एडवांस्ड सर्च

ददुआ डकैत को मारने वाले जांबाज पुलिस अफसर ने सुनाई अपनी कहानी

पिताजी कहा करते थे कि पुलिसवाले का एक पैर जेल में और एक अर्थी पर होता है. मैं जानता था कि पुलिसकर्मी की लाइफ टफ है लेकिन पुलिस से ज्यादा किसी क्षेत्र में रहकर समाज की सेवा नहीं की जा सकती है.

Advertisement
aajtak.in (Edited by: प्रज्ञा बाजपेयी)लखनऊ, 07 October 2017
ददुआ डकैत को मारने वाले जांबाज पुलिस अफसर ने सुनाई अपनी कहानी विजय कुमार के साथ अमिताभ यश

लल्लन टॉप शो के सुपर कॉप सेशन में तमिलनाडु कैडर के आईपीएस अधिकारी के विजय कुमार और यूपी एसटीएफ चीफ अमिताभ यश शामिल हुए. इन दोनों अफसरों से अपनी जाबांजी के किस्से सुनाए. विजय कुमार पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के सुरक्षा दस्ते में रह चुके हैं और वीरप्पन की मारने वाली टीम का हिस्सा थे. वहीं अमिताभ यश ने यूपी के ददुआ जैसे कुख्यात डाकुओं को मौत के घाट उतारा.

'ददुआ' को मार गिराने वाले अभिताभ यश ने कहा कि मेरी परवरिश ही थाने की है. उन्होंने बताया कि उनके पिता भी पुलिस में थे और पढ़ना-लिखना भी उन्होंने थाने की टेबल से सीखा. उन्होंने बताया कि वह अक्सर बैरक में ही भोजन किया करते थे.

उन्होंने बताया, "पिता जी चाहते थे कि पुलिस सेवा न ज्वॉइन करूं, पिताजी कहा करते थे कि पुलिसवाले का एक पैर जेल में और एक अर्थी पर होता है. मैं भी जानता था कि पुलिसकर्मी की लाइफ टफ है लेकिन पुलिस से ज्यादा किसी क्षेत्र में रहकर समाज की सेवा नहीं की जा सकती है. 21 साल की अपनी नौकरी में मुझे संतुष्टि है, मैं कहीं और होता तो इतना संतुष्ट नहीं होता.

अमिताभ ने एंटी-डकैत ऑपरेशन का हिस्सा रहे एक सदस्य के बारे में भी बताया. उन्होंने कहा, "अनिश्चितताओं के बीच पुलिसवाले थोड़े अंधविश्वासी हो जाते हैं. एक व्यक्ति ऐसा था जो ज्योतिषी जानता था. वो जो शख्स था, वो भविष्य बताता था. हम लोग हाथ दिखवा लेते थे. हम उससे पूछते थे कि इस ऑपरेशन में कब सफलता मिलेगी. उसकी कई भविष्यवाणियां सच भी हुईं. इससे टीम को प्रेरित करने में मदद मिलती थी."

अमिताभ ने बताया, "उरई मेरी पहली रणभूमि थी, वहां मेरे जितने अधिकारी थे उनका या तो ट्रांसफर हो जाता था या सस्पेंड हो जाते थे. मैं यही सोचकर उतरा था कि यहां के डकैतों से निपटूंगा. मैंने अपने एक अधिकारी दलजीत चौधरी से काफी कुछ सीखा. वहां जो सफलताएं मिलीं, वहां जो तौर-तरीके सीखे, उसे बाद में एंटी डकैत ऑपरेशन में इस्तेमाल किया. मेरे साथ जो टीम थी उसमें एक से बढ़कर एक लोग थे."

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay