एडवांस्ड सर्च

एक जैसे नहीं हैं योग और व्यायाम, दोनों में है इतना फर्क

अधिकतर लोग योगासन तथा व्यायाम इन दोनों को एक ही समझते हैं परन्तु ऐसा नहीं है. इन दोनों का अपना-अपना महत्व होता है. योग सिर्फ एक कसरत नहीं है. कसरत में तो आप सिर्फ शारीरिक प्रक्रिया करते हैं लेकिन योग में आप शारीरिक, मानसिक एवं भावानात्मक प्रक्रिया करते हैं. योगासन शरीर की स्थिरता को बनाए रखता है जबकि व्यायाम शरीर की गतिशीलता को बढ़ाता है.

Advertisement
aajtak.in
प्रज्ञा बाजपेयी नई दिल्ली, 13 June 2018
एक जैसे नहीं हैं योग और व्यायाम, दोनों में है इतना फर्क योग और एक्सरसाइज में फर्क

अधिकतर लोग योगासन तथा व्यायाम दोनों को एक ही समझते हैं परन्तु ऐसा नहीं है. इन दोनों का अपना-अपना महत्व होता है. योग सिर्फ एक कसरत नहीं है. कसरत में तो आप सिर्फ शारीरिक प्रक्रिया करते हैं लेकिन योग में आप शारीरिक, मानसिक एवं भावानात्मक प्रक्रिया करते हैं. योगासन शरीर की स्थिरता को बनाए रखता है जबकि व्यायाम शरीर की गतिशीलता को बढ़ाता है.

आइए जानते हैं योग और व्यायाम (एक्सरसाइज) में अंतर-

एक्सरसाइज में आप अपनी सांसों पर ध्यान नहीं देते और सांसें काफी तेज हो जाती हैं. योग में सांसों पर संतुलन सिखाया जाता है और आसन के आधार पर सांस लेनी होती है.

योगासन आंतरिक अंगों पर अधिक प्रभाव डालता है. जबकि व्यायाम से शरीर बाहर से बलिष्ठ दिखाई देता है.

योगासन से शरीर लचीला रहता है जबकि व्यायाम से मांसपेशियों में कड़ापन आ जाता है.

एक्सरसाइज तीव्रता और प्रबलता पर जोर देती है, जिससे मांसपेशियों को नुकसान भी पहुंच सकता है. योग धीमी गति से किया जाता है और सहनशक्ति बढ़ाता है. योग से मांसपेशियां कमजोर नहीं होती हैं.

एक्सरसाइज से पाचन शक्ति तेज हो जाती है जिससे भूख ज्यादा लगती है और इंसान अधिक खाता है. योग से पाचन शक्ति धीरे होती है जिससे भूख कम होती है और इंसान कम खाने लगता है.

एक्सरसाइज से तेजी से ऊर्जा खर्च होती है जिससे आप थक जाते हैं. योग करते समय ऊर्जा धीरे धीरे खर्च होती है जिससे आप थकते नहीं बल्कि तरो ताजा महसूस करते हैं.

एक्सरसाइज के लिए आपको पर्याप्त जगह और साधन/ सामान की जरूरत होती है लेकिन योग के लिए आपको सिर्फ एक मैट और थोड़ी सी जगह की जरूरत होती है.

एक्सरसाइज करते समय आपको अपना ध्यान केन्द्रित नहीं करना होता. योग करते समय आपको अपनी सांसों और आसान पर ध्यान केन्द्रित करना होता है जिससे शरीर के प्रति जागरूकता बढ़ती है. योग से मानसिक शक्ति बढ़ती है तथा इन्द्रियों को वश में करने की शक्ति आती है.

एक्सरसाइज में कोई सिद्धांत नहीं होता जबकि योग पांच सिद्धांतों पर आधारित है: सही भोजन, सही सोच, सही सांसें, नियमित व्यायाम और आराम.

एक्सरसाइज हर उम्र का इंसान नहीं कर सकता जैसे की वृद्ध या बीमार व्यक्ति. योग हर उम्र का व्यक्ति कर सकता है. बीमार इंसान भी कुछ आसान सांसों की क्रिया कर सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay