एडवांस्ड सर्च

यूक्रेन के नौसेना मुख्यालय पर रूस समर्थकों का कब्जा

रूस समर्थक सैनिकों ने बुधवार को क्रीमिया स्थित यूक्रेन के नौसेना मुख्यालय पर कब्जा कर लिया यहां तक कि संयुक्त राष्ट्र प्रमुख बान की मून रूस और क्रीमिया की यात्रा की तैयारी में हैं. यूक्रेन के एक सैनिक को गोली मार कर ढेर कर दिए जाने के एक दिन बाद रूस समर्थक बलों ने सेवास्टोपोल स्थित यूक्रेन के नौसेना मुख्यालय पर कब्जा जमा लिया.

Advertisement
आईएएनएस [Edited By: संदीप कुमार सिन्हा]लंदन/मास्को/ब्रसेल्स, 21 March 2014
यूक्रेन के नौसेना मुख्यालय पर रूस समर्थकों का कब्जा

रूस समर्थक सैनिकों ने बुधवार को क्रीमिया स्थित यूक्रेन के नौसेना मुख्यालय पर कब्जा कर लिया यहां तक कि संयुक्त राष्ट्र प्रमुख बान की मून रूस और क्रीमिया की यात्रा की तैयारी में हैं. यूक्रेन के एक सैनिक को गोली मार कर ढेर कर दिए जाने के एक दिन बाद रूस समर्थक बलों ने सेवास्टोपोल स्थित यूक्रेन के नौसेना मुख्यालय पर कब्जा जमा लिया.

गार्डियन के मुताबिक, सेवास्टोपोल में बड़ी संख्या में यूक्रेन के सैनिक मौजूद हैं और उनमें से कुछ का कहना है कि पीछे हटने की जगह वे लड़ना पसंद करेंगे. बुधवार की स्थिति हालांकि इस बात की पुष्टि है कि कुछ सैनिक रूसी सैनिकों के साथ संघर्ष में जुटे हैं.

मंगलवार को हुई मौत क्रीमिया के रूस में विलय के बाद पहली मौत थी. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मंगलवार को घोषणा की थी कि वे क्रीमिया को अपने दायरे में शामिल करेंगे.

इस बीच यूक्रेन के पहले उपप्रधानमंत्री विटले यारेमा और रक्षा मंत्री आईगोर तेन्युख को क्रीमिया में प्रवेश नहीं करने दिया गया. यह जानकारी सामाजिक नीति के मंत्री ल्युडमिला डेनिसोवा ने बुधवार को दी.

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक डेनिसोवा ने कहा, 'हम राष्ट्रीय रक्षा एवं सुरक्षा परिषद की इस मुद्दे पर बैठक बुलाएंगे.'

यारेमा और तेन्युख कथित रूप से 'तनाव खत्म करने के लिए' एक विमान द्वारा कीव से क्रीमिया जा रहे थे.

क्रीमिया के प्रधानमंत्री सर्गेई अक्सेनोव ने बुधवार को कहा कि क्रीमिया के अधिकारियों ने यूक्रेन के मंत्रियों को उतरने की इजाजत नहीं दी.

क्रीमिया के रूस में शामिल होने के संबंध में एक समझौते पर हस्ताक्षर होने के एक दिन बाद प्रायद्वीप में रूस समर्थकों और यूक्रेन समर्थकों के बीच टकराव शुरू हो गए.

उधर मास्को ने बुधवार को पश्चिमी देशों पर बुडापेस्ट मेमोरेंडम का उल्लंघन करने का आरोप लगाया. इसमें यूक्रेन की क्षेत्रीय अखंडता की गारंटी दी गई है.

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक रूस के विदेश मंत्रालय ने कहा है, 'सवाल यह है कि किस तरह गारंटी को कीव में दंगों के दौरान यूक्रेन के नेतृत्व के खिलाफ अमेरिका और यूरोपीय संघ की प्रतिबंध लगाने की धमकी को संबद्ध किया जाए.'

रूस ने कहा है कि उन धमकियों को संप्रभु राष्ट्र पर आर्थिक दबाव के रूप में परिभाषित किया जा सकता है, जबकि पश्चिम के राजदूतों का मैदान, कीव में स्वतंत्रता चौराहे पर स्थायी दबाव को विद्रोह को बढ़ावा देने वाली कार्रवाई के रूप में परिभाषित किया जा सकता है.

मंत्रालय ने अमेरिका और यूरोपीय यूनियन का कीव की घटना के दौरान यूक्रेन के वैध राष्ट्रपति को साझीदार के रूप में नहीं माने जाने का भी उल्लेख किया है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay