एडवांस्ड सर्च

तीन साल पहले अंतरिक्ष की दुनिया में जब 'मंगलयान' ने रचा इतिहास

मंगलयान को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से लॉन्च किया गया था. दोपहर 2 बजकर 39 मिनट पर PSLV C-25 'मार्स ऑर्बिटर' नाम के उपग्रह को लेकर अंतरिक्ष रवाना किया गया. इस मंगल मिशन को 28 अक्टूबर को ही लॉन्च किया जाना था लेकिन खराब मौसम की वजह से वैज्ञानिकों ने लॉन्चिंग 5 नवंबर तक टाल दी थी.

Advertisement
aajtak.in
ऋचा मिश्रा 05 November 2017
तीन साल पहले अंतरिक्ष की दुनिया में जब 'मंगलयान' ने रचा इतिहास mangalyaan satellite

भारत के अंतरिक्ष मिशन मंगलयान ने आज अपने तीन साल पूरे कर लिए हैं. 5 नवंबर 2013 को मंगल यात्रा पर भेजे गए 'मंगलयान' ने आज ही के दिन 24 सितंबर 2014 को मंगल की कक्षा में पहुंचकर इतिहास रच दिया था और इसके साथ ही भारत अपने पहले प्रयास में ही मंगल पर पहुंच जाने वाला दुनिया का पहला देश बन गया. मंगल पर पहुंचने वाले अमेरिका और पूर्व सोवियत संघ जैसे देशों को कई प्रयासों के बाद ये सफलता मिली थी.

जानें मंगलयान से जुड़ी बातें

मंगलयान को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से लॉन्च किया गया था. दोपहर 2 बजकर 39 मिनट पर PSLV C-25 'मार्स ऑर्बिटर' नाम के उपग्रह को लेकर अंतरिक्ष रवाना किया गया. इस मंगल मिशन को 28 अक्टूबर को ही लॉन्च किया जाना था लेकिन खराब मौसम की वजह से वैज्ञानिकों ने लॉन्चिंग 5 नवंबर तक टाल दी थी.

...जब इंदिरा गांधी ने नाश्ते में मांगी जलेबी, मठरी

जब हुई मंगल अभियान की घोषणा

भारत के मंगल अभियान की पहली औपचारिक घोषणा प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 2012 में स्वतंत्रता दिवस पर अपने भाषण में की थी. उन्होंने कहा था, 'मंगलयान विज्ञान और टेक्नोलॉजी की दुनिया में एक बड़ा कदम होगा'. उसके बाद से भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने 15 महीने के रिकॉर्ड समय में सैटेलाइट विकसित किया.

गजल को हर जुबां तक पहुंचाने वाले दुष्‍यंत कुमार को सलाम

रंग लाई भारतीय वैज्ञानिकों की मेहनत

इसरो ने इस मानवरहित सैटेलाइट को 'मार्स ऑर्बिटर' मिशन नाम दिया है. इसकी कल्पना, डिजाइन और निर्माण भारतीय वैज्ञानिकों ने किया. और इसे भारत की धरती से भारतीय रॉकेट के जरिए अंतरिक्ष में भेजा गया. भारत के पहले मंगल अभियान पर 450 करोड़ रुपये का खर्च आया और इसके विकास पर 500 से अधिक वैज्ञानिकों ने काम किया था.

वीडियो गेम 'सुपर मारियो ब्रदर्स' को आज भी याद करते हैं बच्चे

ISRO के पूर्व चेयरमैन के. राधाकृष्णन का कहना था कि भारत का मंगल अभियान वास्तव में 'टेक्नोलॉजी का प्रदर्शन' करने वाला है, जिससे दुनिया को यह दिखाया जा सकेगा कि भारत दूसरे ग्रहों तक भी छलांग लगा सकता है. उन्होंने कहा अब तक सिर्फ रूस, जापान, चीन, अमेरिका और यूरोपियन स्पेस एजेंसी ने मंगल ग्रह तक जाने की कोशिश की है, जिनमें से सिर्फ अमेरिका और यूरोपियन स्पेस एजेंसी को सफलता मिली है. 1960 से 45 मिशन लॉन्च किए जा चुके हैं, जिनमें एक-तिहाई विफल रहे. 2011 में चीन के मिशन की विफलता सबसे ताजा उदाहरण है.

जब लगा बधाइयों का तांता

जैसे मंगलयान के सफल प्रक्षेपण की खबर आई. देशभर में बंधाइयों का तांता लग गया.  शुरुआत खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की थी. हालांकि चौंकाने वाली बात यह थी कि ISRO के आधिकारिक घोषणा से करीब आधे घंटे पहले ही उन्होंने वैज्ञानिकों को इसकी बधाई दे दी. पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मिशन मंगल की सफल शुरुआत के लिए वैज्ञानिकों को बधाई दी. उन्होंने खुद फोन पर इसरो के तत्कालीन अध्यक्ष के.राधाकृष्णन को ISRO की इस ऐतिहासिक सफलता के लिए बधाई दी. सोनिया गांधी, सुषमा स्वराज ने भी ISRO के वैज्ञानिकों को शुक्रिया कहा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay