एडवांस्ड सर्च

Advertisement

हमें तो खिलाड़ियों की सुरक्षा की चिंता है: हूपर

केन्द्रीय सतर्कता आयोग के भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद तीन अधिकारियों के निकाले जाने और अनेक घोटालें उजागर होने से बेपरवाह राष्ट्रमंडल खेल महासंघ के मुख्य कार्यकारी माइक हूपर की चिंताए अलग है. उनका कहना है कि अभी तक स्टेडियम पूरे नहीं बन पाये हैं और उनकी सबसे बड़ी परेशानी दुनिया के चोटी के खिलाड़ियों को यहां आने पर सुरक्षा मुहैया कराना है.
हमें तो खिलाड़ियों की सुरक्षा की चिंता है: हूपर
भाषानई दिल्‍ली, 06 August 2010

केन्द्रीय सतर्कता आयोग के भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद तीन अधिकारियों के निकाले जाने और अनेक घोटालें उजागर होने से बेपरवाह राष्ट्रमंडल खेल महासंघ के मुख्य कार्यकारी माइक हूपर की चिंताए अलग है. उनका कहना है कि अभी तक स्टेडियम पूरे नहीं बन पाये हैं और उनकी सबसे बड़ी परेशानी दुनिया के चोटी के खिलाड़ियों को यहां आने पर सुरक्षा मुहैया कराना है.

हूपर ने कहा, ‘‘इससे पहले हमें दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों की सुरक्षा के प्रति चिंता थी लेकिन अब हमें इन खेलों में भाग लेने आने वाले खिलाड़ियों की सुरक्षा की चिंता है.’’ प्रमुख अखबार ‘वाल स्ट्रीट जनरल’ ने भी दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान दुनिया के चोटी के खिलाड़ियों की सुरक्षा के प्रति सवाल उठाया है.

अखबार ने इन खेलों के बारे में भ्रष्टाचार को लेकर मीडिया में आ रही रिपोर्टों पर भी चिंता व्यक्त की है. हूपर ने कहा, ‘‘इस समय हम आरोप लगाकर आयोजकों की परेशानी को और नहीं बढ़ाना चाहते. खेल शुरू होने में दो माह से कम का समय शेष है अब हमें तुरंत कुछ जरूरी चीजों पर ध्यान देना है.
विदेशी खिलाड़ियों को लाने ले जाने के लिये परिवहन व्यवस्था पर प्राथमिकता से ध्यान देना होगा और इसके लिये पूर्व योजना तैयार करनी होगी.

हूपर ने कहा कि जमीनी हकीकत यह है कि स्टेडियमों के भीतर और बाहर अभी बहुत काम किया जाना बाकी है. सीवीसी के भ्रष्ट्राचार के आरोपों के बाद यह सुनिश्चित किया जाना जरूरी है कि ये स्टेडियम समय बन कर तैयार हो जाएंगे.

हूपर ने दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों को लेकर मीडिया में आ रही नारात्मक रिपोर्टों के प्रति चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि इससे इन खेलों की छवि पर असर पड़ रहा है.

भ्रष्ट्राचार के सिलसिलेवार आरोपों के बाद अपनी गिरती साख को बचाने की कवायद में दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों की आयोजन समिति ने कल एक आपात बैठक में तीन वरिष्ठ अधिकारियों को निलंबित कर दिया और प्रायोजक जुटाने के मकसद से एक आस्ट्रेलियाई कंपनी से किया गया करोड़ों रूपये का करार रद्द कर दिया.

आयोजन समिति पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद एक आपातकालीन बैठक बुलाई गई थी जिसमें समिति ने अपने को पाक साफ दर्शाने का प्रयास किया. आयोजन समिति ने इस बैठक में लंदन में क्वींस बेटन में कथित रूप से घोटाले में नाम आने के बाद अध्यक्ष कलमाडी के करीबी संयुक्त महानिदेशक टीएस दरबारी उप महानिदेशक संजय महिंद्रू और संयुक्त महानिदेशक :लेखा और वित्त: एम जयचंद्रन को निलंबित कर दिया.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay