एडवांस्ड सर्च

डोकलाम पर चीनी सेना की धमकी- तुरंत पीछे हटे भारत, बर्दाश्त की हद खत्म होने की ओर

चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता और पीएलएन के कर्नल रेन गुओकियांग की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि चीन ने गुडविल दिखाते हुए इस मामले पर अभी कूटनीतिक हल का रास्ता अपनाया है. लेकिन इसकी भी एक सीमा है और संयम खत्म होने की ओर है.

Advertisement
aajtak.in
अनंत कृष्णन बीजिंग, 04 August 2017
डोकलाम पर चीनी सेना की धमकी- तुरंत पीछे हटे भारत, बर्दाश्त की हद खत्म होने की ओर चीन की गीदड़भभकी

भारत की ओर से डोकलाम में शांति से बातचीत की तमाम कोशिशों के बावजूद चीन का धमकी भरा अंदाज जारी है. इस बार चीनी सेना ने डोकलाम पर भारत को धमकी दी है. चीनी सेना की ओर से कहा गया है कि संयम की सीमा खत्म हो रही है और भारत को तुरंत पीछे हट जाना चाहिए. PLA की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि चीन अपनी सीमा की रक्षा के लिए पूरी तरह तैयार है.

चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता और पीएलएन के कर्नल रेन गुओकियांग की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि चीन ने गुडविल दिखाते हुए इस मामले पर अभी कूटनीतिक हल का रास्ता अपनाया है. लेकिन इसकी भी एक सीमा है और संयम खत्म होने की ओर है.

चीनी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने उल्टे भारत पर आरोप लगाते हुए कहा कि भारत को इस भ्रम से खुद को निकाल देना चाहिए कि देर करने से डोकलाम समस्या का हल हो जाएगा. धमकी देते हुए चीनी सेना के प्रवक्ता ने कहा कि चीन की जमीन को कोई भी देश ले नहीं सकता. चीनी सेना अपने भूभाग और संप्रभुता की रक्षा के लिए पूरी तरह सक्षम है.

50 दिनों से सिक्किम सेक्टर के पास भारत-चीन-भूटान के बीच ट्राईजंक्शन पर जारी तनाव और भारत-चीन की सेनाओं के आमने-सामने डटने के बीच चीन की ओर से लगातार धमकी भरी भाषा का इस्तेमाल किया जाता रहा है. हाल ही में भारत में स्थित चीनी दूतावास की ओर से 15 पेज का बयान जारी किया गया था जिसमें डोकलाम में भारत की मौजदूगी को गलत ठहराने की कोशिश की गई थी. इससे पहले चीन ने बीजिंग में स्थिति विदेशी दूतावासों, सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य देशों के प्रतिनिधियों और जी-20 के प्रतिनिधियों को डोकलाम में भारत के खिलाफ फर्जी सबूत पेश कर भड़काने की कोशिश कर चुका है.

भारत का क्या है स्टैंड?

गुरुवार को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने राज्यसभा में चीन के मामले पर बयान दिया और कहा कि युद्ध कोई विकल्प नहीं. भारत-चीन और भूटान इस मामले का समाधान बातचीत से निकालेंगे. सुषमा स्वराज ने कहा कि भारत अपने सम्मान की रक्षा के लिए तैयार है लेकिन शांति को प्राथमिकता देना हमारी नीती है. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने चीन को डोकलाम इलाके को लेकर 2012 के त्रिपक्षीय समझौते के पालन की सलाह भी दी.

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay