एडवांस्ड सर्च

वन बेल्ट, वन रोड का समर्थन करे भारत, नहीं तो देखेगा हमारा बढ़ता दबाव: चीन

चीन की सत्तारुढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना द्वारा संचालित अखबार ने अपने एक लेख में कहा है कि अगर भारत वन बेल्ट, वन रोड (ओबीओआर) प्रोजेक्ट के प्रति व्यवहारिक रवैया अपनाना चाहिए.

Advertisement
भाषा [Edited By: विकास कुमार]नई दिल्ली, 20 March 2017
वन बेल्ट, वन रोड का समर्थन करे भारत, नहीं तो देखेगा हमारा बढ़ता दबाव: चीन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग

चीन की सत्तारुढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना द्वारा संचालित अखबार ने अपने एक लेख में कहा है कि अगर भारत वन बेल्ट, वन रोड (ओबीओआर) प्रोजेक्ट के प्रति व्यवहारिक रवैया अपनाना चाहिए. यही भारत के लिए फायदेमंद होगा. अगर भारत ऐसा नहीं करता है तो वो चीन के बढ़ते दबाव को देखता रहेगा.

चीन के ग्लोबल टाइम्स अखबार ने इस लेख में भारत को लेकर कड़ा रुख अपनाया है. अखबार ने लिखा है कि चीन के इस प्रोजेक्ट को भारत की चिंता के बावजूद दुनियां के दूसरे मुल्कों से व्यापक संमर्थन मिल रहा है. इसलिए भारत को इस मामले में सावधानीपूर्वक कदम उठाना चाहिए.

लेख में आगे कहा गया है कि अगर भारत दूसरे देशों को इस परियोजना में शामिल होने से रोकने के लिए राजी करने में सक्षम नहीं है तो इसका दूसरा व्यवहारिक उपाय यह है कि भारत इस पहल में शामिल हो जाए.

क्या है ये प्रोजेक्ट?
ओबीओआर, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग का पसंदीदा प्रोजेक्ट है. इसके तहत चीन पड़ोसी मुल्कों सहित यूरोप को सड़क से जोड़ना चाहता है. प्रोजेक्ट के तैयार होने के बाद चीन दुनिया के कई पोर्ट्स से सीधे जुड़ जाएगा .

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay