धारा 377 के विरोध में लड़ाई लड़ने वाली एडवोकेट अरुंधति काटजू और मेनका गुरुस्वामी ने अब कपल होने की बात स्वीकारी है. 18 जुलाई को सीएनएन के फरीद जकारिया को दिए इंटरव्यू में दोनों ने इस बात को स्वीकार किया है.
अरुंधति-मेनका ने लड़ी थी LGBT समुदाय की लड़ाई, अब कबूली कपल होने की बात
2/5
सूत्रों के मुताबिक फरीद जकारिया को दिए इंटरव्यू में दोनों ने कहा, '2018 की जीत वकील होने के साथ-साथ बतौर कपल भी उनके लिए काफी मायने रखती है.' मेनका गुरुस्वामी ने कहा, '2013 में एक वकील और देश के नागरिक के तौर पर नुकसान हुआ था. वो पर्सनल लॉस था. एक वकील जो कोर्ट में कई दूसरे सामाजिक मुद्दों पर बहस कर रहा है, उसे अपराधी का दर्जा मिलने पर खुशी नहीं होगी.'
अरुंधति-मेनका ने लड़ी थी LGBT समुदाय की लड़ाई, अब कबूली कपल होने की बात
3/5
पिछले साल 6 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट ने आईपीसी की धारा 377 के उस प्रावधान को रद्द कर दिया था, जिसमें आपसी सहमति से बनाए समलैंगिक संबंधों को अपराध माना जाता था. उस वक्त चीफ जस्टिस रहे दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच ने इसे निजता का मौलिक अधिकार बताते हुए खंडन किया था.
अरुंधति-मेनका ने लड़ी थी LGBT समुदाय की लड़ाई, अब कबूली कपल होने की बात
4/5
बता दें कि सुप्रीम कोर्ट की दो नामी वकीलों ने पहली बार निजी संबधों का सावर्जनिक रूप से खुलासा किया है. हाल ही में टाइम मैग्जीन ने दोनों का नाम दुनिया के सबसे प्रभावशाली लोगों की सूची में दर्ज किया था.
अरुंधति-मेनका ने लड़ी थी LGBT समुदाय की लड़ाई, अब कबूली कपल होने की बात
5/5
बहुत कम लोग ये बात जानते हैं कि अरुंधति काटजू सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्कंडे काटजू की भतीजी हैं, जबकि मेनका गुरुस्वामी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के राजनीतिक सलाहकार मोहन गुरुस्वामी की बेटी हैं.
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay