एडवांस्ड सर्च

फ्रांस के राष्ट्रपति ने PM मोदी को कहा धन्यवाद, सहयोग बनाए रखने की कही बात

फ्रांस में 14 जुलाई को राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाया जाता है. फ्रेंच सरकार ने इस दिन को राष्ट्रीय दिवस के रूप में चिह्नित किया है. इस दिन को बास्तील डे के रूप में भी जाना जाता है. इसी पर्व के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस को बधाई दी थी.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in पेरिस, 15 July 2020
फ्रांस के राष्ट्रपति ने PM मोदी को कहा धन्यवाद, सहयोग बनाए रखने की कही बात फ्रांस के राष्ट्रपति एमानुएल मैक्रों (एपी)

  • एमानुएल मैक्रों- हमारी टिकाऊ और स्थिर भविष्य की कामना
  • पीएम मोदी ने कल राष्ट्रीय दिवस पर फ्रांस को दी थी बधाई

कोरोना संकट के बीच सालाना कार्यक्रम और समारोह का आयोजन किया जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस के राष्ट्रीय दिवस बास्तील दिवस के अवसर राष्ट्रपति एमानुएल मैक्रों को बधाई संदेश दिया था. जिसके जवाब में फ्रेंच राष्ट्रपति ने धन्यवाद करते हुए दोनों देशों के बीच सहयोग बनाए रखना का आह्वान भी किया.

फ्रांस के राष्ट्रपति एमानुएल मैक्रों ने आज बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जवाब देते हुए ट्वीट किया, 'धन्यवाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. हमारे लोग समृद्ध, टिकाऊ और स्थिर भविष्य की इस सामान्य इच्छा को साझा करते हैं. हमें आपस में सहयोग बनाए रखना चाहिए.'

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल मंगलवार को ट्वीट कर बधाई दी और कहा, 'बास्तील दिवस के अवसर पर मेरे प्रिय मित्र एमानुएल मैक्रों और फ्रांस के लोगों को बधाई. हम फ्रांस के साथ महत्वपूर्ण रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करना और हमारे सहयोग के विस्तार करने को लेकर प्रतिबद्ध हैं.

फ्रांस में 14 जुलाई को राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाया जाता है. फ्रेंच सरकार ने इस दिन को राष्ट्रीय दिवस के रूप में चिह्नित किया है. इस दिन को बास्तील डे के रूप में भी जाना जाता है.

इसे भी पढ़ें --- सचिन पायलट बोले- मैं सौ बार कह चुका हूं कि बीजेपी ज्वॉइन नहीं कर रहा हूं

14 जुलाई, 1789 को क्रांतिकारियों ने बास्तील के कारागृह फाटक को तोड़कर ढेरों बंदियों को मुक्त कराया था. तब से 14 जुलाई को फ्रांस में राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाया जाता है और इसे बास्तील डे कहा जाता है.

इसे भी पढ़ें --- फ्रांस की राज्यक्रांति से जुड़े रोचक तथ्‍य और जानकारियां

फ्रांस की यह राज्यक्रांति 1789 ईसवी में लूई सोलहवां के शासनकाल में हुई. तब फ्रांस में सामंती व्यवस्था थी. समानता, स्वतंत्रता और भाईचारे का नारा फ्रांस की राज्यक्रांति की देन मानी जाती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay