एडवांस्ड सर्च

Advertisement

जानें, नोटबंदी से क्यों डरे विदेशी सैलानी?

नोटबंदी से डरे दिल्ली में आने वाले विदेशी सैलानियों ने दिसंबर बुकिंग कैंसिल करवा दी हैं. इस वजह से दिल्ली के पर्यटन बाजार पर काफी फर्क पड़ रहा है...
जानें, नोटबंदी से क्यों डरे विदेशी सैलानी? नोटबंदी
रवीश पाल सिंह [Edited by: वंदना यादव]नई दिल्ली, 04 January 2017

यूं तो नोटबंदी से दिल्ली का हर तबका प्रभावित रहा लेकिन नोटबंदी का एक बड़ा असर उन लोगों पर हुआ है जो इस देश में रहते ही नहीं है. हम बात कर रहे हैं उन विदेशी सैलानियों की जो नोटबंदी के बाद से ही दिल्ली में ना के बराबर आ रहे हैं.

राजस्थान में नया साल मनाने उमड़े पर्यटक, नोटबंदी का असर नहीं

दिल्ली के पहाडगंज इलाके में इस सीजन में जहां कमरे खाली नहीं मिलते थे वहां इस बार होटल व्यवसायी सैलानियों के इंतजार में बैठे हैं. यहां होटल चलाने वाले सौरभ छाबड़ा की मानें तो विदेशी सैलानियों के मन में इस बात का डर है कि क्या उन्हें भारत में घूमने, ठहरने या खाने से पहले कहीं एटीएम या बैंक की लाइन में तो नहीं लगना पड़ेगा.

दिल्ली घूमने जा रहे हैं तो कैश जरूर ले जाएं

सौरभ के मुताबिक कई विदेशी सैलानियों ने जो बुकिंग दिसंबर की करवाई थी उसे भी कैंसिल कर दिया. सौरभ के मुताबिक देसी सैलानियों के कारण थोड़ी राहत है लेकिन विदेशी सैलानियों का ये डर जब तक पूरी तरह दूर नहीं होगा पहाडगंज की रौनक अधूरी रहेगी.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay