एडवांस्ड सर्च

महिला सीईओ ने रची एचआर एक्जीक्यूटिव को बदनाम करने की साजिश

ज़रा सोचिए किसी महिला के बारे में अगर ऐसी बातें कोई आम कर दे तो क्या हो? वो भी सोशल नेटवर्क पर. और महिला भी कोई ऐसी-वैसी नहीं बल्कि किसी बड़ी कंपनी में किसी बड़े पद पर बैठी महिला.

Advertisement
aajtak.in
आजतक ब्यूरोमुंबई, 20 October 2011
महिला सीईओ ने रची एचआर एक्जीक्यूटिव को बदनाम करने की साजिश

एचआर विभाग में काम करने वाली ये महिला जान बुझ कर कम उम्र के लोगो को कंपनी में नौकरी पर रखती है. ताकि वो उनके साथ शारीरिक संबंध बना सके. इसीलिए ये जल्दी-जल्दी नए लोगों को नौकरी पर रखती है और पुराने लोगों को बदलती जाती है. कंपनी छोड कर गए ऐसे बहुत से लोगो के साथ भी इस महिला के ऐसे ही संबंध रहे हैं.

ज़रा सोचिए किसी महिला के बारे में अगर ऐसी बातें कोई आम कर दे तो क्या हो? वो भी सोशल नेटवर्क पर. और महिला भी कोई ऐसी-वैसी नहीं बल्कि किसी बड़ी कंपनी में किसी बड़े पद पर बैठी महिला.

दो औरतों के बीच लड़ाई-झग़ड़े, जलन की कई कहानी आपने सुनी होगी. पर यकीन मानिए किसी जलन की साजिश की ऐसी कहानी आपने नहीं होगी. दो हाई प्रोफाइल औरतें. दोनों एक मलटीनेशनल कंपनी की मुलाजिम. एक कंपनी की सीईओ तो दूसरी एचआऱ की सीनियर अफसर और फिर तभी एक रोज़ अचानक कुछ ऐसा होता है जो इससे पहले कभी किसी कंपनी में नहीं हुआ.

मुंबई.माया नगरी मुंबई.मुंबई में सबकुछ रोजमर्रा की तरह ही चल रहा था.लेकिन कोई था जिसकी ज़िंदगी में तूफान आ चुका था.लेकिन उसे अपनी ज़िंदगी में आने वाले इस तूफान के बारे में भनक तक नहीं थी.

सरिता (बदला हुआ नाम) मुंबई में एक बड़ी मल्टीनेश्नल कंपनी में काम करती थी और हर रोज़ की ही तरह घर से अपने दफ्तर जाने के लिए तैयार हो रही थी.और उसी तरह घर से दफ्तर के लिए निकली भी. वो अपने कदम अपने दफ्तर की तरफ बढ़ा रही थी लेकिन उसे इस बात का गुमान भी नहीं था कि उसकी ज़िंदगी में एक तूफान आ चुका है.

और जैसे ही उसने अपने कदम अपने दफ्तर में रखे वो अपने साथ काम करने वालों के चेहरे देख कर हैरान रह गई.क्योंकि हर चेहरे पर एक सवाल था.हर एक आंख में एक तंज़ था और हर कोई उसे देख कर उससे बच कर निकलना चाहता था.

सरिता (बदला हुआ नाम) अपने सहयोगियों का ऐसा रवैया देख कर हैरान थी.वो जानना चाहती थी कि एक रात में ऐसा क्या हुआ है कि उसके साथ काम करने वाला हर शख्स बदल गया है.हर कोई उससे बचना चाहता है.अभी वो इन सवालों के बारे में सोच ही रही थी कि उसके साथ काम करने वाली मीता ने उसे बताया कि किसी ने एक सोश्ल बेवसाइट पर कुछ उल्टा-सीधा लिखा हुआ है.

मीता ने जैसे ही उस बेवसाइट को खोला तो वो भी अपने बारे में पढ़ कर हैरान रह गई.क्योंकि उसके बारे में जो लिखा था कि उसे पढ़ कर उसके भी पांव तले की ज़मीन खिसक गई.

अब सरिता को समझ में आ गया कि किसी ने उसके साथ बहुत ही भद्दा मज़ाक किया है और चरित्र पर कीचड़ उछाला है.अब उसे समझ में आया कि क्यों उसके ऑफिस के लोग उससे ठीक से बात नहीं कर रहे थे और क्यों ना ही प्रोडक्ट खरीदने वाले ग्राहक ही फोन उठा रहे थे.

सरिता को कुछ भी समझ में नहीं आ रहा था कि उसके साथ इतना गंदा मज़ाक करने वाला शख्स कौन है.और उसकी सरिता से ऐसी क्या दुश्मनी है जिसका बदला वो उसे बदनाम करके ले रहा है.

अपने सवालों का कोई जवाब मिलता ना देख उसने अपने पति को फोन लगाया और सारा किस्सा अपने पति को सुनाया. ये सब कुछ सुनने के बाद सरिता के पति ने उसे इस बारे में पुलिस में शिकायत दर्ज करवाने के लिए कहा.और अब मामला पुलिस तक पहुंच चुका था.
एचआर की सीनियर अफसर शर्म के मारे किसी से आंख भी नहीं मिला पा रही थी.

कंपनी के मुलाजिम उसे लगातार शक भरी निगाहों से देख रहे थे. उसे खुद समझ नहीं आ रहा था कि ये सब क्या और कैसे हो रहा है ? और फिर तभी पुलिस ने अपनी तहकीकात शुरू की. लेकिन उसके पास मुलज़िम तक पहुंचने का कोई सुराग नहीं था.लिहाजा मामले की जांच मुंबई साइबर सेल को सौंप दी गई.

पुलिस को मामले की तफ्तीश करते हुए ये तो मालूम हो गया था कि हो ना हो ये काम ऑफिस के ही किसी शख्स का है.लिहाज़ा उसने बेवसाइट पर सरिता के बारे में लिखे मैसेज की पड़ताल करनी शुरु की.और जल्द ही उसके हाथ एक कामयाबी लगी.

पुलिस को मैसेज को लिखने वाले कंप्यूटर का आईपी ऐड्रेस मिल चुका था.फौरन ही पुलिस की एक टीम उस घर की तरफ रवाना हो गई.लेकिन जब वो उस घर पर पहुंची तो वो भी हैरान रह गई.क्योंकि घर में रखे कंप्यूटर का मालिक कोई और नहीं बल्कि सरिता के कंपनी की सीईओ थी.

जब पुलिस ने इस मामले में सीईओ से पूछताछ की तो पहले तो उसने इम मामले के बारे में कोई जानकारी होने से इंकार कर दिया.लेकिन जब पुलिस ने उससे कड़ाई से पूछताछ की तो टूट गई और अपनी गुनाह कुबूल कर लिया.

इस महिला सीईओ ने पुलिस को बताया कि सरिता ने थोड़े ही वक्त में कंपनी में काफी तरक्की कर ली थी. और उसे ये बात पसंद नहीं थी. वो चाहती थी कि सरिता किसी भी तरह कंपनी के मालिक और ग्राहकों के साथ-साथ ऑफिस में भी बदनाम हो जाए. ताकि उसे नौकरी से निकाल दिया जाए.और इसी लिए उसने सरिता को बदनाम करने के लिए ये साज़िश रची थी.

एक कंपनी की सीईओ अपनी ही मातहत से जलकर ऐसी घिनौनी साजिश रचेगी ये शायद किसी ने नही सोचा था.

खैर पीड़ित महिला को भी जब इस बात का पता चला की उससे बदनाम करने की घिनौनी साजिश की सूत्रधार उसकी कंपनी की सीइओ ही है उसके होश फाक्ता हो गए लेकिन महिला होने के नाते उसने अपनी शिकायत तो वापस ले ली.वही पुलिस ने इस आरोपी महिला सीइओ से माफ़ी नाम लिखवा कर भविष्य में ऐसी हरकत न करने की चेतावनी ज़रूर दी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay