एडवांस्ड सर्च

होमियोपैथी के गहरे जानकार थे ओ पी नैयर

अपने सुरीले संगीत की वजह से फिल्म जगत में खास स्थान हासिल करने वाले संगीतकार ओ पी नैयर होमियोपैथी के गहरे जानकार थे और 1990 के दशक में उनके पास मरीज भी आते थे.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
आज तक ब्यूरोनई दिल्ली, 15 January 2013
होमियोपैथी के गहरे जानकार थे ओ पी नैयर

अपने सुरीले संगीत की वजह से फिल्म जगत में खास स्थान हासिल करने वाले संगीतकार ओ पी नैयर होमियोपैथी के गहरे जानकार थे और 1990 के दशक में उनके पास मरीज भी आते थे.

इनमें कुछ लोग उनके प्रशंसक भी होते थे जो उनसे मिलने के लिए मरीज बन कर आते थे.

फिल्म समीक्षक चैताली नोन्हारे ने कहा ‘नैयर मनमौजी थे. एक बार उन्हें होमियोपैथी की धुन सवार हो गई. बस, सीखा और 1990 के दशक में होम्योपैथ के तौर पर लोगों का इलाज भी शुरू कर दिया. उनके पास मरीज आने लगे. कुछ लोग तो उनसे मिलने के लिए मरीज बन कर उनके पास आते थे.’

उन्होंने कहा, ‘अक्सर संगीतकार अपने पास धुन तैयार करके रखते हैं. निर्माता उन धुनों पर गीतकार को गीत लिखने के लिए कहता है. लेकिन ओ पी नैयर इसे सही नहीं मानते थे. वह गीत के बोल सुनते थे और उसके अनुसार धुन तैयार करते थे.

अगर धुन उन्हें पसंद आ गई तो ठीक, वर्ना उस धुन को वह एक तरफ कर दूसरी धुन तैयार करने में जुट जाते थे.’

सुगम संगीत की कलाकार देवयानी झा ने कहा, ‘ओ पी नैयर ने शास्त्रीय संगीत का प्रशिक्षण नहीं लिया था लेकिन फिल्म ‘कल्पना’ का राग ललित पर आधारित गीत ‘तू है मेरा प्रेम देवता’ और फिल्म ‘रागिनी’ का राग देश पर आधारित गीत ‘छोटा सा बालमा’ सुन कर नहीं लगता कि वह शास्त्रीय संगीत में दक्ष नहीं थे.’

उन्होंने कहा ‘उस दौर में ज्यादातर संगीतकारों की पसंद लता मंगेशकर थीं. लेकिन ओ पी नैयर ऐसे संगीतकार थे जिन्होंने उस दौर में गीता दत्त और आशा भोंसले के स्वर में लोकप्रिय गीत दिए.’

16 जनवरी 1926 को लाहौर में जन्मे ओ पी नैयर की संगीत में गहरी दिलचस्पी थी. परिवार को यह पसंद नहीं था लिहाजा उन्होंने घर छोड़ा और वह आकाशवाणी के एक केंद्र से जुड़ गए. उन्होंने तत्कालीन शीर्ष गायक सी एच आत्मा के लिए ‘प्रीतम आन मिलो’ गीत की धुन बनाई. यह गीत बेहद लोकप्रिय हुआ और नैयर भी चर्चित हो गए. लेकिन उसी दौरान देश का विभाजन हुआ और नैयर को अमृतसर आना पड़ा. फिर नई दिल्ली के आकाशवाणी केंद्र में नौकरी शुरू हुई.

तय घंटों की नौकरी रास नहीं आई और नैयर बंबई पहुंच गए. शुरुआती फिल्में फ्लॉप हुईं और संगीत के सुरों के इस जादूगर ने अमृतसर वापसी का फैसला कर लिया. लेकिन तभी वह गुरूदत्त से मिले जो ‘आर पार’ बनाने की सोच रहे थे. वर्ष 1954 में ओ पी नैयर के संगीत से सजी ‘आर पार’ आई और फिल्म संगीत के आकाश में वह नया नक्षत्र चमका जिसकी रची धुनों पर सातों सुर थिरकते महसूस होते हैं.

देवयानी ने कहा ‘उनके संगीत का जादू 1950 के दशक में संगीत प्रेमियों के सिर चढ़ कर बोलता था. 1990 के दशक में उन्होंने फिल्म ‘जिद’ और ‘निश्चय’ में संगीत दिया और उनका सुरीलापन यथावत था.’ नैयर ने 28 जनवरी 2007 को इस दुनिया को अलविदा कह दिया.

(16 जनवरी को जन्मदिन पर)

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay