एडवांस्ड सर्च

रोहिंग्या संकट पर 'सू की' के पैनल से अमेरिकी राजनयिक ने दिया इस्तीफा

अमेरिका के पूर्व गवर्नर और कभी सू की के सहयोगी रहे रिचर्डसन ने कहा कि वह अपने होशो-हवास में रहते हुए ऐसी समिति में काम नहीं कर सकता जो रोहिंग्या मामले में संभवत: लोगों की आंखों धूल झोंकने के लिए काम कर रही है.

Advertisement
aajtak.in
केशवानंद धर दुबे नई दिल्ली, 25 January 2018
रोहिंग्या संकट पर 'सू की' के पैनल से अमेरिकी राजनयिक ने दिया इस्तीफा प्रतीकात्मक फोटो

म्यामांर के हिंसा प्रभावित रखाइन प्रांत में सांप्रदायिक तनाव को कम करने के वास्ते म्यांमार की नेता आंग सान सू की ओर से गठित पैनल में शामिल अमेरिकी राजनयिक बिल रिचर्डसन ने गुरुवार को आपने पद से इस्तीफा दे दिया है.

'आंग सान सू की' की आलोचना

उन्होंने शांति के क्षेत्र में नोबल पुरस्कार से सम्मानित सू की में नैतिक नेतृत्व की कमी का आरोप लगाते हुए उनकी आलोचना की.

लोगों की आंखों में झोंकी जा रही धूल

अमेरिका के पूर्व गवर्नर और कभी सू की के सहयोगी रहे रिचर्डसन ने कहा कि वह अपने होशो-हवास में रहते हुए ऐसी समिति में काम नहीं कर सकता जो रोहिंग्या मामले में संभवत: लोगों की आंखों धूल झोंकने के लिए काम कर रही है.

उन्होंने रोहिंग्या मामले से संबंधित खबरों की कवरेज के दौरान गिरफ्तार किए गये रॉयटर्स के दो पत्रकारों को मुक्त करने के संबंध में सू की से अपनी गुहार नहीं सु ने जाने पर भी नाराजगी जताई है.

हालिया दौर में म्यांमार में रोहिंग्या मुस्लिमों का मुद्दा काफी चर्चा में रहा है. भारत में भी कई हज़ारों रोहिंग्या मुस्लिम हैं. जिन्हें देश से बाहर भेजने की बात हो रही थी. हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने अगले आदेश तक रोहिंग्याओं को बाहर करने से मना किया था. इन दिनों म्यांमार की नेता आंग सान सू की भारत आई हुई हैं, ऐसे में इस मुद्दे पर दोनों देशों के बीच बातचीत हो सकती है.

बता दें कि दुनिया में सबसे प्रताड़ित अल्पसंख्यक समुदाय में से एक म्यांमार के रोहिंग्या मुसलमानों को माना जाता है. इनकी सबसे बड़ी समस्या यह है कि वह जिस भी देश में शरण ले रहे हैं, वहां उन्हें हमदर्दी की बजाय आंतरिक सुरक्षा के खतरे के तौर पर देखा जा रहा है. बेहद गरीब, वंचित रोहिंग्या समुदाय पर आतंकवादियों से कनेक्शन का आरोप लगता रहा है. इसी वजह से अन्य देश भी इन्हें शरण देने को राजी नहीं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay