एडवांस्ड सर्च

मंदी की आहट के बीच नारायण मूर्ति बोले- 300 साल में पहली बार इकोनॉमी पर भरोसा

देश में आर्थिक मंदी की आहट के बीच इन्‍फोसिस के को-फाउंडर एनआर नारायण मूर्ति ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि भारत ने 300 सालों में पहली बार एक ऐसा आर्थिक माहौल बनाया है जो विश्वास और आशावाद को जन्म देता है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्‍ली, 23 August 2019
मंदी की आहट के बीच नारायण मूर्ति बोले- 300 साल में पहली बार इकोनॉमी पर भरोसा इन्‍फोसिस के को-फाउंडर एनआर नारायण मूर्ति ने आर्थिक माहौल की सराहना की

देश में आर्थिक मंदी जैसे हालात बन रहे हैं. इस बीच, देश की दिग्‍गज आईटी कंपनी इन्‍फोसिस के को-फाउंडर एनआर नारायणमूर्ति का मानना है कि भारत ने 300 सालों में पहली बार एक ऐसा आर्थिक माहौल बनाया है जो विश्वास और आशावाद को जन्म देता है. इस माहौल के जरिए गरीबी को खत्‍म किया जा सकता है.

यूपी के गोरखपुर में एक कार्यक्रम के दौरान नारायणमूर्ति ने कहा, "लगभग 300 सालों में पहली बार हमारे पास एक आर्थिक वातावरण है जो विश्वास दिलाता है कि हम सच में अपनी गरीबी को दूर कर सकते हैं और लोगों के लिए एक बेहतर भविष्य बना सकते हैं."  नारायणमूर्ति ने आगे कहा, '' हमारी अर्थव्यवस्था इस साल 6 से 7 फीसदी की दर से बढ़ रही है. भारत दुनिया का सॉफ्टवेयर विकास केंद्र बन गया है. वहीं विदेशी मुद्रा भंडार ने 400 बिलियन डॉलर को पार कर लिया है. इन हालातों में निवेशक का विश्वास ऐतिहासिक ऊंचाई पर है.''

नारायणमूर्ति ने आगे कहा, '' इसी के समनांतर हमारे देश में एक और भारत बसता है. उस भारत में भयानक गरीबी भुखमरी, कुपोषण और भ्रष्टाचार है. करोड़ों भारतीय न लिख सकते हैं और न पढ़ सकते हैं. लोगों को साफ पानी और जरूरी सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं. इन सभी का अनिश्चित भविष्य है. ऐसे हालात में हमें इन लोगों को साथ लेकर चलना होगा. अगर हम आज कड़ी मेहनत करते हैं, तो हम आखिरी लाइन में खड़े गरीब बच्चे की आंखों से आंसू पोंछ सकते हैं. ऐसा ही महात्मा गांधी भी चाहते थे.''

मूल्यों का संरक्षण करना देशभक्ति

इसके साथ ही नारायण मूर्ति ने देशभक्‍ति को लेकर बन रहे अतिवाद के माहौल पर भी तंज किया. उन्‍होंने कहा कि तिरंगा लहराते हुए जोर जोर से 'जय हो' और 'मेरा भारत महान है' कहना आसान है लेकिन मूल्यों का संरक्षण करना मुश्किल. हमें खुद को पहले भारतीय के रूप में पहचानना होगा और राज्यों, धर्म और जाति से ऊपर उठना होगा. नारायणमूर्ति ने आगे कहा कि बोलने और भय से आजादी देश के स्वर्णिम भविष्य के लिए जरूरी है. इनका संरक्षण करना ही असली देशभक्ति है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay