एडवांस्ड सर्च

राष्ट्रमंडल स्टेडियमों में बंद रह सकते हैं मोबाइल

सुरक्षा एजेंसियां किसी भी तरह के आतंकवादी हमले को नाकाम करने के लिए राष्ट्रमंडल खेलों के स्टेडियमों में मोबाइल फोन जैमर लगाने पर विचार कर रही हैं.

Advertisement
भाषानई दिल्‍ली, 25 July 2010
राष्ट्रमंडल स्टेडियमों में बंद रह सकते हैं मोबाइल

सुरक्षा एजेंसियां किसी भी तरह के आतंकवादी हमले को नाकाम करने के लिए राष्ट्रमंडल खेलों के स्टेडियमों में मोबाइल फोन जैमर लगाने पर विचार कर रही हैं.

सूत्रों के मुताबिक एक पखवाड़े तक चलने वाली इस प्रतिष्ठित खेल प्रतियोगिता पर आतंकी हमले के खतरे को देखते हुए इस कदम कर विचार किया जा रहा है क्योंकि अतीत में कई मौकों पर आतंकी विस्फोटकों को उड़ाने के लिए मोबाइल फोन का इस्तेमाल कर चुके हैं.

अब तक खेलों के लिए कोई वास्तविक खतरा सामने नहीं आया है लेकिन सूत्रों ने बताया कि सरकार हर एतिहाती कदम उठाना चाहती है. पिछले साल मार्च में लाहौर में पाकिस्तान दौरे के दौरान श्रीलंका क्रिकेट टीम पर आतंकी हमले जैसी घटना नहीं दोहराई जाई इसके लिए सभी एतिहाती कदम उठाए जा रहे हैं.

सरकार ने आधुनिक हथियारों, उपकरणों, बख्तरबंद गाड़ियों, सीसीटीवी कैमरा, मेटल डिटेक्टर, बम को नाकाम करने वाले उपकरण और रासायनिक तथा जैविक हमलों से बचने के लिए सामान की खरीद के लिए 330 करोड़ रुपये का बजट स्वीकृत किया है.

दिल्ली में तीन से 14 अक्‍टूबर तक होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान 71 देशों के 10 हजार एथलीट और पांच लाख दर्शकों के यहां पहुंचने की उम्मीद है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay