एडवांस्ड सर्च

BRICS सम्मेलनः चीन के नए राष्ट्रपति भारत की तरफ बढ़ाएंगे 'दोस्ती' का हाथ

अगले सप्ताह चीन के नये राष्ट्रपति बनने जा रहे शी चिनफिंग दक्षिण अफ्रीका में इस माह आखिर में होने वाले ब्रिक्स सम्मेलन के अवसर पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ द्विपक्षीय भेंटवार्ता करेंगे.

Advertisement
aajtak.in
आज तक वेब ब्यूरो/भाषाबीजिंग, 09 March 2013
BRICS सम्मेलनः चीन के नए राष्ट्रपति भारत की तरफ बढ़ाएंगे 'दोस्ती' का हाथ शी चिनफिंग

अगले सप्ताह चीन के नये राष्ट्रपति बनने जा रहे शी चिनफिंग दक्षिण अफ्रीका में इस माह आखिर में होने वाले ब्रिक्स सम्मेलन के अवसर पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ द्विपक्षीय भेंटवार्ता करेंगे.

चीनी विदेश मंत्री यांग जीची ने बताया कि शी पांचवे ब्रिक्स सम्मेलन में हिस्सा लेंगे जिससे पांच देशों- ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका के बीच साझेदारी मजबूत होगी. शी चीन के संसद सत्र के समापन पर अगले सप्ताह हू जिंताओ का स्थान लेंगे.

वह पिछले साल नवंबर में चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव एवं सैन्य प्रमुख निर्वाचित हुए थे. डरबन में सिंह के साथ उनकी भेंट से भारतीय नेतृत्व को चीन के नये नेताओं के साथ बातचीत के लिए पहला सीधा मंच उपलब्ध करा सकती है.

पहले ही शी ने पिछले महीने सिंह को पत्र भेजकर भारत को आश्वासन दिया था कि चीन भारत के साथ संबंध सुधारने को महत्व देगा क्योंकि द्विपक्षीय सहयोग से दोनों देशों की जनता बहुत लाभान्वित हुई है.

दोनों नेताओं के बीच यह भेंट इस मायने से भी काफी अहम है कि वाषिर्क वार्ता प्रक्रिया के तहत रक्षा मंत्री ए के एंटनी एवं कई अधिकारियों के अलावा सिंह भी इस साल चीन की यात्रा करने वाले हैं. डरबन में 26-27 मार्च को ब्रिक्स सम्मेलन होने वाला है.

शी ने बतौर राष्ट्रपति अपनी पहली विदेश यात्रा के दौरान पहला ठहराव स्थल रूस चुना है. यह चीन और रूस के बीच ने उभरते घनिष्ठ एवं रणनीतिक संबंध के महत्व को दर्शाता है. विश्लेषकों का कहना है कि नये चीन-रूस घनिष्ठ संबंध का भारत-रूस संबंध पर प्रतिकूल असर हो सकता है क्योंकि चीन कुछ अत्याधुनिक हथियार रूस से खरीदने को इच्छुक है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay