एडवांस्ड सर्च

सुरीले सवाल करने वाली माला सेखरी से बात

हिंदी न्यूज चैनल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है, जब म्यूजिक से जुड़ी हस्तियों को लेकर एक खास प्रोग्राम तैयार हुआ हो. ये पहल की है देश के नंबर वन न्यूज चैनल आज तक ने. आज तक पर पिछले हफ्ते शुरू हुआ है हर शनिवार रात 8 बजे एक सुर भरा सफर, जिसका नाम है सुरीली बात. इस प्रोग्राम में संगीत की हस्तियों से उनकी जिंदगी के सफर पर, उनकी संगीत की शुरुआती तालीम पर बात करती हैं इंडिया टुडे ग्रुप के लाइफ स्टाइल सेक्शन की सीओओ और म्यूजिक टुडे की हेड माला सेखरी.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
सौरभ द्विवेदीनई दिल्‍ली, 02 August 2013
सुरीले सवाल करने वाली माला सेखरी से बात माला सेखरी

हिंदी न्यूज चैनल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है, जब म्यूजिक से जुड़ी हस्तियों को लेकर एक खास प्रोग्राम तैयार हुआ हो. ये पहल की है देश के नंबर वन न्यूज चैनल आज तक ने. आज तक पर पिछले हफ्ते शुरू हुआ है हर शनिवार रात 8 बजे एक सुर भरा सफर, जिसका नाम है सुरीली बात. इस प्रोग्राम में संगीत की हस्तियों से उनकी जिंदगी के सफर पर, उनकी संगीत की शुरुआती तालीम पर बात करती हैं इंडिया टुडे ग्रुप के लाइफ स्टाइल सेक्शन की सीओओ और म्यूजिक टुडे की हेड माला सेखरी.

हमने माला सेखरी से जाना इस शो के कंसेप्ट के बारे में, कैसे ये प्रोग्राम अब तक म्यूजिक फील्ड की हस्तियों पर बने दूसरे टीवी प्रोग्राम से बिल्कुल अलहदा है और आगे इसमें कौन सी लय और ताल नजर आएंगी.

कैसे आया सुरीली बात का ख्याल
लाइफ स्टाइल सेक्शन हेड कर रही हूं बरसों से. इस दौरान कई सिंगर्स कंपोजर्स से मिलना होता था. म्यूजिक टुडे की मुखिया होने के नाते भी कई शास्त्रीय, लोक और फिल्मी संगीतकारों और गायकों से बात मुलाकात होती थी. इनमें से कई मेरे अच्छे दोस्त हैं. जब भी ये मिलते हैं, मैं एक चीज नोटिस करती. मेरे दूसरे दोस्त इनसे इनकी शख्सियत से बस गानों के जरिए रूबरू होते. ये कुछ यूं होता कि अरे साहब आपने वो लाइन क्या गजब गाई है. बस एक बार गुनगुना दीजिए. या क्या धुन बनाई है. कहां से आया इसका ख्याल.

मगर मेरे ख्याल में ये बात आई कि ये जो गायक हैं, संगीतकार हैं इनका गाना, इनका संगीत तो सब देखते सुनते हैं, मगर जिन्हें देख सुनकर ये बड़े हुए, बने, इस मकाम तक पहुंचे, उसके बारे में कहीं जानकारी नहीं मिलती. यही शुरुआत थी सुरीली बात की, इस नई सोच की.

सिंगर गा रहा है दूसरों के गाने
सुरीली बात में हमने कोशिश की कि जो मेहमान आए हैं. वे अपने बचपन, अपनी शुरुआती तैयारियों और उन गानों के बारे में बात करें, जिन्हें रेडियो पर, टीवी पर या टेप रेकॉर्डर पर सुनकर उन्होंने रियाज किया. यहां ये साफ था कि सिंगर या कंपोजर दो कैटिगरी में आते हैं. एक हैं शफाकत जैसे, घराने से ताल्लुक रखते. बचपन से ही उस्ताद की संगत में कठोर रियाज करते. दूसरे हैं के. के. या सुनिधि की तरह. नॉर्मल मिडल क्लास फैमिली में भाई बहनों के साथ रहते और सुन सुनकर सीखते. तो ये जो सीखने का क्रम था, इसे जानना बेहद जरूरी भी था और दर्शकों के लिहाज से सोचें तो कुछ ताजगी भरा भी. इसी को ध्यान में रखकर हम सुरीली बात में न सिर्फ गायकों से उनके बचपन, शुरुआती रियाज के बारे में पूछ रहे हैं. बल्कि उन गानों को भी सुन रहे हैं, जिन्हें गाकर उन्होंने सुर साधे. ये बहुत अलग है. शान किशोर का गाना गाएं या सुनिधि लता जी को गुनगुनाएं.इससे उस जेहन, उस वक्त की एक तस्वीर सामने आती है, जब हमारे आज के सिंगिंग सुपर स्टार तैयार हो रहे थे. जब वे एक टेप या रेकॉर्ड को वैसे ही जतन से रखते थे, संभालते थे, सुनते थे, जैसे कोई और बच्चा किसी खिलौने को. बाइक को या फेवरिट गैजेट को रखेगा.

तकल्लुफ किस बात का, ये बात ही तो है
सुरीली बात में दर्शक जो एक बात नोट करेंगे वह ये है कि यहां न तो सिंगर और न ही एंकर के एक्सप्रेशन बनावटी नजर आएंगे. ये नजर नहीं आएंगे क्योंकि सेट पर या शूट के दौरान कुछ भी नकली नहीं होता. इसीलिए न कैमरे की लोकेशन की परवाह है न इस बात की कि अमूमन इंटरव्यू करने वाला वहीं बैठे बैठे गानों पर झूमने नहीं लगता. ये बात है, आमने सामने की ईमानदार बात, गानों, संगीत से सजी. ऐसे में अगर किसी गाने पर पैर थिरकते हों, तो उन्हें तो नजर आना ही है. इसीलिए सुरीली बात में कैंडिड मोमेंट्स की भरमार है. दे ताली वाला अंदाज है.

सुखविंदर मस्ती से भरपूर शरारती लड़के सा है
(माला सेखरी ने साझा किया पहले ऐपिसोड का अनुभव, जिसमें मेहमान थे सुखविंदर सिंह)
कमाल का था ये पहला ऐपिसोड सुखविंदर के साथ. वो शूट के लिए आया और गले मिलकर मुस्कुराते हुए बोला, कैसे हैं आप. मुझे लगा कि ये तो पक्का पंजाबी है. बड़े दिल वाला. लाउड और खुश मिजाज. आप गौर से देखें तो नजर आएगा कि सुखविंदर की आंखों में मस्ती है. हर एक्सप्रेशन वहां नजर आता है. उसमें भी 90 फीसदी मस्ती है. मतलब ये कुछ वैसा ही एटीट्यूट है कि मैं मस्त हूं यार. खुश हूं अपनी लाइफ से, काम से. मुझे किस बात का दिखावा करना. और यही भाव मेरे दिमाग में घना होता रहा ऐपिसोड की शूटिंग के तीन घंटों के दौरान.

क्या हुआ शूट के दौरान
बातचीत हुई. गाने हुए. जोक्स हुए. सब कुछ बहुत मजेदार था. मुझे कभी नहीं लगा कि वो अपनी कोई खास छवि बनाने की या बनी हुई छवि को पुख्ता करने की कोशिश कर रहा है. वो जैसा था उसमें बहुत सहज था. कपड़े, बाल, बातचीत पर्सनैलिटी. जो है सो है. ये नहीं था कि मुझे ऐसा होना चाहिए, वैसा होना चाहिए. उसका हिसाब बहुत साफ है. ये मेरा म्यूजिक है, ऐसी मेरी पर्सनैलिटी है, आप आपको जो पूछना है पूछिए.

मगर इस साफगोई के साथ मस्ती का मसाला भी मिला हुआ है. सुखविंदर को बात करने के दौरान जैसे ही मौका मिलेगा, वो मजाकिया अंदाज अपना लेगा. जोक दाग देगा. शूट में भी यही हो रहा था. मैं उससे बोली भी कि यू आर ए ब्रैट. और वो हंसते हुए बोला कि हां, मैं तो हूं.

अच्छी बात ये रही कि सुखविंदर में कोई हिचक नहीं. आप जो कहो गा देगा. फिर बीच शूट में ही बोलने लगा कि अरे आप तो कुछ भी गवा लो. आपने मेरा मूड इस बातचीत से इतना अच्छा कर दिया. इस इंटरव्यू के दौरान एक किस्म की ऊर्जा थी. मैं जब शूट के बाद घर गई तो लग रहा था कि आज एक नए अच्छे शख्स से मिली. जिससे बात करना अच्छा लगा. जिसके बारे में जानकर अच्छा लगा.

टेलंट का खजाना है सुक्खी
सुखविंदर की एक इमेज है पब्लिक में, खनक भरे नंबर्स से जुड़ी. फिर चाहे वो दिल से का छैंया छैंया हो, ताल का रमता जोगी हो या फिर स्लम डॉग मिलियेनर का जय हो. मगर एक दूसरा सुखविंदर भी है. क्लासिकल पर जबर्दस्त पकड़ रखने वाल. लंबा आलाप लेने वाला. सोलफुल रोमांटिक गाने में भी उसका जवाब नहीं. वो कंपोजर भी है. उसे म्यूजिक की समझ है. इसीलिए ए आर रहमान जैसा आला कंपोजर उसे बार बार रिपीट करता है. ये समझ उसके व्यवहार में भी दिखती है. बेहद ईमानदार, अगर कुछ पसंद नहीं तो साफ बता देगा. कुछ मन में नहीं रखेगा. गोल गोल नहीं घुमाएगा.

सुखविंदर से ही क्यों किया आगाज
सुरीली बात का जो टेंपो था. वो उससे बिल्ड हो रहा था. बड़ा स्टार है. हाल की दो बड़ी हिट फिल्मों भाग मिल्खा भाग और रांझणा में उसके गाने हिट रहे हैं. मगर मैं ये बात भी कहना चाहूंगी कि सुरीली बात का हर ऐपिसोड अलग है. म्यूजिक की जो हस्ती हमारी मेहमान है, उसकी पर्सनैलिटी के हिसाब से इसकी टोन सेट हो रही है. सुखविंदर मस्त हैं, तो सुनिधि संवेदनशील और जावेद अली तो पूरे जेंटलमैन. तो जैसे लोग वैसी ही बात. ताकि वे सहज रहें.तो मुझे भी बतौर इंटरव्यूअर गिरगिट की तरह संगीत की दुनिया के मुताबिक रंग बदलना पड़ रहा था. ताकि वे सहज रहें, खुले, खिलखिलाएंगे और बेधड़क अपनी दुनिया के राज बताएं.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay