एडवांस्ड सर्च

Advertisement

'राम मंदिर के लिए 370 सीटें जरूरी'

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि विश्वास के संकट को खत्म करना नरेंद्र मोदी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि रही है. केंद्र सरकार के एक साल पूरे होने पर नई दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने यह बात कही.
'राम मंदिर के लिए 370 सीटें जरूरी' Amit Shah
aajtak.in [Edited By: कुलदीप मिश्र]नई दिल्ली, 26 May 2015

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि विश्वास के संकट को खत्म करना नरेंद्र मोदी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि रही है. केंद्र सरकार के एक साल पूरे होने पर नई दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने यह बात कही.

उन्होंने कहा, 'आज यह सरकार एक साल पूरा कर रही है. सरकार के काम-काज के आकलन के कई तरीके होते हैं. कोई आंकड़ों से करता है, कोई उलब्धियों से करता है.' उन्होंने पूर्ववर्ती यूपीए सरकारी की खामियां गिनाते हुए अपनी सरकार की उपलब्धियां बताईं.

— ANI (@ANI_news) May 26, 2015 अमित शाह ने कहा कि मेरी राय में सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि यह है कि इसने विश्वास के संकट को खत्म कर दिया था. पहले ब्यूरोक्रेसी और कैबिनेट को प्रधानमंत्री पर भरोसा नहीं था. अब यह संकट टल गया है. दुनिया भी आश्चर्य से भारत की प्रगति को देख रही है. सरकार ने नई पहल की हैं और कामयाबियां पाई हैं. उन्होंने कहा कि देश में बिजली का उत्पादन 8.6 फीसदी बढ़ा है.

इस दौरान 'आज तक' ने अमित शाह से पूछा कि दाऊद इब्राहिम को भारत कब लाया जाएगा. इस पर बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, 'यह सरकार लंबे समय तक रहने वाली है, इंतजार कीजिए'.

अमित शाह से पूछा गया कि कार्यकर्ता और समर्थक राम मंदिर जैसे 'कोर मुद्दों' पर काम चाहते हैं, वह इतना बड़ा जनादेश होने के बाद भी नहीं हो रहा है. इस पर अमित शाह ने कहा, 'अब भी सरकार को इतना बहुमत नहीं मिला है जितना कोर मुद्दों पर काम करने के लिए चाहिए. आपको मालूम होना चाहिए कि सरकार को इसके लिए 370 सीटें चाहिए. संविधान पढ़ लीजिए.'

'सब्सिडी छोड़िए, गरीबों के लिए करेंगे इस्तेमाल'
उन्होंने आर्थिक रूप से समर्थ लोगों से एक बार फिर सब्सिडी छोड़ने की अपील करते हुए 'गिव इट अप' का नारा दोहराया. उन्होंने कहा, 'जिन लोगों पर ईश्वर का आशीर्वाद है वे गैस सिलेंडर की सब्सिडी छोड़ दें. सरकार गारंटी देती है कि वह पैसा सरकारी खजाने में जमा नहीं होगा. बल्कि धुआं खाकर खाना पकाने वाली किसी महिला के आंसू पोंछने के लिए हम उसको लगा देंगे. ढाई लाख से ज्यादा लोग 'गिव इट अप' को मान चुके हैं.'

उन्होंने कहा, 'यह सरकार विजिबल सरकार रही है. पहले सरकार को ढूंढना पड़ता था. अब मीडिया से भी आगे प्रो-एक्टिव होकर सरकार मदद के लिए तत्पर दिखाई पड़ती है. जम्मू-कश्मीर में बाढ़, नेपाल में भूकंप के तुरंत बाद सरकार के प्रतिनिधि वहां दिखाई पड़ते हैं.'

'जीरो लॉस थ्योरी वाले सामने आएं'
उन्होंने कहा, 'पहले सरकार को ढूंढना पड़ता था. कई दिनों तक पुकार लगाने पर कहीं किसी कोने से बयान आता था.' बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि एनडीए सरकार के एक साल के कार्यकाल में विपक्ष भी भ्रष्टाचार का कोई आरोप नहीं लगा सका. उन्होंने कहा कि हमने महज 20 कोयला खदानों के आवंटन से 2 लाख करोड़ रुपये का इजाफा राजकोश में किया है. यानी सीएजी ने कोल स्कैम से जो नुकसान होने का आकलन किया था, वह कम था. 'जीरो लॉस थ्योरी' देने वाले लोगों को एक बार फिर जनता का सामना करना चाहिए. 'काले धन के वकील चाहते हैं नाम सार्वजनिक हों'
अमित शाह ने कहा कि लोग काले धन को लेकर हमारी आलोचना करते हैं लेकिन कांग्रेस ने पिछले 60 सालों में इस मुद्दे पर क्या किया है? बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, सत्ता में आने के बाद हमारा पहला कदम काले धन के खिलाफ ही था. हम काला धन वापस लाने को लेकर कटिबद्ध हैं. लेकिन जो लोग ब्लैक मनी के खाताधारकों के नाम सार्वजनिक करने की बात करते हैं, वे निश्चित रूप से काला धन के वकील हैं. अंतरराष्ट्रीय ट्रीटी के मुताबिक अगर हमने वे नाम सार्वजनिक कर दिए तो भारत को आगे कोई जानकारी नहीं मिलेगी.

अमित शाह ने कहा, 'आप क्या चाहते हैं? जांच पूरी हो और काला धन वापस आए? या भारत को जानकारी मिलना बंद हो जाए ताकि जो नाम सामने नहीं आए हैं, उन्हें बचाया जा सके.'

उन्होंने कहा कि गृह मंत्रालय पहले 'कहीं का ईंट, कहीं का रोड़ा, भानुमति ने...' की तर्ज पर चलता था. लेकिन अब देश की सभी एजेंसियों को एक सूत्र में जोड़ने का काम गृह मंत्रालय ने किया है जिससे आंतरिक सुरक्षा को मजबूती मिली है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay