एडवांस्ड सर्च

क्रिकेट ही है भारत का ‘स्पोर्ट्स कल्चर’: सानिया

भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने क्रिकेट को ही भारत का ‘स्पोर्ट्स कल्चर’ करार देते हुए कहा कि धन के अभाव या बदकिस्मती की वजह से देश में उनके अलावा कोई महिला टेनिस खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अब तक नहीं उभर सकी.

Advertisement
aajtak.in
भाषालखनऊ, 22 December 2010
क्रिकेट ही है भारत का ‘स्पोर्ट्स कल्चर’: सानिया

भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने क्रिकेट को ही भारत का ‘स्पोर्ट्स कल्चर’ करार देते हुए कहा कि धन के अभाव या बदकिस्मती की वजह से देश में उनके अलावा कोई महिला टेनिस खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अब तक नहीं उभर सकी.

सहारा इंडिया द्वारा यहां सानिया से बतौर प्रायोजक जुड़ने की घोषणा सम्बन्धी कार्यक्रम में संवाददाताओं से बातचीत में टेनिस स्टार ने कहा कि देश का स्पोर्ट्स कल्चर सभी को पता है. यह कल्चर क्रिकेट ही है. हमें धर्य रखकर नए खिलाड़ियों का इंतजार करना होगा.

इस सवाल पर कि उनके अलावा कोई और भारतीय महिला टेनिस खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर क्यों नहीं उभर पाई, सानिया ने कहा कि इसका जवाब ढूंढना काफी मुश्किल है क्योंकि इसके कई कारण हो सकते हैं. शायद प्रतिभा की कमी, धन का अभाव या बदकिस्मती.

हाल में दुबई में 13वां हैबटूर टेनिस चैलेंज टूर्नामेंट जीतकर लौटीं सानिया ने कहा कि वह पिछले करीब ढाई वर्षों से फिटनेस खासकर कलाई की चोट की समस्या से जूझ रही थीं लेकिन गत छह-सात महीने से उनकी कलाई बिल्कुल ठीक है. यही वजह है कि पिछले दो-तीन महीनों में हुए टूर्नामेंटों में उनका प्रदर्शन अच्छा रहा है.

टेनिस स्टार ने एक अन्य सवाल पर कहा कि भारत के दिग्गज टेनिस खिलाड़ियों लिएंडर पेस और महेश भूपति दोनों के ही साथ जोड़ी बनाकर खेलना उनके लिये गर्व की बात है और वह भविष्य में भी इन दोनों ही खिलाड़ियों के साथ खेलना चाहेंगी.

खुशमिस्‍मत हूं कि सचिन के युग में जन्‍म लिया
सानिया मिर्जा ने कहा कि मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर को देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ देने का फैसला तो सरकार पर निर्भर है लेकिन वह खुशकिस्मत हैं कि उन्होंने इस महान बल्लेबाज के युग में जन्म लिया.

सानिया ने सचिन को भारत रत्न देने की मांग के बारे में पूछे गए सवाल पर कहा कि जहां तक अवार्ड देने या न देने की बात है तो यह सरकार का फैसले पर निर्भर है लेकिन मेरा मानना है कि सचिन न सिर्फ देश के लिये बल्कि दुनिया के लिये चमकता सितारा हैं.

उन्होंने कहा कि सचिन तेंदुलकर सिर्फ खिलाड़ियों ही नहीं बल्कि आम लोगों के लिये भी प्रेरणा के स्रोत हैं. मैं खुशनसीब हूं कि मैं इस युग में पैदा हुई हूं जिसमें सचिन खेल रहे हैं.

पिछले दिनों दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मुकाबले में अपना 50वां टेस्ट शतक पूरा करने वाले सचिन को उनकी इस उपलब्धि के बाद भारत रत्न से नवाजने की मांग तेज हो गई है. खिलाड़ी ही नहीं बल्कि राजनेता भी सचिन को देश का यह सर्वोच्च नागरिक सम्मान देने की वकालत कर रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay