एडवांस्ड सर्च

पाकिस्तान में लड़कियों के धर्म परिवर्तन के खिलाफ आवाज उठाएगा सिंधी फाउंडेशन

सिंधी संगठन का कहना है कि पाकिस्तान में पिछले कुछ सालों में बड़ी संख्या में जबरन धर्म परिवर्तन के मामले सामने आए है. पाकिस्तान में हर साल 12 से 18 साल तक की उम्र की करीब 1 हजार सिंधी हिन्दू लड़कियों को अगवा करके उनकी जबरदस्ती शादी कराई जाती है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 12 September 2019
पाकिस्तान में लड़कियों के धर्म परिवर्तन के खिलाफ आवाज उठाएगा सिंधी फाउंडेशन सिंधी संगठन करेगा विरोध प्रदर्शन (फोटो-ANI)

  • पाकिस्तान में लड़कियों के जबरन धर्म परिवर्तन का आरोप
  • UNGA की बैठक में धर्मांतरण के खिलाफ विरोध प्रदर्शन

पाकिस्तान में जबरन लड़कियों के धर्म परिवर्तन कराने के खिलाफ सिंधी संगठन अमेरिका में आवाज उठाएगा. सिंधी संगठन न्यूयॉर्क में यूनाइटेड नेशंस जनरल असेंबली (UNGA) की बैठक में पाकिस्तान में कराए जा रहे धर्मांतरण के खिलाफ 26 सितंबर को विरोध प्रदर्शन करेगा.

सिंधी संगठन हमेशा से पाकिस्तान के जबरन लड़कियों के धर्म परिवर्तन कराने के खिलाफ आवाज उठाता रहा है. संगठन का दावा है कि पाकिस्तान में पिछले कुछ सालों में बड़ी संख्या में जबरन धर्म परिवर्तन के मामले सामने आए है. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक हर साल 12 से 18 साल तक की उम्र की करीब 1 हजार सिंधी हिन्दू लड़कियों को अगवा कर उनकी जबरदस्ती शादी कराई जाती है.

जानकारी के मुताबिक, हर महीने 40 से 60 सिंधी लड़कियां धर्मांतरण का शिकार हो रही हैं. लड़कियों को धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर करके इस्लाम कबूल कराया जाता है. बता दें कि हाल ही में पाकिस्तान की एक सिख लड़की का अपहरण करके धर्म परिवर्तन और फिर जबरन शादी कराने का मामला सामने आया था.

पाकिस्तान के मानवाधिकार आयोग के मुताबिक जनवरी 2004 से मई 2018 तक सिंधी लड़कियों के अगवा किए जाने के 7430 मामले सामने आए हैं. यह वो आंकड़े हैं जिनमें केस दर्ज किए गए हैं, जबकि कई ऐसे मामले भी हैं जिनमें केस ही दर्ज नहीं किए गए हैं. ऐसे में अनुमान लगाया जा सकता है कि सिंधी लड़कियों के अपहरण और उनके जबरन धर्म परिवर्तन के मामले और ज्यादा होंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay