एडवांस्ड सर्च

Advertisement

मैं ही बनूंगा CM कैंडिडेटः चव्हाण

'पंचायत आज तक' में महाराष्‍ट्र विधानसभा चुनाव पर मंथन के दौरान महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने साफ कर दिया कि भले ही कांग्रेस और एनसीपी के बीच सीट को लेकर अबतक सहमति नहीं बनी है. लेकिन अगर यह गठबंधन चुनावी अखाड़े में उतरता है, तो वह ही इसका चेहरा होंगे.
मैं ही बनूंगा CM कैंडिडेटः चव्हाण पृथ्वीराज चव्हाण
aajtak.in [Edited by: हर्षिता]मुंबई, 13 September 2014

'पंचायत आज तक' में महाराष्‍ट्र विधानसभा चुनाव पर मंथन के दौरान महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने साफ कर दिया कि भले ही कांग्रेस और एनसीपी के बीच सीट को लेकर अबतक सहमति नहीं बनी है. लेकिन अगर यह गठबंधन चुनावी अखाड़े में उतरता है, तो सीएम पद के लिए वह ही इसका चेहरा होंगे. गठबंधन के चेहरे पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, 'हम चुनाव के दौरान ही युति का चेहरा घोषित कर देंगे. चेहरे की दिक्कत शिवसेना-बीजेपी को है. हमें नहीं'.

चुनाव प्रचार में पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी की भूमिका पर जोर देते हुए पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि राहुल गांधी नया नेतृत्व, नया प्रोसेस लाने जा रहे हैं. चव्हाण ने कहा, 'ठीक है लोकसभा चुनाव में नतीजे कुछ गलत आए. मगर राहुल युवाओं के लिए स्टार कैंपेनर हैं. हर बार की तरह सोनिया गांधी, राहुल गांधी और डॉ. मनमोहन सिंह स्टार प्रचारक होंगे.

'आंकड़ों की मार्केटिंग के बाजीगर हैं मोदी'

गुजरात और महाराष्ट्र की तुलना पर सीएम पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि नरेंद्र मोदी आंकड़ों की मार्केटिंग की टेकनीक में बेहतर हैं. वह पूरे देश को बहकाने में कामयाब रहे. मगर मोदी को सिर्फ गुजरात मॉडल से सफलता नहीं मिली. चव्हाण ने कहा, 'महाराष्ट्र में 18 प्रतिशत जमीन सिंचित है. हरियाणा और पंजाब में करीब 90 फीसदी सिचिंत जमीन है. ऐसे में हमने हर प्राकृतिक आपदा का डटकर सामना किया. लेकिन हमने इसकी मार्केटिंग नहीं की'.

'यूपीए से लोग नाराज थे, इसकी सजा मिली'

लोकसभा चुनाव के नतीजों का असर महाराष्ट्र चुनाव पर होगा या नहीं इस सवाल पर पृथ्वीराज ने कहा, 'राज्य में 15 साल से हम सत्ता में हैं. जाहिर है कि लोगों ने हमें शिवसेना और बीजेपी से बेहतर पाया. रही लोकसभा चुनाव की बात, तो देश की जनता शायद यूपीए सरकार से नाराज थी. अब लोगों का गुस्सा उतर चुका है'.

विधानसभा चुनाव में मोदी मैजिक पर पृथ्वीराज ने कहा कि स्थानीय निकाय चुनाव में मोदी लहर से पहले कांग्रेस ने 58 फीसदी सीटें जीती थीं. वहीं शिवसेना और बीजेपी 28 फीसदी सीटें जीत पाई. मगर आखिरी वक्त में यूपीए से नाराजगी की शायद लोगों ने हमें सजा दी.

पंचायत आज तक में पृथ्वीराज चव्हाण ने अपने कार्यकाल की उपलब्धियां गिनाईं. साथ ही इस ओर भी ध्यान खींचने की कोशिश की कि उद्धव ठाकरे को सरकार चलाने का कोई अनुभव नहीं है. चव्हाण ने कहा, '1995 से 1999 के बीच शिवसेना की सरकार थी. तब उद्धव का कोई रोल नहीं था. इनके पास बरसों से कॉरपोरेशन है. इसे कैसे चलाया है, लोग देख रहे हैं'.

महाराष्ट्र में 15 अक्टूबर को चुनाव होंगे. 19 सितंबर को नतीजे घोषित किए जाएंगे.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay