एडवांस्ड सर्च

Advertisement

Daughter’s Days: कैसे पिता बनाएं बेटियों को बेस्ट फ्रेंड? ये रहे 5 टिप्स

aajtak.in
22 September 2019
Daughter’s Days: कैसे पिता बनाएं बेटियों को बेस्ट फ्रेंड? ये रहे 5 टिप्स
1/6
आज पूरे देश में 'नेशनल डॉटर्स डे' सेलिब्रेट किया जा रहा है. बेटियों के लिए मनाए जाने वाले इस खास दिन का काफी महत्व है. आज के दिन हर पिता को अपनी बेटी के साथ एक खास रिश्ता बनाने का संकल्प लेना चाहिए. आइए आपको बताते हैं कि आखिर कैसे आप अपनी बेटी के बेस्ट फ्रेंड बन सकते हैं.
Daughter’s Days: कैसे पिता बनाएं बेटियों को बेस्ट फ्रेंड? ये रहे 5 टिप्स
2/6
खुलकर जीने की आजादी

अक्सर घरों में बेटियों के लिए तरह-तरह के नियम बना दिए जाते हैं. क्या पहनना चाहिए और कब घर से बाहर निकलना चाहिए, जैसे कई नियमों की बंदिशें बेटियों को उड़ान नहीं भरने देते. अगर आप उन्हें अपनी मर्जी से खुलकर जीने की आजादी दें तो यकीन मानिए आपसे अच्छा दोस्त उनका कोई और हो ही नहीं सकता.
Daughter’s Days: कैसे पिता बनाएं बेटियों को बेस्ट फ्रेंड? ये रहे 5 टिप्स
3/6
खुलकर बातें करें

अक्सर मिडिल क्लास सोसायटी में लोग अपनी बेटियों से काफी लिमिटेड मुद्दों पर बात करना ही पसंद करते हैं. इससे आपके रिलेशनशिप में एक गैप आ जाता है जो जिंदगीभर आप दोनों को अपनेपन के खास एहसास से मरहूम रखता है. इसलिए आपको हर विशेष मुद्दे पर उनसे बात करनी चाहिए.
Daughter’s Days: कैसे पिता बनाएं बेटियों को बेस्ट फ्रेंड? ये रहे 5 टिप्स
4/6
बेटी के लिए स्पेशल गिफ्ट

बेटी के साथ रिश्ते को मजबूत बनाने और उसे हमेशा खुश रखने के लिए स्पेशल ट्रीट की प्लानिंग करते रहिए. आप चाहें तो खास मौकों पर उन्हें कोई गिफ्ट भी दे सकते हैं.
Daughter’s Days: कैसे पिता बनाएं बेटियों को बेस्ट फ्रेंड? ये रहे 5 टिप्स
5/6
सामाजिक तानों से करें बचाव

बेटियों को लेकर इतनी बातें परिवार में नहीं होती, जितनी आस-पड़ोस में होती है. वो कहां जाती हैं, क्या करती हैं और क्या पहनती हैं, ये अमूमन पड़ोस में चर्चा का विषय बना रहता है. ऐसे में समाज के तानों से घबराकर बेटी पर नकेल कसने की बजाय उसे सपोर्ट करें और बताएं कि आप हर सिचुएशन में उनके साथ हैं.
Daughter’s Days: कैसे पिता बनाएं बेटियों को बेस्ट फ्रेंड? ये रहे 5 टिप्स
6/6
बेटियों की सलाह जरूरी

घर के निजी फैसलों में अक्सर बेटों की सलाह को ज्यादा तवज्जो दी जाती है. इन मामलों में बेटियों से बात तक नहीं की जाती, जो कि बहुत गलत है. घर के हर महत्वपूर्ण फैसले लेने से पहले पिता को बेटियों से भी राय लेनी चाहिए. उनकी एक राय परिवार से समस्याओं का निपटारा कर सकती हैं.
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay