एडवांस्ड सर्च

बहती हवा सी है जिसकी आवाज: शान

अपनी मखमली आवाज के लिए मशहूर शान का असली नाम शांतनु मुखर्जी है. उनका जन्म 30 सितंबर 1972 को मध्य प्रदेश के खांडवा में हुआ. पिता मानस मुखर्जी म्यूजिक कंपोजर थे और बहन सागारिका सिंगर हैं. इसलिए संगीत उन्हें विरासत में मिला.

Advertisement
आज तक ब्‍यूरोनई दिल्‍ली, 31 August 2013
बहती हवा सी है जिसकी आवाज: शान शान

अपनी मखमली आवाज के लिए मशहूर शान का असली नाम शांतनु मुखर्जी है. उनका जन्म 30 सितंबर 1972 को मध्य प्रदेश के खांडवा में हुआ. पिता मानस मुखर्जी म्यूजिक कंपोजर थे और बहन सागारिका सिंगर हैं. इसलिए संगीत उन्हें विरासत में मिला. 13 साल की उम्र में सिर से पिता का साया उठ जाने के बाद मां को सिंगर की नौकरी मिल गई और उन्होंने अपने दम पर ही परिवार को पाला. शान की पत्नी का नाम राधिका है. उनके दो बेटे हैं, सोहम और शुभ.

शान बच्चे ही थे, जब विज्ञापनों के जिंगल्स गाकर उन्होंने करियर शुरू कर दिया. फिर कुछ समय के लिए थमे और दोबारा लौटे. अब जिंगल्स के साथ वह रिमिक्स और कवर वर्जन गाने भी गाने लगे. 1989 में जब वह महज 17 साल के थे, 'परिंदा' फिल्म रिलीज हुई और इसमें शान ने गाया अपने फिल्मी करियर का पहला गाना, 'कितनी है प्यारी प्यारी दोस्ती हमारी'.

शान और उनकी बहन ने फिल्म 'नौजवान'से करियर शुरू किया. एक रिकॉर्डिंग कंपनी ने उनके साथ करार किया और कुछ सफल एलबम रिकॉर्ड किए. फिर आई एलबम 'क्यू-फंक' जिसकी दस लाख से ज्यादा कॉपी बिकीं. पॉप गुरु बिद्दू के मेडली म्यूजिक की संगत में, बहन सागारिका के साथ उन्होंने पॉप संगीत की दुनिया में कदम रखा. फिर आया आर डी बर्मन के मशहूर गाने'रूप तेरा मस्ताना' का रिमिक्स, जिसने उन्हें वह पहचान दी, जिसकी उन्हें जरूरत थी.

इसके बाद उन्होंने 'लवोलॉजी' लांच की, जिसे नौजवानों ने खूब पसंद किया. उनकी दूसरी एलबम 'तन्हा दिल' के दूसरे गाने 'भूल जा' ने खूब धूम मचाई. इस गाने के बोल खुद शान ने लिखे थे. गाना रिलीज होने के कुछ ही दिन में हिट हो गया और रेडियो पर काफी पॉपुलर रहा.

इसके बाद शान ने एक के बाद एक हिट गानों की झड़ी लगा दी. अपने उम्दा वीडियो और सुकून देने वाली कंपोजीशन की बदौलत 'दिल क्या करे' गाना खूब सुना गया. उनकी 'माना जनाब' एलबम में कई इमोशनल और शानदार गाने आए. इस एलबम ने शान की लोकप्रियता, मार्केट वैल्यू और इरादों को और मजबूत कर दिया.

साल 2000 में उन्होंने अपनी एलबम 'तनहा दिल' के लिए एमटीवी एशिया म्यूजिक अवॉर्ड जीता. तीन साल बाद शान ने एक और एलबम रिलीज की, 'अकसर', जो दोबारा एक बड़ी हिट साबित हुई. इस एलबम में ब्लू, मेल सी और समीरा जैसे अंतर्राष्ट्रीय सितारों ने भी गाने गाए.

'तनहा दिल' और 'अकसर' दोनों एलबम के लिए शान ने ही म्यूजिक कंपोज किया और गीत लिखे. सिर्फ टाइटल गाने 'तनहा दिल' को छोड़कर, जिसे राम संपत ने कंपोज किया था.

फिर आई शान की एलबम 'तिशनगी'. इसमें उन्होंने मशहूर रॉक बैंड एमएलटीआर के साथ एक गाना रिलीज किया, 'टेक मी टू योर हार्ट'. इसी एलबम का गाना 'शुरुआत' हॉलीवुड फिल्म 'द क्रॉनिकल्स ऑफ नार्निया: द लायन, द विच एंड द वार्डरोब' के प्रमोशन में इस्तेमाल किया गया.

2004 में उन्होंने बहन सागारिका के साथ बंगाली एलबम 'तोमर आकाश' रिलीज की. इसमें वे अपने पिता के वे गाने दुनिया के सामने लेकर आए, जो अब तक रिलीज नहीं किए गए थे. वह ऐसी ही एक एलबम हिंदी में भी लाने वाले हैं.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay