एडवांस्ड सर्च

टीम इंडिया की आस्‍ट्रेलिया से जीतने की पूरी तैयारी

भारतीय टीम का आत्मविश्वास अपने उफान पर है. भारतीय टीम को यह अच्छी तरह अहसास है कि उसके पास आस्ट्रेलिया को हराने के लिए हर जरूरी तत्व मौजूद है. लेकिन इसके बावजूद उसे मेहमानों को कमतर आंकने की भूल नहीं करनी चाहिए.

Advertisement
aajtak.in
आईएएनएसबैंगलोर, 09 October 2008
टीम इंडिया की आस्‍ट्रेलिया से जीतने की पूरी तैयारी अभ्यास सत्र के दौरान भारतीय टीम के खिलाड़ी

भारतीय टीम का आत्मविश्वास अपने उफान पर है. भारतीय टीम को यह अच्छी तरह अहसास है कि उसके पास आस्ट्रेलिया को हराने के लिए हर जरूरी तत्व मौजूद है. लेकिन इसके बावजूद उसे मेहमानों को कमतर आंकने की भूल नहीं करनी चाहिए.

एक समय था जब आस्ट्रेलियाई टीम अपाराजेय थी. चरम पर रहते हुए उसने सभी टीमों को धूल चटाई थी लेकिन आज यह इतिहास बन चुका है. ग्लेन मैक्ग्रा, शेन वार्न और एडम गिलक्रिस्ट जैसे महारथियों के संन्यास लेने के बाद से आस्ट्रेलियाई टीम का अजेय रहने का प्रताप लगभग खत्म हो गया. यही कारण है कि रिकी पोंटिंग की इस टीम में वह आत्मविश्वास नहीं दिख रहा है जो वर्षो तक उसका हिस्सा रहीं.

मैथ्यू हेडन, साइमन कैटिच, माइकल हसी, माइकल क्लार्क, शेन वॉटसन और ब्रैड हेडिन जैसे खिलाड़ी भारत को मुश्किल में डाल सकते हैं. साथ ही भारत के खिलाफ खराब प्रदर्शन (आठ मैचों में 172 रन) के बावजूद कप्तान रिकी पोंटिंग अपनी चमक बिखेरने का पूरा माद्दा रखते हैं.

इसके अलावा आस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज ब्रेट ली, मिशेल जानसन और स्टुअर्ट क्लार्क में भारतीय बल्लेबाजी क्रम को नेस्तनाबूत करने की पूरी क्षमता है.

कुल मिला कर मेहमानों पर अपनी प्रतिष्ठा बचाने का दबाव है. तो दबाव भारत के चार महारथियों- सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली, लक्ष्मण और द्रविड़ पर भी है. अगर ये चार अपनी क्षमता के साथ साथ न्याय करने में अगर सफल रहे तो भारत निश्चित तौर पर जीतेगा और अगर नहीं कर पाए तो इनके आलोचकों को एकबार फिर इनके खिलाफ बोलने के लिए पर्ताप्त कारण मिल जाएगा.

बात गेंदबाजी की करते हैं. गेंदबाजी के क्षेत्र में भारत का पलड़ा काफी भारी दिखता है. संतुलन के लिहाज से भारतीय टीम समृद्ध है. एक ओर आस्ट्रेलियाई टीम के पास जहां एक भी विश्वस्तरीय स्पिनर नहीं है वहीं भारत के पास दो-दो विश्वस्तरीय स्पिनर हैं. इसके अलावा भारत के पास जहीर खान, इशांत शर्मा और मुनाफ पटेल जैसे तेज गेंदबाज भी हैं जिन्होंने आठ महीने पहले पोंटिंग की सेना को परेशानी में डाल दिया था.

दोनों देशों के बीच खेली गई पिछली श्रृंखला विवादों की भेंट चढ़ गई थी लेकिन आशा है कि इस श्रृंखला में एक बार फिर दो ऐसी टीमों के बीच बेहतरीन क्रिकेट देखने को मिलेगी जो पिछले सात वर्षों से वर्चस्व की लड़ाई लड़ रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay