एडवांस्ड सर्च

जब 'चीटर-चीटर' सुन चढ़ा कोहली का पारा...

वानखेड़े स्‍टेडियम में दर्शकों की छींटाकशी का शिकार हुए बैंगलोर के कप्तान विराट कोहली ने कहा कि टी20 प्रशंसक यह भूल जाते हैं कि वह भारत के लिये भी खेलते हैं और इस तरह के बर्ताव से खिलाड़ियों में नफरत पैदा होगी.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
आज तक वेब ब्‍यूरो/भाषामुंबई, 28 April 2013
जब 'चीटर-चीटर' सुन चढ़ा कोहली का पारा... विराट कोहली

वानखेड़े स्‍टेडियम में दर्शकों की छींटाकशी का शिकार हुए बैंगलोर के कप्तान विराट कोहली ने कहा कि टी20 प्रशंसक यह भूल जाते हैं कि वह भारत के लिये भी खेलते हैं और इस तरह के बर्ताव से खिलाड़ियों में नफरत पैदा होगी.

मुंबई के खिलाफ बैंगलोर के मैच के दौरान एक विवादित रनआउट के बाद वानखेड़े स्टेडियम पर दर्शकों ने कोहली की हूटिंग की. कोहली ने मुंबई के बल्लेबाज अंबाती रायुडू के रनआउट की अपील की थी जो अजीबोगरीब ढंग से आउट हुए.

रायुडू ने अपना बल्ला जमीन पर टिकाया था और बाद में बल्ला हवा में चला गया जब वह गेंदबाज विनय कुमार से टकराये. उसी समय कोहली के सीधे थ्रो ने गिल्लियां बिखेर दी.

बैंगलोर ने तीसरे अंपायर को फैसला सौंपा जिसने बल्लेबाज को आउट करार दिया. इससे दर्शक नाराज हो गए और उन्होंने कोहली को ‘चीटर (धोखेबाज)’ कहा.
कोहली को बल्लेबाजी और पुरस्कार वितरण समारोह के दौरान भी दर्शकों का क्रोध झेलना पड़ा.

मैच के बाद कोहली ने कहा कि जहां तक दर्शकों का सवाल है तो पहले भी कुछ खिलाड़ियों के साथ ऐसा हुआ है. मुझे समझ में नहीं आता कि टी20 के दौरान वे इतने उत्तेजित क्यो हो जाते हैं. टी20 ही सब कुछ नहीं है. वे यह भूल जाते हैं कि जिस खिलाड़ी की वे हूटिंग कर रहे हैं, वह देश के लिये भी खेलता है.

कोहली ने कहा कि इससे खिलाड़ियों में नफरत पैदा हो रही है. जब मैं भारत के लिये खेलूंगा तो वह मेरे लिये तालियां बजायेंगे. आप बैंगलोर आकर देखो तो पता चलेगा कि भारतीय खिलाड़ियों की कैसे तारीफ की जाती है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay