एडवांस्ड सर्च

सैमसंग की गलती से कैंसर की चपेट में आए थे कर्मचारी, कंपनी ने अब मांगी माफी

सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स ने अपने उन कर्मचारियों और उनके परिवारों से माफी मांगी है जो उसके सेमीकंडक्टर के कारखानों में काम करते वक्त कैंसर से पीड़ित हो गए.

Advertisement
aajtak.in
सना जैदी/ सुरेंद्र कुमार वर्मा नई दिल्ली, 23 November 2018
सैमसंग की गलती से कैंसर की चपेट में आए थे कर्मचारी, कंपनी ने अब मांगी माफी प्रतीकात्मक तस्वीर (इंडिया टुडे आर्काइव)

सैमसंग के सेमीकंडक्टर और डिस्प्ले कारखाने में काम करने वाले करीब 240 कर्मचारी काम के दौरान बीमार पड़े. इसमें से 80 की मौत हो गई. मामला 1984 का है जिसका खुलासा 2007 में हुआ.

दक्षिण कोरिया की सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स ने शुक्रवार को अपने उन कर्मचारियों और उनके परिवारों से माफी मांगी है जो उसके सेमीकंडक्टर के कारखानों में काम करते वक्त कैंसर से पीड़ित हो गए.

इसी के साथ चिप बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी का यह दशकभर लंबा विवाद खत्म हो गया. कंपनी के उपाध्यक्ष किम की-नाम ने कहा, 'हम उन कर्मचारियों और उनके परिवारों से दिल से माफी मांगते हैं जिन्हें कैंसर की बीमारी हुई.'

उन्होंने कहा, 'हम अपने सेमीकंडक्टर और एलसीडी कारखानों में स्वास्थ्य जोखिमों का ठीक से प्रबंधन करने में नाकाम रहे थे.' सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फोन और चिप बनाने वाली कंपनी है.

गौरतलब है कि सैमसंग के सेमीकंडक्टर और डिस्प्ले कारखाने में काम करने वाले करीब 240 कर्मचारी काम के दौरान बीमार पड़े. इसमें से करीब 80 की मौत हो गई. यह कर्मचारी 16 तरह के कैंसर से पीड़ित हैं. इसमें भी कुछ के बच्चों को भी इस तरह की बीमारियां हुई हैं. यह मामला 1984 से जुड़ा है और इसका पहली बार खुलासा 2007 में हुआ था.

एक करोड़ तैंतीस हजार डॉलर का मुआवजा

इसके खिलाफ अभियान चलाने वाले समूहों के अनुसार इस संबंध में इस महीने की शुरुआत में कंपनी ने एक मुआवजा नीति की घोषणा की है. इस नीति के अनुसार सैमसंग हर पीड़ित कर्मचारी को 15 करोड़ वॉन (1,33,000 डॉलर) का मुआवजा देगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay