एडवांस्ड सर्च

क्‍यूबा और चीन में अमेरिकी राजनयिकों पर माइक्रोवेव हथियारों से हमले का संदेह

हालांकि क्यूबा ने इन घटनाओं में किसी भी भूमिका, या इस बारे में जानकारी होने से पूरी तरह से इनकार किया है. विदेश विभाग ने जून, 2018 में घोषणा की थी कि उसने इस तरह की घटनाएं सामने आने के बाद चीन से अमेरिकी सरकारी कर्मियों को घर भेजा था.

Advertisement
aajtak.in
मोनिका गुप्ता नई दिल्ली, 03 September 2018
क्‍यूबा और चीन में अमेरिकी राजनयिकों पर माइक्रोवेव हथियारों से हमले का संदेह प्रतीकात्मक फोटो

क्यूबा और चीन में 36 से अधिक अमेरिकी राजनयिकों और उनके परिवारों के रहस्यमय बीमारी से पीड़ित होने को लेकर डॉक्टरों और वैज्ञानिकों ने माइक्रोवेव हथियारों से हमले का संदेह जताया है.

'द न्यूयार्क टाइम्स' की रिपोर्ट में रविवार को यह जानकारी दी गई है. रिपोर्ट के अनुसार पीड़ितों ने अपने होटल के कमरों या घरों में तीव्र ध्वनि सुनने के बाद जी मिचलाना, गंभीर रूप से सिर दर्द, थकान, चक्कर आना, नींद की समस्याएं और सुनने में कमी जैसे लक्षणों के बारे में सूचना की.

क्यूबा में प्रभावित 21 लोगों की जांच करने वाली एक मेडिकल टीम ने अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन के जर्नल में मार्च में प्रकाशित एक अध्ययन में माइक्रोवेव हथियारों का उल्लेख नहीं किया था. लेकिन पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय में सेंटर फॉर ब्रेन इंजेरी एंड रिपेयर के निदेशक डगलस स्मिथ ने बताया कि माइक्रोवेव हथियारों को अब मुख्य संदिग्ध माना जाता है. टीम तेजी से यह सुनिश्चित कर रही है कि क्या राजनयिकों को मस्तिष्क की चोट का सामना करना पड़ा.

डगलस स्मिथ के हवाले से कहा गया था कि हर कोई पहले अपेक्षाकृत असंमजस में था और अब सभी सहमत हैं कि वहां कुछ है. न तो विदेश विभाग और न ही एफबीआई ने सार्वजनिक रूप से माइक्रोवेव हथियारों के जिम्मेदार होने की ओर इशारा किया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay