एडवांस्ड सर्च

लादेन के ठिकाने से मिले दस्तावेज सार्वजनिक, अलकायदा ने मुंबई हमले को जांबाज फिदाई बताया

पाकिस्तान के ऐबटाबाद में ओसामा बिन लादेन के ठिकाने से मिले अलकायदा के एक दस्तावेज में साल 2008 में लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादियों द्वारा किए गए मुंबई हमले को जांबाज फिदाई और पुणे की जर्मन बेकरी पर हमले को शानदार बड़ा धमाका बताया गया है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in [Edited by: नंदलाल शर्मा]वॉशिंगटन, 21 May 2015
लादेन के ठिकाने से मिले दस्तावेज सार्वजनिक, अलकायदा ने मुंबई हमले को जांबाज फिदाई बताया Osama Bin Laden

पाकिस्तान के ऐबटाबाद में ओसामा बिन लादेन के ठिकाने से मिले अलकायदा के एक दस्तावेज में साल 2008 में लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादियों द्वारा किए गए मुंबई हमले को जांबाज फिदाई और पुणे की जर्मन बेकरी पर हमले को शानदार बड़ा धमाका बताया गया है. इस 15 पृष्ठ के दस्तावेज (टेरर फ्रेंचाइजीज द अनस्टॉपेबल एसासिनः टेक्स वाइटल रोल फॉर इट्स सक्सेज) में मुंबई हमले को मुबारक अभियान करार दिया गया है.

यह दस्तावेज वास्तविक रूप से अंग्रेजी भाषा में है. दस्तावेज में अलकायदा और उससे जुड़े संगठनों से कहा गया है कि अमेरिकियों और ब्रिटेन, जर्मनी और भारत सहित अमेरिका के साझेदार देशों के लोगों को आतंकी हमले में मारा जाए. इसमें कहा गया है, 'ग्लोबल मुजाहिदीन का मिशन वैश्विक स्तर पर अमेरिकी आर्थिक लक्ष्यों को निशाना बनाकर अमेरिका की अर्थव्यवस्था को तबाह करना है.'

दस्तावेज कहता है, 'लंदन विस्फोट और इससे पहले इंडोनेशिया, पाकिस्तान, मिस्र, भारत और दूसरे स्थानों पर अमेरिकी और यूरोपीय स्थानों को निशाना बनाकर कई मुबारक अभियान चलाए गए. इनमें इस्लामाबाद में फ्रांसीसी नागरिकों को ले जा रही बस पर बम हमला, मैरियट होटल विस्फोट, डेनमार्क के दूतावास पर विस्फोट, बाली विस्फोट और बाद में भारत की वित्तीय राजधानी बंबई में जाबांज फिदाई (शहादत) अभियान अंजाम दिया गया, जिनमें कई अमेरिकियों और पश्चिमी देशों के दूसरे नागरिकों को निशाना बनाया गया.

अलकायदा के दस्तावेज में कहा गया है, इसके बाद भारत में जर्मनी बेकरी पर शानदार बड़ा धमाका किया गया, जहां मुख्य रूप से यहूदी और पश्चिमी देशों के नागरिक जाते थे. मुंबई हमले के दो साल बाद 2010 में पुणे की जर्मनी बेकरी पर आतंकवादी हमला हुआ था. यह दस्तावेज उन ढेर सारे दस्तावेजों में शामिल है जो ऐबटाबाद में ओसामा के ठिकाने से बरामद किए गए थे.

अमेरिकी खुफिया अधिकारियों ने इन दस्तावेजों को सूचना का बेशकीमती खजाना करार दिया. इन दस्तावेजों का एक हिस्सा अरबी भाषा में है. इनका अनुवाद अंग्रेजी भाषा में किया गया है. इन दस्तावेजों में अलकायदा पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के सख्त खिलाफ दिखती है. अलकायदा ने आईएसआई को सीआईए का साझेदार करार दिया.

- इनपुट भाषा

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay