एडवांस्ड सर्च

ईरान की चीन से डील, भारत को झटका, रेल प्रोजेक्ट से किया किनारे

इस रेल प्रोजेक्ट को ईरान की इस्लामिक रिपब्लिक रेलवे और इंडियन रेलवे कंस्ट्रक्शन लिमिटेड को पूरा करना था. सूत्रों का कहना है कि अमेरिका के प्रतिबंध और दबाव के चलते भारत इस प्रोजेक्ट की फंडिंग में देरी कर रहा था.

Advertisement
aajtak.in
गीता मोहन नई दिल्ली, 15 July 2020
ईरान की चीन से डील, भारत को झटका, रेल प्रोजेक्ट से किया किनारे ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी और पीएम मोदी (फाइल फोटो)

  • ईरान और चीन के बीच हुई 400 अरब डॉलर की डील
  • ईरान ने कहा- भारत के लिए हमेशा खुले रहेंगे दरवाजे

ईरान ने सामरिक रूप से अहम चाबहार जाहेदान रेल प्रोजेक्ट से भारत को दरकिनार कर दिया है. ईरान ने अकेले ही इस रेल प्रोजेक्ट को पूरा करने का फैसला किया है. ईरान के इस फैसले को भारत के लिए झटका माना जा रहा है. हालांकि ईरान ने यह भी साफ किया है कि इस प्रोजेक्ट में भारत के लिए दरवाजे बंद नहीं हैं. अगर भारत इस प्रोजेक्ट में शामिल होना चाहता है, तो हो सकता है.

चाबहार जाहेदान रेल प्रोजेक्ट से भारत को दरकिनार किए जाने का मामला उस समय सामने आया है, जब ईरान और चीन 25 साल के लिए 400 अरब डॉलर के आर्थिक और सुरक्षा सामरिक भागीदारी डील को अंतिम रूप देने जा रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक भारत द्वारा इस प्रोजेक्ट की फंडिंग में देरी किए जाने की वजह से ईरान ने यह फैसला लिया है.

इसे भी पढ़ेंः ईरान के भूमिगत परमाणु संवर्धन संयंत्र की ऊपरी इमारत में लगी आग

ईरान के फर्स्ट वाइस प्रेसिडेंट इशाघ जहांगिरी ने कहा कि चाबहार जाहेदान रेल प्रोजेक्ट के लिए ईरान सरकार ने नेशनल डेवलपमेंट फंड से 30 करोड़ डॉलर देने का फैसला लिया है. इससे पहले इस रेल प्रोजेक्ट को ईरान की इस्लामिक रिपब्लिक रेलवे (RAI) और इंडियन रेलवे कंस्ट्रक्शन लिमिटेड (IRCON) को पूरा करना था.

भारत के लिए हमेशा खुले हैं दरवाजेः ईरान

सूत्रों के मुताबिक ईरान सरकार का यह भी कहना है कि इस प्रोजेक्ट में इंडियन रेलवे कंस्ट्रक्शन लिमिटेड के शामिल होने के लिए रास्ते हमेशा खुले हैं. अमेरिका के प्रतिबंध और दबाव के चलते भारत के रुचि नहीं लेने को ओर संकेत करते हुए ईरानी प्रशासन ने कहा कि भारत के साथ ईरान के रिश्तों की कोई सीमा नहीं हैं. एक दोस्त के रूप में भारत का हमेशा स्वागत किया गया है और आगे भी किया जाएगा. किसी तीसरे पक्ष को भारत और ईरान के सौहार्दपूर्ण ऐतिहासिक रिश्तों को बिगाड़ने की इजाजत नहीं दी जा सकती है.

1_071520042733.jpg

भारत भी चाहता है कि रेलवे लाइन का हो निर्माणः ईरान

मकरान डेवलपमेंट काउंसिल के पहले सत्र में इशाघ जहांगिरी ने कहा कि ईरान सरकार ओमान सागर में मकरान के दक्षिणी तटीय इलाकों के विकास को तवज्जो देती है. भारत, ईरान और अफगानिस्तान के बीच त्रिपक्षीय समझौते के तहत रेलवे लाइन का निर्माण हो, यह भारत भी चाहता है. इसका मकसद अफगानिस्तान और मध्य एशिया में व्यापार के लिए एक वैकल्पिक रास्ता बनाना है.

अमेरिकी प्रतिबंधों के चलते फंड देने में भारत कर रहा देरी

सूत्रों का कहना है कि चाबहार बंदरगाह के अलावा इस रेलवे प्रोजेक्ट में भी भारत की अहम भागीदारी की उम्मीद की जा रही थी. हालांकि भारत की अरुचि के चलते ईरान सरकार ने अकेले ही इसको पूरा करने का फैसला लिया है. सूत्रों का कहना है कि अमेरिका के प्रतिबंधों की वजह से भारत इसके लिए फंडिंग देने में देरी कर रहा था.

इसे भी पढ़ेंः अमेरिका चीन को क्यों बनने दे रहा चौधरी? ट्रंप ने खुद दिए ये 12 मौके

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay