एडवांस्ड सर्च

शिवाजी के रहते कोई नहीं जीत सका यह किला

रायगढ़ चारों तरफ से पहाड़ी जंगलों से घिरा हुआ प्रदेश है. महान मराठा राजा शिवाजी ने 1674 ईस्वी में इसे अपनी राजधानी बनाया था और यहीं उन्होंने 1680 में अपने प्राण त्याग दिए थे. पहले इसका नाम रायरी था जिसे शिवाजी ने बदल कर रायगढ़ कर दिया.

Advertisement
aajtak.in
अभिजीत श्रीवास्तवनई दिल्ली, 16 September 2015
शिवाजी के रहते कोई नहीं जीत सका यह किला

रायगढ़ चारों तरफ से पहाड़ी जंगलों से घिरा हुआ प्रदेश है. महान मराठा राजा शिवाजी ने 1674 ईस्वी में इसे अपनी राजधानी बनाया था और यहीं उन्होंने 1680 में अपने प्राण त्याग दिए थे. पहले इसका नाम रायरी था जिसे शिवाजी ने बदल कर रायगढ़ कर दिया. रायगढ़ पश्चिमी भारत का ऐतिहासिक क्षेत्र है. यह मुंबई के ठीक दक्षिण में स्थित है.
महाद से 27 किलोमीटर दूर उत्तर की ओर और मुंबई से 210 किलोमीटर दूर रायगढ़ स्थित है. यहां स्थित है रायगढ़ का किला जो 5.12 वर्ग किलोमीटर में फैला है. यह कोंकण समुद्रतटीय मैदान का हिस्सा है, इसका क्षेत्र लहरदार और आड़ी-तिरछी पहाड़ियों वाला है. रायगढ़ सह्याद्रि पहाड़ियों की खड़ी ढलुआ कगारों से अरब सागर के ऊंचे किनारों तक पहुंचता है. इसके तीन प्रमुख बिंदु हैं- पश्चिम में हिराकनी, उत्तर में तकामक और पूर्व में भिवानी.
रायगढ़ पहुंचने का एक ही रास्ता है. शायद शिवाजी का एक ही रास्ता बनाने के पीछे ये उद्देश्य रहा होगा कि उनके अपने पराये तो यहां आसानी से पहुंच सकें लेकिन दुश्मनों के लिए किले के अंदर पहुंचना आसान ना हो सके.
रायगढ़ का यह किला समुद्र तल से 1350 मीटर ऊंचा है. इस किले पर जाने के लिए पहले 1400-1450 सीढि़यां चढ़नी पड़ती थी. लेकिन अब इस किले पर जाने के लिए रोपवे की व्‍यवस्‍था है. रायगढ़ के इसी किले में शिवाजी ने अपना राज्‍याभिषेक करवाया था और छत्रपति की उपाधि धारण की थी. यह किला शिवाजी के जीवनकाल तक अविजित बना रहा.
इस किले में प्रवेश के लिए कई दरवाजें थे. एक नगरखाना दरवाजा था जिससे आम लोग किले में प्रवेश करते थे. मीना दरवाजे से महिलाएं प्रवेश करती थीं. यह दरवाजा सीधे रानी महल को जाता था. पालकी दरवाजे से राजा तथा उनका दल प्रवेश करता था. महल का मुख्‍य दरवाजा महा दरवाजा था. पालकी दरवाजे के एक ओर तीन अंधेरे कमरे थे. इतिहासकारों का मानना है कि ये कमरे किले के अन्‍न भंडार थे. किले के भग्‍नावशेष के सामने छत्रपति शिवाजी की मूर्ति स्‍थापित है. यहां ए‍क गंगासागर झील भी है. इस झील में उस समय गंगा नदी का पानी डाला गया था. गंगा नदी के जल को उस समय शिवाजी के राज्‍यभिषेक के लिए लाया गया था. इस झील के नजदीक जीजामाता महल तथा जगदि‍श्‍वर मंदिर है जिसे जरूर देखना चाहिए.
क्या है इतिहास
रायगढ़ पहले रायरी के नाम से जाना जाता था. 1656 ईस्वी में चंद्रराव मोरे से शिवाजी ने कब्जा कर लिया था. इससे पहले भी इस शहर पर कई शासकों ने सत्ता संभाली. शिवाजी ने रायरी को अपनी राजधानी चुनी और इसका नाम रायगढ़ रखा. अबाजी सोनदेव और हिरोजी इन्डूल्कर ने यहां बहुत सारा निर्माण कार्य कराया. रायगढ़ में करीब 300 घर बनाए गए. शिवाजी के बाद 1689 ईस्वी तक किले पर संभाजी का शासन रहा. इसके बाद इस पर मुगलों ने कब्जा कर लिया. 1818 ईस्वी में रायगढ़ में अंग्रेजों ने कब्जा कर लिया.
रायगढ़ के आसपास क्या देखें
चौदर तालाब
महाद शहर के मध्‍य में चौदर तालाब है. पहले पिछड़ी जाति के लोगों को इस तालाब से पानी लेने से मनाही थी. 1927 ईस्वी में भीमराव अंबेडकर ने इस तालाब से पानी लेकर इस परंपरा को तोड़ डाला. इस घटना के समय उनके साथ दस हजार लोग थे. यह घटना बाद में महाद सत्‍याग्रह के नाम से प्रसिद्ध हुई.
सबनाला झरना
यह एक पानी का झरना है. माना जाता है कि इस झरने के पानी में रोगनाशक शक्तियां हैं. स्‍थानीय लोगों का मानना है कि इस झरने में नहाने से चर्म रोग दूर हो जाता है.
शिवतारगढ़ गुफा
यहां से 55 किलोमीटर दूर शिवतारगढ़ नामक एक ऐतिहासिक गुफा है. लोगों का मानना है कि शिवाजी के आध्‍यात्मिक गुरु रामदास ने इस गुफा में 16 सालों तक निवास किया था. कुछ लोगों का यहां तक मानना है कि उन्‍होंने इसी गुफा में प्रसिद्ध ‘दसबोध’ नामक ग्रंथ की रचना की थी.
वालान कुंड
वालान कुंड ताजे पानी का एक कुंड है. अगर आप इस कुंड में खाने की कोई वस्‍तु फेंकेगे तो सात बार मछलियां इसे खाने के लिए बाहर आती हैं. लेकिन हर बार म‍छलियों का अलग-अलग झुंड बाहर आता है और बाद में आने वाली मछलियों का झुंड पहले वाली मछलियों के झुंड से बड़ा होता है.
कैसे पहुंचे
नजदीकी एयरपोर्ट मुंबई और पुणे है. मुंबई एयरपोर्ट की दूरी किलोमीटर है जबकि पुणे एयरपोर्ट की दूरी किलोमीटर है. रेलमार्ग से यहां पहुंचने के लिए पहले मुंबई या पुणे पहुंचे फिर वहां से कोंकण रेलवे के जरिए लोनावाला, चिकाला या पनवेल पहुंचें. यहां से टैक्सी पकड़ आप रायगढ़ किला पहुंच सकते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay