एडवांस्ड सर्च

हांगकांग में फिर उबाल, चीन के खिलाफ सड़क पर उतरे प्रदर्शनकारी

हांगकांग में चीन के नए कानून के विरोध में रविवार को हजारों लोग सड़कों पर उतर आए और विरोध प्रदर्शन किया. इस दौरान हांगकांग पुलिस ने सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in हांगकांग, 24 May 2020
हांगकांग में फिर उबाल, चीन के खिलाफ सड़क पर उतरे प्रदर्शनकारी प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार करते हांगकांग पुलिस के जवान (फोटो-PTI)

  • प्रत्यर्पण विधेयक के खिलाफ हांगकांग में प्रदर्शन
  • पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर दागे आंसू गैस के गोले

प्रत्यर्पण विधेयक को लेकर हांगकांग में पिछले साल जून में शुरू हुए विरोध प्रदर्शनों ने एक बार फिर से जोर पकड़ लिया है. चीन की ओर से लाए जा रहे नए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के कारण कोरोना महामारी को लेकर जारी पाबंदियों के बीच हांगकांग में फिर विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है. चीन के नए कानून के विरोध में रविवार को हजारों लोग सड़कों पर उतर आए और विरोध प्रदर्शन किया. इस दौरान हांगकांग पुलिस ने सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े.

हांगकांग को आजाद करो, लगे नारे

रविवार दोपहर को काले कपड़े पहने हुए प्रदर्शनकारी मशहूर शॉपिंग डिस्ट्रिक्ट कॉजवे बे में जमा हुए और प्रस्तावित कानून के खिलाफ प्रदर्शन करने लगे. प्रदर्शनकारियों ने 'हांगकांग के साथ एकजुट', 'हांगकांग को आजाद करो' और 'हमारे दौर की क्रांति' जैसे नारे लगाए. प्रदर्शन के दौरान प्रतिष्ठित कार्यकर्ता टैम टैक-ची को गिरफ्तार कर लिया गया.

फिर क्यों शुरू हुआ विरोध प्रदर्शन

दरअसल, चीन लोकतंत्र समर्थक आंदोलनकारियों से निपटने के लिए हांगकांग में राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसियों की स्थापना करने की तैयारी कर रहा है. सरकारी मीडिया के अनुसार चीन विवादास्पद सुरक्षा कानून का समर्थन करने के वास्ते राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसियों की स्थापना करने की तैयारी में है.

चीन ने हांगकांग में राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े विवादित विधेयक का मसौदा शुक्रवार को अपनी संसद में पेश किया था. इसका उद्देश्य पूर्व में ब्रिटेन के उपनिवेश रहे हांगकांग पर नियंत्रण को और मजबूत करना है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

यहां संसद के एक सप्ताह तक चले सत्र के दौरान नेशनल पीपुल्स कांग्रेस (एनपीसी) द्वारा राष्ट्रीय सुरक्षा के लिहाज से लाए गए नए मसौदा विधेयक का उद्देश्य हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र (एचकेएसएआर) के लिए कानूनी प्रणाली और प्रवर्तन तंत्र को स्थापित करना और उसमें सुधार करना है.इस विधेयक को 28 मई को पारित किया जा सकता है.

सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट बताती है कि चीनी सरकार सूचना संकलन को बढ़ाने और राजद्रोह, अलगाव, देशद्रोह और तोड़फोड़ की गतिविधियों को रोकने के उद्देश्य से हांगकांग में राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसियों को स्थापित करने की तैयारी कर रही है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

चीनी पीपुल्स पॉलिटिकल कंसल्टेटिव कॉन्फ्रेंस (सीपीपीसीसी) की राष्ट्रीय समिति के सदस्य और हांगकांग के सुप्रीम कोर्ट में सॉलिसीटर केनेडी वोंग यिंग-हो ने कहा कि जहां तक मुझे पता है, कानून तैयार है, जिसे एनपीसी की स्थायी समिति की अगली बैठक में पारित किया जाएगा.

वोंग ने कहा कि 28 मई को हांगकांग राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के प्रारूप पर सांसदों के वोट करने के बाद एनपीसी की स्थायी समिति विधेयक को कानून में बदलने के लिए अंतरिम बैठकें आयोजित कर सकती है.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

वहीं, हांगकांग में लोकतंत्र की मांग को दबाने की चीन की साजिश के विरोध में अमेरिका के बाद अब दुनिया के प्रमुख देश खड़े हो गए हैं. ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया और कनाडा ने संयुक्त बयान जारी कर चीन की हरकत पर चिंता जताई है और कानून संशोधन की प्रक्रिया तत्काल रोकने को कहा है.

संयुक्त बयान में प्रस्तावित कानून को एक राष्ट्र-दो व्यवस्था के सिद्धांत का उल्लंघन बताया है. इसी सिद्धांत पर समझौते के बाद 1997 में ब्रिटेन ने 150 साल के शासन उपरांत हांगकांग को चीन को सौंपा था.

पिछले साल जून से जारी विरोध

बता दें कि हांगकांग में पिछले साल जून से ही विरोध प्रदर्शनों का सिलसिला चल रहा है. पिछले साल जून में चीन द्वारा लाए गए प्रत्यर्पण विधेयक के विरोध में हांगकांग में बड़े पैमाने पर विरोध शुरू हुए थे जो बाद में हिंसक भी हो गए थे. प्रत्यर्पण विधेयक को वापस लेने के बाद भी इन प्रदर्शनों का सिलसिला नहीं रुका और अब तक सात हजार से अधिक प्रदर्शनकारी गिरफ्तार किए जा चुके हैं.

ब्रिटिश उपनिवेश रहा हांगकांग

हांगकांग ब्रिटिश उपनिवेश रहा है. साल 1997 में इसे एक देश दो सरकार सिद्धांत के तहत चीन को सौंप दिया गया था. इस सिद्धांत के तहत हांगकांग को एक तरह की स्वायत्तता मिली हुई है.हांगकांग का शासन 1200 सदस्यों की चुनाव समिति के मुख्य कार्यकारी अधिकारी द्वारा चलाया जाता है.

(समाचार एजेंसियों के इनपुट के साथ)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay