एडवांस्ड सर्च

हम अमेरिका में अमेरिकी बनने आए हैं, भारतीय अमेरिकी नहीं: बॉबी जिंदल

लुइसियाना के गर्वनर बॉबी जिंदल का कहना है कि वे टुकड़ों में बंटी पहचान में विश्वास नहीं रखते और पूरी तरह अमेरिकी हैं. उन्होंने साथ ही कहा कि चार दशक पहले उनके माता-पिता भारत से अमेरिका में अमेरिकी बनने के लिए आए थे, भारतीय-अमेरिकी बनने नहीं. उन्होंने अपनी भारतीय पृष्ठभूमि का जिक्र करते हुए प्रवासियों से यहां की सभ्यता के साथ घुलमिल जाने का आह्वान किया.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in [Edited By: नमिता शुक्ला]वाशिंगटन, 16 January 2015
हम अमेरिका में अमेरिकी बनने आए हैं, भारतीय अमेरिकी नहीं: बॉबी जिंदल

लुइसियाना के गर्वनर बॉबी जिंदल का कहना है कि वे टुकड़ों में बंटी पहचान में विश्वास नहीं रखते और पूरी तरह अमेरिकी हैं. उन्होंने साथ ही कहा कि चार दशक पहले उनके माता-पिता भारत से अमेरिका में अमेरिकी बनने के लिए आए थे, भारतीय-अमेरिकी बनने नहीं. उन्होंने अपनी भारतीय पृष्ठभूमि का जिक्र करते हुए प्रवासियों से यहां की सभ्यता के साथ घुलमिल जाने का आह्वान किया.

जिंदल ने कहा, 'मेरे माता-पिता अमेरिकी सपने की खोज में आए थे और उन्होंने उसे पूरा किया. उनके लिए अमेरिका सिर्फ एक जगह नहीं थी, वह एक विचार था. मेरे माता-पिता ने मेरे भाई और मुझसे कहा था कि हम अमेरिका अमेरिकी बनने आए हैं. भारतीय-अमेरिकी नहीं, सिर्फ अमेरिकी.' जिंदल अगले सप्ताह यह भाषण देंगे लेकिन उसके कुछ अंश फिलहाल जारी किए गए हैं. जिंदल किसी अमेरिकी राज्य के पहले भारतीय-अमेरिकी गवर्नर हैं और वह सोमवार को लंदन में हेनरी जैकसन सोसाइटी को संबोधित करेंगे.

'भारतीय पुकारे जाने पर शर्मिंदगी नहीं लेकिन...'
जिंदल के तैयार भाषण की टिप्पणियां जारी करते हुए उनके कार्यालय ने कहा कि लुईसियाना के गवर्नर देशों को मजबूत करने और स्वतंत्रता की सुरक्षा के लिए प्रवासियों से स्थानीय सभ्यता से घुलमिल जाने की अपील करेंगे. भारतीय-अमेरिकी के रूप में पुकारा जाना पसंद न करने की वजह बताते हुए जिंदल ने कहा, 'अगर हम भारतीय ही रहना चाहते थे तो हमें भारत में ही रहना चाहिए था.' जिंदल के मुताबिक, ऐसा नहीं है कि उन्हें भारत से होने की शर्मिंदगी है, उन्हें भारत से प्यार है. लेकिन वे अमेरिका आए क्योंकि वे बड़े अवसर और आजादी को खोज रहे थे.

उन्होंने कहा, 'मैं टुकड़ों में अमेरिकी होने पर यकीन नहीं करता. यह विचार मुझे कुछ परेशानी में डाल देता है. वे भारतीय-अमेरिकी, आइरिश-अमेरिकी, अफ्रीकी-अमेरिकी, इतालवी-अमेरिकी, मेक्सिकन-अमेरिकी आदि कहकर पुकारते हैं. एक बात स्पष्ट कर दूं कि मैं यह नहीं कह रहा कि लोगों को उनकी सांस्कृतिक विरासत के प्रति शर्मिंदा होना चाहिए.'

'त्वचा के रंग के बारे में सोचने वालों की सोच छोटी'
उन्होंने कहा, 'मैं स्पष्ट तौर पर यह कह रहा हूं कि देशों के लिए यह पूरी तरह से तर्कसंगत है, कि वे अपने देश में लोगों को आने की अनुमति देते हुए यह भेद कर सकें कि आने वाले लोग इस देश की संस्कृति को अपनाना चाहते हैं या इस देश की संस्कृति को नष्ट करना या इसके भीतर ही एक अलग संस्कृति की स्थापना करना चाहते हैं. उन्होंने कहा, 'एक संप्रभु देश के लिए यह पूरी तरह तर्कसंगत और यहां तक कि जरूरी है कि वह यह भेद कर सके कि कौन लोग उनसे जुड़ना चाहते हैं और कौन उन्हें बांटना चाहते हैं. आव्रजन की नीति का किसी व्यक्ति की त्वचा के रंग से कोई मतलब नहीं होना चाहिए. मुझे लगता है कि जो लोग त्वचा के रंग के बारे में चिंता करते हैं, वे सबसे कम समझ वाले होते हैं. मेरा उससे कोई वास्ता नहीं है.'

'नस्ल, संप्रदाय, धर्म और मूल के आधार पर लोगों बांटना गलत'
जिंदल ने कहा कि इस भाषण का उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय मामलों में अमेरिका की भूमिका के बारे में उनकी सोच, मौजूद खतरों की प्रकृति और फ्रांस की हालिया त्रासद घटनाओं के बारे में स्पष्ट तौर पर अपनी बात रखना है. इस भाषण का उद्देश्य आगे के रास्ते के बारे में उनकी सोच जाहिर करना भी है. जिंदल ने कहा, 'अमेरिका और हर वह देश, जो अपनी स्वतंत्रता की सुरक्षा करना और उसे हर जगह प्रोत्साहन देना चाहता है, उसके लिए सबसे पहला कदम एक मजबूत अर्थव्यवस्था बनाना है. जब 19वीं सदी के अंत में अमेरिका एक बड़ी आर्थिक शक्ति बना, तब उसके पास एक बड़ी सैन्य शक्ति बनने और मुक्त विश्व में एक नेता बनने के साधन थे.' गवर्नर ने कहा कि अमेरिकी विदेश नीति का पहला सिद्धांत हमेशा स्वतंत्रता और हमारी जनता के लिए अनवरत स्वतंत्रता होनी चाहिए, फिर चाहे उनकी नस्ल, संप्रदाय, धर्म, मूल या फिर इंसानों द्वारा एक को दूसरे से अलग करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले अन्य कृत्रिम विभाजक कोई भी क्यों न हों. उन्होंने कहा, 'अमेरिका को हमेशा दुनियाभर में स्वतंत्रता की मशाल बनना चाहिए. मैं यह नहीं कह सकता कि पूरा विश्व कभी स्वतंत्र होगा लेकिन मैं इस बात के पूरी तरह खिलाफ हूं कि दुनियाभर में सभी लोगों के बीच स्वतंत्र होने का अधिकार एवं इच्छा होने की बात को हम त्याग दें.

'कोई भी दो देश एक से नहीं होते'
उन्होंने कहा, 'अगला सिद्धांत निश्चित तौर पर सुरक्षा का है. अमेरिका को अपनी और अपने सहयोगियों की रक्षा के लिए कोई भी कीमत चुकाने को तैयार रहना चाहिए और वह चुकाएगा. कोई भी दो देश एक से नहीं होते, लेकिन वे देश, जो स्वतंत्रता एवं लोकतंत्र और सभ्यता और भद्रता को महत्व देते हैं, उन्हें एकसाथ जुड़ना चाहिए और एक-दूसरे की हिफाजत करनी चाहिए.' जिंदल ने कहा, 'वे देश, जो सुरक्षा चाहते हैं और अपने पड़ोसियों के प्रति कोई दुर्भावना नहीं रखते हैं, उन्हें इस लगातार खतरनाक होती दुनिया में एकसाथ जुड़कर रहना चाहिए. तीसरा महत्वपूर्ण सिद्धांत है, सत्य. हमें एक-दूसरे से और हमारे देशवासियों से सत्य बोलना चाहिए.'

ISIS के पास अपने कायराना काम की कोई सफाई नहीं
उन्होंने कहा, 'जब कोई देश या कोई आंदोलन अंतरराष्ट्रीय मंच पर खराब प्रदर्शन करता है, तो हमें स्थिति को इससे उलट दिखाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए. आप किसी समस्या का हल नहीं कर सकते, अगर आप उसे कोई नाम नहीं देते हैं और परिभाषित नहीं करते हैं. जिंदल ने कहा, 'आज के दौर के सबसे उपयुक्त उदाहरणों में से एक है आईएसआईएस और चरमपंथी इस्लाम का हर रूप. इन लोगों का कोई जायज दावा नहीं है, उनके पास उनके कायराना, क्रूर और अमानवीय बर्ताव के लिए कोई सफाई भी नहीं है और हमें चीजें इसके उलट होने का दिखावा नहीं करना चाहिए.'

- इनपुट भाषा

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay