एडवांस्ड सर्च

राष्ट्रपति के रूप में पहली विदेश यात्रा पर जिबूती-इथोपिया रवाना हुए कोविंद

अपनी इस यात्रा के दौरान कोविंद वहां के प्रधानमंत्री से भी वार्ता करेंगे. कुछ समझौतों पर दस्तखत करने के साथ राष्ट्रपति वहां पर रह रहे भारतीयों के समूह को भी संबोधित करेंगे.

Advertisement
aajtak.in
BHASHA नई दिल्ली, 03 October 2017
राष्ट्रपति के रूप में पहली विदेश यात्रा पर जिबूती-इथोपिया रवाना हुए कोविंद विदेश रवाना होने से पहले सुषमा स्वराज व अन्य मंत्रियों से मिलते राष्ट्रपति कोविंद

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज चार दिवसीय यात्रा पर जिबूती और इथोपिया के लिए रवाना हो गए. राष्ट्रपति के रूप में रामनाथ कोविंद की यह पहली विदेश यात्रा है, इस यात्रा के दौरान आर्थिक सहयोग सहित कई समझौतों पर दस्तखत होने की उम्मीद है.

राष्ट्रपति भवन के ट्वीट में कहा गया है, ‘‘ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद चार दिवसीय राजकीय यात्रा पर जिबूती और इथोपिया के लिए रवाना हो गये. राष्ट्रपति के तौर पर यह उनकी पहली विदेश यात्रा है. ’’ राष्ट्रपति का दौरा छह अक्टूबर तक चलेगा, जिबूती के राष्ट्रपति इस्माइल उमर के निमंत्रण पर वह तीन और चार अक्टूबर को वहां का दौरा करेंगे.

राष्ट्रपति के प्रेस सचिव अशोक मलिक ने बताया था कि जिबूती में भारत के किसी भी राष्ट्राध्यक्ष का यह पहला दौरा होगा. इससे पहले इस देश में भारत की तरफ से राज्य मंत्री ने प्रतिनिधित्व किया है. अपनी इस यात्रा के दौरान कोविंद वहां के प्रधानमंत्री से भी वार्ता करेंगे. कुछ समझौतों पर दस्तखत करने के साथ राष्ट्रपति वहां पर रह रहे भारतीयों के समूह को भी संबोधित करेंगे.

चार से छह अक्टूबर तक कोविंद इथोपिया में रहेंगे, इससे पहले इस देश में राष्ट्रपति के तौर पर वीवी गिरी ने दौरा किया था. विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव पूर्व और दक्षिणी अफ्रीका नीना मल्होत्रा ने संवाददाताओं को बताया था कि दो अफ्रीकी देशों के चार दिवसीय दौरे के समय राष्ट्रपति इथोपिया के साथ वृहद् आर्थिक सहयोग और विदेश कार्यालय विमर्श को संस्थागत रूप देने पर हस्ताक्षर कर सकते हैं.

जिबूती हिंद महासागर का एक महत्वपूर्ण देश है जिसके साथ 2016-17 में भारत का द्विपक्षीय व्यापार 28.4 करोड़ डॉलर था. मल्होत्रा ने कहा कि 45 वर्षों में किसी भारतीय राष्ट्रपति का यह पहला इथोपिया दौरा है. इससे पहले 1972 में वी वी गिरी ने वहां का दौरा किया था. उन्होंने कहा कि वहां वाणिज्यिक कार्यक्रम और भारतीय समुदाय के साथ वार्ता का कार्यक्रम भी होगा.

उन्होंने कहा, राष्ट्रपति की पहली अफ्रीका यात्रा दर्शाती है कि वर्तमान सरकार के लिए अफ्रीका महत्वपूर्ण है. प्रधानमंत्री ने घोषणा की थी कि भारत की विदेश और आर्थिक नीतियों में अफ्रीका प्राथमिकता पर है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay